दूध का उत्पादन बढ़ाने तथा डेयरी व्यवसाय किसान के लिए और लाभकारी बने इसके लिए सरकार प्रयासरत है : कृषि मंत्री

0
22

बीआइटी पटना परिसर में सोसाईटी फॉर अपलिफ्टमेंट ऑफ रूरल इकोनॉमी द्वारा आयोजित कार्यशाला में राज्य के कृषि मंत्री डॉ. प्रेम कुमार ने कहा कि राज्य में दूध का उत्पादन बढ़ाने तथा डेयरी व्यवसाय किसान के लिए और लाभकारी बने इसके लिए सरकार प्रयासरत है इसके लिए सरकार ने राष्ट्रीय बोवाइन उत्पादकता मिशन शुरू किया है। इसके अंतर्गत ई-पशुधन हाट पोर्टल को विकसित किया गया है। यह पोर्टल देसी नस्लों के प्रजनकों तथा किसानों को जोड़ने का काम करेगा।
इसके साथ उन्होंने कहा की 22 लाख हेक्टेयर खेतों तक सिंचाई की सुविधा पहुंचाई जाएगी। इससे 17 जिलों के किसानों को फायदा होगा। उम्मीद तो यह भी की जा रही है कि राज्य में शीघ्र ही डीजल मुक्त खेती होगी। कृषि यंत्र बैंक भी शीघ्र ही बनाया जाएगा।

डॉ. कुमार आज बी.आई.टी पटना में किसानों के मुद्दों पर तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का उद्घाटन कर रहे थे। इस कार्यक्रम का आयोजन सोसाइटी फॉर अपलिटमेंट ऑफ रूरल इकोनॉमी, बिहार द्वारा राज्य के विभिन्न संस्थानों यथा बिहार कृषि विविद्यालय, सबौर, भागलपुर, डॉ. राजेन्द्र प्रसाद केन्द्रीय कृषि विविद्यालय, पूसा, समस्तीपुर, बिहार पशु विज्ञान विविद्यालय, पटना, बिड़ला तकनीकी संस्थान, पटना , एवं अटारी, पटना के संयुक्त तत्वावधान में किया गया था।

यह भी पढ़े  पटना मे पेस इंस्टिट्यूट का शुभारम्भ

उन्होंने कहा कि दूध का उत्पादन बढ़ाने तथा डेयरी व्यवसाय किसान के लिए और लाभकारी बने इसे केंद्र में रख सरकार ने राष्ट्रीय बोवाइन उत्पादकता मिशन शुरू किया है। इसके अंतर्गत ई-पशुधन हाट पोर्टल को विकसित किया गया है। यह पोर्टल देसी नस्लों के प्रजनकों तथा किसानों को जोड़ने का काम करेगा।

Patna-Oct.20,2018-Bihar Agriculture Minister Prem Kumar is lighting the lamp to inaugurating international conference on Rural Livelihood Improvement by Enhancing Farmer’s Income through Sustainable Innovative Agri and Allied Enterprises at Birla Institiute of Technology (BIT) in Patna

उन्होंने कहा कि राज्य में कृषि के क्षेत्र में रिकॉर्ड तोड़ उत्पादन हुआ है। पहले किसानों को फर्टिलाइजर के लिए लाइन लगानी पड़ती थी। लाठियां खानी पड़ती थीं, हमारी सरकार ने किसानों के कल्याण के लिए वे काम किये जो पिछले 48 वर्षो में नहीं हो पाए थे। हमने किसानों तक नीम कोटेड यूरिया उपलब्ध करायी। कृषि मंत्री ने कहा कि सरकार किसानों की माली हालत में सुधार के लिए काम कर रही है। हमारी प्राथमिकता किसानों की आमदनी बढ़ाना है। मोदी सरकार भी उसी दिशा में काम कर रही है। हम किसानों के आंसू पोंछकर उनके चेहरे पर मुस्कराहट लाएंगे। खेती के तरीके को समय के अनुसार बदलना होगा। हम खेती को उन्नत तकनीक से जोड़ रहे हैं।

यह भी पढ़े  जलवायु परिवर्तन है बड़ी चुनौती : नीतीश

कृषि मंत्री डॉ. प्रेम कुमार ने मंगलवार को कहा कि नीली क्रांति के उद्देश्य को हासिल किए जाने को केंद्र में रख तीन हजार करोड़ रुपए की एक योजना घोषित की गई है। इसके तहत 2019-20 तक मछली उत्पादन में 50 प्रतिशत की बढ़ोतरी कर उसे 15 मिलियन टन किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि मिट्टी और जलवायु के हिसाब से खेती की योजना बन रही है। रबी और खरीफ की फसलों के अलावा फूल,फल, मशरूम, गन्ना आदि की खेती को बढ़ावा दिया जाएगा। लीची सहित फसलों का किसानों को लाभकारी मूल्य दिया जाएगा। दूसरे राज्यों में बेहतर खेती के लिए किस तरह का काम हो रहा है, इसका भी यहां अध्ययन किया जा रहा है। जरूरत के हिसाब से इसे यहां भी लागू किया जाएगा। इस मौके पर कुलपति डॉ. एके सिंह व मुख्य सचिव दीपक कुमार लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड से सम्मानित भी किया गया।

Patna-Oct.20,2018-Bihar Agriculture Minister Prem Kumar is being honoured during international conference on Rural Livelihood Improvement by Enhancing Farmer’s Income through Sustainable Innovative Agri and Allied Enterprises at Birla Institiute of Technology (BIT) in Patna.

इस कार्यक्रम में बिहार कौशल विकास मिशन, बिहार सरकार, डॉ. अजय कुमार सिंह, कुलपति बिहार कृषि विविद्यालय, सबौर, भागलपुर, डॉ. बी.के सिंह, निदेशक, बिड़ला तकनीकी संस्थान, डॉ. अंजनी कुमार, निदेशक, अटारी, मंजू लता सिंह, अध्यक्ष, सोसाइटी फॉर अपलिफ्टमेंट ऑफ रूरल इकोनॉमी बिहार , पटना सुधा डेयरी के प्रबंध निदेशक सुधीर कुमार सिंह सहित कई देश-विदेश के वैज्ञानिकगण उपस्थित थे।

यह भी पढ़े  मोदी समेत भाजपा नेताओं ने सुनी पीएम के मन की बात

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here