विदेश मत्री सुषमा स्‍वराज द्वारा संसद के दोनों सदनों में दिये बयान के बाद पाक की सफाई

0
58

कुलभूषण जाधव को उनकी मां एवं पत्नी से मिलवाने के दौरान की गई बेअदबी पर पाकिस्‍तान ने एक बार फिर बचाव करते हुए कहा है कि भारत के साथ द्विपक्षीय सहमति के बाद ये मुलाकात हुई थी. पाकिस्‍तान ने कहा है कि 40 मिनट की मुलाकात के दौरान कुलभूषण जाधव ने इंग्लिश में आराम से मां और पत्‍नी के साथ बातचीत की.

संसद के दोनों सदनों में दिये एक बयान में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि 22 माह बाद एक मां की अपने बेटे से और एक पत्नी की अपने पति से होने वाली ‘‘भावपूर्ण भेंट को पाकिस्तान ने एक दुष्प्रचार के हथियार के रूप में इस्तेमाल किया.’’ उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी अधिकारियों ने सुरक्षा के नाम पर जाधव की मां और पत्नी के कपड़े बदलवाए, उनके मंगलसूत्र, बिंदी सहित उनके गहने उतरवा लिए. इस पर पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री ख्वाजा अहमद आसिफ ने भारत के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि 25 दिसंबर को पत्नी और मां से जाधव की मुलाकात मानवता के आधार पर कराई गई थी.

यह भी पढ़े  आइसीजे में आज जवाब दाखिल करेगा पाक

पाकिस्‍तान का कहना है कि पहले तो मुलाकात का वक्त 30 मिनट ही तय था, लेकिन अनुरोध पर इसे बढ़ाकर 40 मिनट किया गया. उन्होंने दावा किया कि जाधव की मां ने मुलाकात के बाद पाकिस्तान का शुक्रिया अदा किया था. बुधवार को पाकिस्तानी मीडिया की रिपोर्टों में कहा गया था कि पाकिस्तानी अधिकारियों ने जाधव की पत्नी के जूते को फॉरेंसिक जांच के लिए भेज दिया है ताकि जूते में किसी बाहरी चीज की संदेहास्पद मौजूदगी की प्रकृति का पता लगाया जा सके.

पाकिस्तान के विदेश कार्यालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल के हवाले से कहा गया था कि अधिकारियों को पता लगाना था कि जूते में मौजूद ‘‘धात्विक वस्तु’’ कोई कैमरा या रिकॉर्डिंग चिप तो नहीं थी. विदेश मंत्री ने कहा कि पाकिस्तान की ओर से ‘‘मानवता दिखाने से’’ यह तथ्य खत्म नहीं हो जाता कि ‘‘जाधव भारतीय नौसेना का एक सेवारत अधिकारी है और एक दोषी भारतीय आतंकवादी एवं जासूस है.’’ उन्होंने कहा कि इसी वजह से समग्र सुरक्षा जांच जरूरी थी. कूटनीतिक माध्यमों से दोनों देश इस पर पहले ही सहमत हो चुके थे. जाधव के परिवार से ‘‘आदर एवं गरिमा’’ के साथ बर्ताव किया गया और पूरी तरह सुरक्षा कारणों से कपड़े बदलवाए गए एवं गहने उतरवाए गए.

यह भी पढ़े  अंडरवर्ल्‍ड में कलह- दाऊद इब्राहीम के दाएं हाथ छोटा शकील ने 'D' कंपनी से नाता तोड़ा!

संसद में सुषमा स्‍वराज ने कहा कि जाधव की पत्नी के जूते मुलाकात के पहले उतरवा कर उन्हें चप्पल पहनाई गई थी. मुलाकात के बाद बार बार मांगने पर भी उनके जूते नहीं लौटाए गए. उन्होंने कहा ‘‘लगता है कि पाकिस्तानी अधिकारी इसमें भी कोई शरारत करने वाले हैं जिसके बारे में हमने उन्हें बुधवार भेजे गए एक वर्बल नोट में सचेत कर दिया है.’’ उन्होंने कहा कि अब पाकिस्तानी अधिकारी कह रहे हैं कि जूतों में चिप, कैमरा या रिकॉर्डर लगा था. ये आरोप सत्यता से पूरी तरह परे हैं. उन्होंने कहा कि दोनों महिलाओं की दिल्ली, दुबई और पाकिस्तान में सुरक्षा संबंधी जांच हुई और इन हवाईअड्डों पर सुरक्षा जांच के दौरान ऐसे किसी उपकरण का पता नहीं चला.

इस पर पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री ने कहा कि मुलाकात के बाद जाधव की मां और पत्नी ने अपने पहले वाले कपड़े पहन लिए और उनके रवाना होने से पहले उनका सारा सामान उन्हें वापस कर दिया गया. हालांकि, जाधव की पत्नी के जूते रख लिए गए, क्योंकि उनमें से एक में ‘‘धात्विक चिप’’ होने के कारण वे सुरक्षा जांच में खरे नहीं उतर सके. उन्होंने कहा कि उनके जूतों की जांच हो रही है.

यह भी पढ़े  अमेरिका में दो हफ्ते से लापता भारतीय बच्ची का शव मिलने की आशंका

इस्लामाबाद में 25 दिसंबर को जाधव की उनकी मां और उनकी पत्नी से हुई मुलाकात के बारे में संसद के दोनों सदनों में दिये एक बयान में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि 22 माह बाद एक मां की अपने बेटे से और एक पत्नी की अपने पति से होने वाली ‘‘भावपूर्ण भेंट को पाकिस्तान ने एक दुष्प्रचार के हथियार के रूप में इस्तेमाल किया.’’ उन्होंने कहा कि पाकिस्तानी अधिकारियों ने सुरक्षा के नाम पर जाधव की मां और पत्नी के कपड़े बदलवाए, उनके मंगलसूत्र, बिंदी सहित उनके गहने उतरवा लिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here