उसूलों पर जहां आंच आए, वहां टकराना जरूरी है:भूपेंद्र सिंह हुड्डा

0
203

हरियाणा के पूर्व मुख्‍यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा अब अपनी ही पार्टी की खिलाफत करते नजर आ रहे हैं. जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के पक्ष में भूपेंद्र सिंह हुड्डा दिखाई दिए और इसका विरोध करने वाले अपनी ही पार्टी के नेताओं पर निशाना साधा.पूरे देश में कांग्रेस की हालत बेहद खराब है। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने और सूबे को दो केंद्रशासित प्रदेशों में बांटने के सरकार के फैसले के बाद तो कांग्रेस पार्टी से अलग-अलग सुर सामने आ रह हैं। अब हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने रोहतक में एक जनसभा में इस मुद्दे को लेकर अपनी पार्टी से खुले आम नाराजगी जाहिर कर दी।

हरियाणा में चुनावी बिगुल फूंकते हुए कांग्रेस के कद्दावर नेता और पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा ने अनुच्छेद 370 पर पार्टी के आधिकारिक रुख से दूरी बनाते हुए साफ किया है कि वो देशभक्ति और स्वाभिमान के साथ समझौता नहीं कर सकते. इसके साथ ही पूर्व सीएम ने चुनावी वादों की भरमार करते हुए कहा कि अगर उनकी सरकार बनी, तो अलग-अलग जातियों के चार उप मुख्यमंत्री बनाए जाएंगे.

यह भी पढ़े  लालू प्रसाद बहादुर नेता हैं, उन्हें केस में फंसाया जा रहा है:

चुनाव में सूबे की सभी जातियों को अपनी ओर खींचने की कवायद में हुड्डा ने कहा कि पहले भी 10 साल तक सरकार चलाई है और 36 बिरादरियां साथ दें, तो फिर से 10 साल सरकार चलाउंगा. इसके लिए 13 विधायकों सहित 25 सदस्यीय कमेटी बनाएंगे और कमेटी के सुझाव के मुताबिक काम करेंगे.

वादों की झड़ियां लगाते हुए उन्होंने रोहतक में विशाल रैली को संबोधित किया और कहा कि प्राइवेट नौकरियों में हरियाणा के लोगों के लिए 75 फीसदी आरक्षण का प्रावधान किया जाएगा. बुढ़ापा पेंशन पांच हजार रुपए महीना किया जाएगा और हरियाणा रोडवेज में महिलाओं का सफर मुफ्त में होगा.

बीएस हुड्डा रोहतक में आयोजित रैली में ये बात बोलते हुए कहा कि आज खुद को अतीत से मुक्‍त करता हूं. मुझे नेताओं व रैली में मौजूद लोगों द्वारा कोई भी फैसला लेने का जो अधिकार दिया है उसके लिए मैं एक कमेटी का गठन करुंगा. कमेटी की सलाह पर इस बारे में कोई भी फैसला लूंगा.

यह भी पढ़े  सूबे में सात चरणों में होगा लोकसभा चुनाव,नवादा विधानसभा का उपचुनाव 11 अप्रैल व डेहरी विधानसभा का 19 मई को

भूपेंद्र सिंह हुड्डा के इस बयान से ऐसा प्रतित होता है कि वो खुद को कांग्रेस पार्टी से अलग करने वाले हैं. उनका इशारा कुछ इस तरफ ही था.

हुड्डा ने रैली में कहा कि हरियाणा बर्बादी की ओर है. किसान तबाह हो रहे हैं और बेरोजगारी बढ़ रही है. वहीं कांग्रेस नेता करण सिंह दलाल की भी इस रैली में अलग ही रूप देखने को मिला. करण सिंह दलाल ने साफ कहा कि कांग्रेस नेतृत्‍व यदि हरियाणा में पार्टी की कमान हुड्डा को नहीं दे तो अलग राह अपनाई जाए.

वहीं, इस रैली में पूर्व स्पीकर और कांग्रेस नेता रघुबीर कादियान ने एक लाइन का प्रस्ताव रखा और कहा कि बीएस हुड्डा जो भी फैसला लेंगे, हम सब उनके साथ है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here