BJP के एक और दलित सांसद का ‘हल्ला बोल’, उदित राज बोले- 2 अप्रैल के बाद बढ़े अत्याचार

0
34

उत्तर प्रदेश में सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी के दलित सांसदों की नाराजगी थमनी नहीं दिख रही है. इसी कड़ी बीजेपी में बड़ा दलित चेहरा माने जाने वाले सांसद उदित राज ने भी खुलकर अपनी नाराजगी जाहिर कर दी है. उदित राज ने आरोप लगाया कि इस सप्ताह के शुरू में भारत बंद के दौरान हिंसक प्रदर्शन के बाद देश के विभिन्न हिस्सों में उनके दलित समुदाय के सदस्यों को प्रताड़ित किया जा रहा है.

उदित राज ने एक ट्वीट में कहा , ‘दो अप्रैल को हुए आंदोलन में हिस्सा लेने वाले दलितों पर अत्याचार की खबरें मिल रही है और यह रुकना चाहिए.’ उन्होंने कहा ,‘दो अप्रैल के बाद दलितों को देशभर में प्रताड़ित किया जा रहा है, बाडमेर, जालौर, जयपुर, ग्वालियर, मेरठ, बुलंदशहर, करौली और अन्य स्थानों के लोगों के साथ ऐसा हो रहा है. न केवल आरक्षण विरोधी बल्कि पुलिस भी उन लोगों को पीट रही है. फर्जी मामले लगा रही है.’

उत्तर पश्चिम दिल्ली सीट से सांसद उदित राज ने कहा कि ग्वालियर में उनकी ओर से चलाये जा रहे दलित संगठन के एक कार्यकर्ता को प्रताड़ित किया गया. हालांकि उसने कुछ भी गलत नहीं किया था. उल्लेखनीय है कि अनुसूचित जाति / जनजाति ( अत्याचार निवारण ) अधिनियम को कथित रूप से कमजोर किये जाने के खिलाफ दो अप्रैल को किये गये भारत बंद के दौरान हुए हिंसक प्रदर्शन में कम से कम 11 लोगों की मौत हो गई थी और कई अन्य घायल हो गये थे.

यह भी पढ़े  बहुत कठिन है डगर इस 'आंदोलन' की , अन्ना तब और अब

बीजेपी के कई दलित सांसद जता चुके हैं नाराजगी
दलित मुद्दे पर विपक्ष की ओर से हमले का सामना कर रही बीजेपी अब उत्तरप्रदेश में अनुसूचित जाति के अपने सांसदों के असंतोष का सामना कर रही है. राज्य में अगले लोकसभा चुनाव में पार्टी के लिए इसे बहुत महत्वपूर्ण माना जा रहा है. SC/ST कानून को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर दलितों के हालिया प्रदर्शन के बाद, खासकर सार्वजनिक रूप से अपनी नाखुशी जताने वाले दलित सहयोगियों के साथ इटावा और नगीना के लोकसभा सदस्य अशोक कुमार दोहरे और यशवंत सिंह भी शामिल हो गए.

MP अशोक कुमार दोहरने पीएम को लिखा खत
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र में दोहरे ने कहा कि देश भर में खासकर उत्तरप्रदेश में दलित और आदिवासियों को विरोध प्रदर्शन के बाद पुलिस झूठे मामले में फंसा रही है. इससे उनके बीच असुरक्षा की भावना बढ़ रही है.

उन्होंने बताया कि उन्होंने मुद्दे पर मोदी से भी मुलाकात की और उनकी प्रतिक्रिया सकारात्मक रही. कहा ,‘वह मेरी चिंताओं के प्रति संवेदनशील थे.’ हालांकि , प्रधानमंत्री को अपने पत्र में उन्होंने मुखर होकर आलोचना की थी.

यह भी पढ़े  कर्नाटक चुनाव में 'Caste ही King', ये हैं चार संभावनाएं

उन्होंने कथित तौर पर कहा था कि पिछले चार साल में दलितों के लिए कुछ नहीं किया गया. साथ ही कहा कि समुदाय से उनके जैसे प्रतिनिधियों को अपने निर्वाचन क्षेत्र की चिंताओं के समाधान में मुश्किलें हो रही है.

रॉबर्ट्सगंज से सांसद छोटेलाल भी पीएम मो लिख चुके हैं पत्र
उन्होंने कहा कि कई न्यायिक फैसलों से उनके अधिकारों को चोट पहुंची है. उन्होंने मांग की कि सरकार को निजी क्षेत्र में आरक्षण सहित समुदाय के कल्याण के लिए कानून लाना चाहिए.

इन दो सांसदों के पहले , रॉबर्ट्सगंज से लोकसभा सदस्य छोटेलाल ने मोदी को पत्र लिखकर आरोप लगाया था कि उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के समक्ष मामला उठाने पर उन्होंने फटकार लगा दी थी.

बीजेपी के इन तीन दलित सांसदों ने अपनी चिंताओं से अवगत कराने के लिए मोदी से संपर्क किया, लेकिन बहराइच की सांसद सावित्री बाई फुले ने एक तरह से पार्टी के खिलाफ मोर्चा ही खोल दिया. उन्होंने पिछले महीने लखनऊ में संविधान बचाओ रैली की, जिसमें बीजेपी के झंडे और प्रतीकों का इस्तेमाल नहीं हुआ.

बीजेपी ने 2014 में उत्तरप्रदेश में 80 में से 71 सीटें जीती थी और अनुसूचित जाति के उम्मीदवारों के लिए आरक्षित 17 सीटों पर शानदार जीत हासिल की थी.

यह भी पढ़े  'अविश्‍वास प्रस्‍ताव लेकर आए विपक्ष, हम सामना करने को तैयार':अमित शाह

दलित सांसदों की नाराजगी के बीच CM योगी से मिले PM मोदी
उत्तरप्रदेश में दलित सांसदों की नाराजगी खुलकर सामने आने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने मुलाकात की. मुख्यमंत्री कार्यालय के सूत्रों ने बताया कि आदित्यनाथ ने राज्य में अंबेडकर जयंती के अवसर पर 14 अप्रैल को आयोजित होने वाले कार्यक्रम के विषय में चर्चा की. इसके अलावा 14 अप्रैल से 5 मई के बीच आयोजित होने वाले कार्यक्रमों के बारे में भी योगी आदित्यनाथ ने प्रधानमंत्री को जानकारी दी.

सीएम योगी जाएंगे गुजरात
योगी आदित्यनाथ शनिवार को दिल्ली आए थे. उनका रविवार को गुजरात के मेहसाणा में एक धार्मिक कार्यक्रम में भाग लेना प्रस्तावित है. मुख्यमंत्री के अलावा राज्य के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने भी प्रधानमंत्री से मुलाकात की है.

उत्तरप्रदेश भाजपा सूत्रों ने मौर्य की प्रधानमंत्री से मुलाकात की पुष्टि की है. लेकिन मौर्य के कार्यालय ने इस बारे में अनभिज्ञता जतायी. मौर्य के कार्यालय सूत्रों ने इस बात की पुष्टि की कि वह दिल्ली में हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here