गरीब कल्याण रोजगार अभियान के तहत बिहार में 3‚540.56 करोड हुआ खर्च : सुमो

0
31

उद्यमी–व्यावसायियों की प्रतिष्ठित संस्था एसोचैम की ओर से आयोजित अखिल भारतीय वेबिनार ‘प्रवासी मजदूरः अवसर एवं चुनौतियां’ को केन्द्रीय श्रममंत्री संतोष गंगवार की उपस्थिति में सम्बोधित करते हुए उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा घोषित गरीब कल्याण रोजगार अभियान के तहत बिहार में 3‚540.56 करोड खर्च कर 2 करोड 47 हजार मानव कार्य दिवस का सृजन किया गया है। श्रमिकों को स्वयं सहायता समूह और लोक उपक्रमों के जरिए भी रोजगार उपलब्ध कराया जा रहा है। साथ ही उन्होंने अन्तरराज्यीय प्रवासी श्रमिक अधिनियम को रद्’ कर नया कानून बनाने का सुझाव दिया। ॥ श्री मोदी ने कहा कि प्रवासी श्रमिकों के रोजगार के लिए राज्य सरकार ने प्रत्येक जिले में ‘डि्ट्रिरक्ट इनोवेशन स्कीम’ के तहत 50–50 लाख रुपये दिए हैं। मजदूरों के स्वयं सहायता समूहों के7–7 कलस्टर को टेलरिंग‚ वुड फर्नीचर‚ रेडीमेड गारमेंट‚ पेवर ब्लॉक‚ बम्बू क्राफ्ट‚चमडे के जूते–चप्पल निर्माण‚ मखाना‚ मक्का आदि कायोंर् से जोड कर उन्हें आधारभूत संरचना व अन्य कायोंर् के लिए 10–10 लाख रुपये की वित्तीय सहायता जिले की ओर से दी जा रही है। अब तक 266 कलस्टरों के माध्यम से 10‚503 प्रवासी श्रमिकों को रोजगार उपलब्ध कराया गया है। प्रवासी मजूदरों के घर की महिलाओं को बडी संख्या में जीविका समूह से जोडा गया है। लोक उपक्रमों को प्रवासी मजदूरों का कलस्टर बना कर उन्हें रोजगार उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है। प्रवासी श्रमिकों को नए सिरे से परिभाषित करने‚हरेक मजदूर को यूनिक आईडी‚ईपीएफ और ईएसआईएस की सुविधा तथा वन नेशन वन राशन कार्ड की तर्ज पर सरकार की सभी जनकल्याणकारी योजनाओं का लाभ देने जैसे कदम उठाने की जरूरत है।

यह भी पढ़े  तेजस्वी यादव ने VIDEO ट्वीट कर प्रधानमंत्री-स्वास्थ्य मंत्री से की प्रार्थना, कहा...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here