FIFA: विश्व चैंंपियन जर्मनी को हराकर मेक्सिको ने रचा इतिहास, विश्व कप में पहली बार हुआ ऐसा

0
86

21वें फीफा महाकुंभ में स्पेन और अर्जेटीना के बाद गत चैंपियन और विश्व की नंबर वन टीम जर्मनी की भी खराब शुरुआत हुई। दुनिया की 5वें नंबर की टीम मेक्सिको ने रविवार को ग्रुप एफ के मुकाबले में मौजूदा चैंपियन जर्मनी को 1-0 से हराकर टूर्नामेंट का सबसे बड़ा उलटफेर किया। इसी के साथ मेक्सिको की टीम ने इतिहास रच दिया क्योंकि ये उसकी विश्व कप में जर्मनी के खिलाफ पहली जीत रही।

इससे पहले अकेले क्रिस्टियानो रोनाल्डो के दम पर पुर्तगाल ने सितारों से सजी स्पेन से मैच 3-3 से ड्रॉ खेला था जबकि 330,000 आबादी वाले देश आइसलैंड ने अर्जेटीना को 1-1 से ड्रॉ पर रोक दिया। जर्मनी के खिलाफ एकमात्र हिरविंग लोजानो (35वें मिनट) ने दागा। मैच जीतने के बाद मेक्सिकन टीम के खिलाड़ी मैदान पर, तो प्रशंसक दर्शक दीर्घा में रोते हुए खुशी का इजहार कर रहे थे।

मेक्सिको ने पिछले विश्व कप में खेलते हुए अभी तक अपना पहला मैच नहीं गंवाया है। उसने जर्मनी के खिलाफ अपनी पहली जीत दर्ज की। मैच की शुरुआत से ही मेक्सिको ने दबाव बनाया। डेढ़ मिनट के अंदर ही लोजानो ने अच्छा शॉट मारा जो जर्मन पोस्ट के साइड से निकल गया। तीसरे मिनट में कन्फडरेशन कप में गोल्डन बूट हासिल करने वाले खिलाड़ी वर्नर ने हमला किया लेकिन उनका शॉट भी निशाने पर नहीं लगा। मेक्सिकन टीम ने पहले हाफ में इतने काउंटर अटैक किये कि जर्मन टीम की हालत खराब हो गई। मेक्सिको के तीन मिडफील्डर आंद्रेस ग्वार्दादो, हेक्टर हेरारा, जेवियर हर्नाडेज और फॉरवर्ड हिरविंग लोजानो का मैच में तालमेल देखने लायक था और इन्होंने बायीं तरफ से जर्मन पोस्ट पर हमला किया। 13वें मिनट में जर्मनी के टोनी क्रूस के पास को जोशुआ किमिच ने हेडर से मिस कर दिया।

यह भी पढ़े  सुप्रीम कोर्ट में आज टली अयोध्‍या केस की सुनवाई पर किसने क्‍या कहा

35वें मिनट में हुआ गोल

पहले हाफ से पहले गेंद मेक्सिको के डी में थी लेकिन मोरेनो ने जर्मन खिलाड़ियों को मुस्तैदी से रोका और गेंद हेरारा को दी फिर हेरारा ने लोजानो को पास किया। लोजानो ने डिबलिंग करते हुए जर्मन फुटबॉलर ओजिल को छकाते हुए कर दिया। जर्मनी के अनुभवी कीपर मुंह ताकते रह गए और 1-0 से आगे हो गया। कुछ देर बाद मैच में उतार-चढ़ाव चलता रहा लेकिन 38वें मिनट में जर्मनी के पास वापसी करने का बेहतरीन मौका था। टोनी क्रूस ने डी के बाहर से अच्छा शॉट लगाया और कीपर ने गेंद को फ्लिक कर दिया जिससे गेंद बार पर लगकर बाहर चली गई। जर्मनी ने मेक्सिको पर दबाव डाला और इसी दौरान मैच को धीमा करने के कारण मेक्सिकन फुटबॉलर मोरानो को यलो कार्ड मिला।

मेक्सिको ने धीमा किया खेल

दूसरे हाफ में कोच की रणनीति के हिसाब से दोनों टीमें अपनी शैली में खेलने लगी। मेक्सिकन मैच को थोड़ा धीमा खेलने लगे और जर्मन गेंद को अपने पास रखने की कोशिश करते हुए छोटे-छोटे पास कर रहे थे। हालांकि मेक्सिकन डिफेंडरों ने उन्हें खुलने नहीं दिया। डिफेंडर हुगो आयला और मोरानो ने उनकी रणनीति को खराब किया। 56वें मिनट में मेक्सिकन टीम ने पुरानी रणनीति के हिसाब से काउंटर अटैक किया। जेवियर हर्नाडेज ने बढ़िया पास अपने साथी खिलाड़ी गुआडरे को दिया लेकिन वह करने में नाकाम रहे। इसके एक मिनट बाद ही मेक्सिकन कोच ने अपनी रणनीति को बदलते हुए वेला को बेंच पर बुलाया और उनकी जगह डिफेंसिव मिडफील्डर एडसन अल्वारेज को मैदान में भेजा।

यह भी पढ़े  भारत को कबड्डी में नहीं मिलेगा गोल्ड, सेमीफाइनल में ईरान ने 27-18 से हराया

अल्वारेज ने अपनी जिम्मेदारी अच्छी तरह निभाई। 64वें मिनट में जर्मन टीम को गोल करने का मौका मिला लेकिन उसके खिलाड़ी की बाइसिकिल किक काफी धीमी थी इसलिए गेंद कीपर के हाथों में चली गई। 66वें मिनट में जर्मनी के वर्नर को मौका मिला लेकिन वह करने से चूक गए। उसी समय काउंटर अटैक में मेक्सिकन टीम ने अच्छा काम किया। फर्नाडीज ने काउंटर अटैक किया लेकिन कीपर ने उसे बचा लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here