विभागीय कार्यो को गति देने में जुटे मंत्रीगण

0
257
PATNA RAJ BHVAN MEINBIHAR SERKAR KE MANTARY MANDAL KE VISTAR MEIN 8 MANTARIYON KO SAPATH SAMAROH MEIN CM NITISH KUMAR AND OTHER

कला, संस्कृति एवं युवा विभाग के मंत्री प्रमोद कुमार ने आज विभाग के अंतर्गत आने वाले सांस्कृतिक कार्य निदेशालय, पुरातत्व निदेशालय, संग्रहालय निदेशालय और खेल निदेशालय के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। बैठक में उन्होंने जिला स्तर के खेल पदाधिकारियों, खेल कैलेंडर, भवन निर्माण विभाग द्वारा कराये जा रहे कायरे के बारे में विस्तार से जानकारी ली। मंत्री ने खेल कैलेंडर के अनुसार संबंधित अधिकारियों से अब तक हुए कायरे की मासिक रिपोर्ट भी जमा कराने का आदेश दिया, जिनकी समीक्षा वे स्वयं करेंगे।इसके अलावा मंत्री ने प्रदेश के सांसद, विधायक व अन्य जनप्रतिनिधियों के साथ प्रधान सचिव और तमाम जिलाधिकारियों से भी विभाग से जुड़े मामलों में सुझाव मांगने की बात कही। साथ ही उन्होंने लुक महोत्सव, लखौरा मोहत्सव, चंपारण सत्याग्रह महोत्सव, भूइंया माई महोत्सव, कुरूक्षेत्र महोत्सव, भगवान झारका महोत्सव, बैरिया देवी मोहत्सव आदि के आयोजन को लेकर भी र्चचा की। साथ ही नुक्कड़ नाटक के द्वारा शराबबंदी, स्वच्छ भारत और महात्मा गांधी सत्याग्रह के प्रदर्शन की बात कही।समीक्षा बैठक में मंत्री ने कहा कि कला, संस्कृति एवं युवा विभाग का जो काम भवन निर्माण द्वारा पूरा नहीं हो सका है, उसे बिहार राज्य पुल निर्माण निगम से विभाग के मुख्य सचिव और प्रधान सचिव से स्वीकृति लेकर पीडब्ल्यूडी के नियमानुसार कराने का विचार किया जायेगा। समीक्षा बैठक में कला, संस्कृति एवं युवा विभाग के अपर सचिव दीपक आनंद के साथ सभी निदेशालयों के अधिकारी मौजूद रहे।

यह भी पढ़े  COVID-19: लॉकडाउन पर पीएम मोदी ने कहा- इसे एकाएक हटाना संभव नहीं होगा, देश में राष्ट्रीय आपातकाल जैसी स्थिति

लाभुकों को राज्य और प्रमंडल स्तर पर मिले प्रशिक्षण : रजक
राज्य के उद्योग मंत्री श्याम रजक ने मुख्य मंत्री अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति उद्यमी योजना की समीक्षा करते साफ कहा कि जरूरत है कि इस योजना को और गति प्रदान की जाए। उद्योग मंत्री आज अपने कार्यालय कक्ष में अपर मुख्य सचिव सहित विभाग के अन्य पदाधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक कर रहे थे। उद्योग मंत्री ने समीक्षा के क्रम में विभागीय पदाधिकारियों से कहा कि मुख्यमंत्री राज्य के अनुसूचित जाति/जनजाति के सर्वागिंण विकास के लिए कृत संकल्पित हैं। मुख्यमंत्री की इस इच्छा को पूरा करने के लिए उद्योग मंत्री ने सुझाव देते कहा कि इस योजना को गति प्रदान करने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति, उद्यमी योजना का प्रशिक्षण राज्यस्तर पर पटना स्थित प्रशिक्षण संस्थान के अलावा प्रमंडलीय स्तर पर प्रशिक्षण संस्थानों का चयन कर लाभुकों को प्रशिक्षण दिलाने की पूरी व्यवस्था करनी होगी। साथ ही सभी जिला उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधकों को नोडल पदाधिकारी बनाकर संबंधित प्रमंडल में प्रशिक्षण कराने की व्यवस्था अविलम्ब सुनिश्चित की जानी चाहिए। ताकि प्रतीक्षा सूची के लाभार्थियों को जल्द से जल्द प्रशिक्षण में शामिल किया जा सके। प्रथम किस्त के लिए आधारभूत संरचना जैसे शेड, मकान इत्यादि का सत्यापन कर दूसरे किस्त, जीएसटी बिल इत्यादि, आधारभूत संरचना भवन या शेड जिसके चलते दूसरा किस्त बाधित न हो की राशि जारी करने हेतु मार्ग प्रशस्त किया जाय। उन्होंने इस मौके पर योजना के शत-प्रतिशत कार्यान्वयन हेतु लक्ष्य निर्धारण कर प्रत्येक 15 दिनों में इसकी समीक्षा किये जाने का निदेश भी दिया।

यह भी पढ़े  'जब नाश मनुज पर छाता है पहले विवेक मर जाता है':उपेंद्र कुशवाहा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here