गाजियाबाद: मृतक पत्रकार के परिजनों को 10 लाख रुपये के मुआवजे का ऐलान, पत्नी को नौकरी

0
43

गाजियाबाद के पत्रकार विक्रम जोशी हत्याकांड का सीएम योगी आदित्यनाथ ने लिया है. सीएम योगी ने पत्रकार के परिवार को 10 लाख रुपये की आर्थिक सहायता का मुहैया कराने का ऐलान किया है. इसके अलावा सीएम ने पत्रकार विक्रम जोशी की पत्नी को सरकारी नौकरी, बच्चों को फ्री शिक्षा प्रदान करने की भी बात कही है.

बता दें कि पत्रकार विक्रम जोशी सोमवार को जब अपने दो बेटियों के साथ जा रहे थे, तभी उनकी बाइक को रोककर उनके साथ मारपीट की. आरोपियों ने विक्रम जोशी के सिर में गोली मार दी थी. जिसके बाद उन्हें गाजियाबाद के योशोदा अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उनकी हालत गंभीर बनी हुई थी. बुधवार सुबह उन्होंने दम तोड़ दिया. परिजनों से न्याय ना मिलने तक पत्रकार के शव का अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया था.

अब इस मामले में यूपी सीएम ने संज्ञान लेते हुए मदद का ऐलान किया है. वहीं हमले में शामिल आरोपी रवि समेत कुल 9 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. इसके अलावा प्रताप विहार चौकी इंचार्ज राघवेंद को कार्रवाई ना करने पर सस्पेंड भी किया गया है. दरसअल, विक्रम ने कुछ दिनों पहले विजय विहार के प्रताप विहार चौकी में अपनी भांजी के साथ की गई छेड़छाड़ के खिलाफ शिकायत दी थी लेकिन पुलिस ने उनकी शिकायत को नजरअंदाज कर दिया. कार्रवाई न होने पर बदमाश हावी हो गए और विक्रम पर जानलेवा हमला कर दिया. वरदात के समय पत्रकार की दोनों बेटियां साथ थीं.

यह भी पढ़े  जम्मू-कश्मीर: आज से शुरू होगा सरकारी कार्यालयों में काम, नमाज के बाद मिल सकती है प्रतिबधों में ढील

गाजियाबाद में पत्रकार विक्रम जोशी की हत्या पर सियासी पारा बढ़ गया है. कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पर निशाना साधा है. राहुल गांधी ने ट्वीट करके कहा कि वादा था राम राज का, दे दिया गुंडाराज.

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा, ‘अपनी भांजी के साथ छेड़छाड़ का विरोध करने पर पत्रकार विक्रम जोशी की हत्या कर दी गयी. शोकग्रस्त परिवार को मेरी सांत्वना. वादा था राम राज का, दे दिया गुंडाराज.’

भाजपा ने यूपी के साथ दुश्मनों जैसा व्यवहार किया है। वरना भला अपराध को इस स्तर पर कौन पहुंचने देता है। जो हितैषी होता है, वो तो बिलकुल नहीं।

बेटी बचाओ का नारा कहीं पीछे छूट गया;अपराध खत्म करने के दावे धराशायी हो गए।
ऐसा यूपी तो नहीं चाहिए था किसी को! ममता ने योगी सरकार पर साधा निशाना

यह भी पढ़े  संयुक्त अरब अमीरात के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ज़ायेद मेडल से प्रधानमंत्री मोदी सम्मानित

वहीं, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा, ‘एक निडर पत्रकार विक्रम जोशी के परिवार के प्रति मेरी हार्दिक संवेदना. अपनी भतीजी से छेड़छाड़ करने वालों पर एफआईआर दर्ज कराने के लिए उन्हें यूपी में गोली मार दी गई थी. देश में भय का माहौल हो गया है. आवाजों को दबाया जा रहा है. मीडिया को नहीं बख्शा जा रहा है.’

मायावती बोलीं- यूपी में क्राइम वायरस हावी
बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने कहा कि पूरे यूपी में हत्या व महिला असुरक्षा सहित जिस तरह से हर प्रकार के गंभीर अपराधों की बाढ़ लगातार जारी है उससे स्पष्ट है कि यूपी में कानून का नहीं बल्कि जंगलराज चल रहा है अर्थात् यूपी में कोरोना वायरस से ज्यादा अपराधियों का क्राइम वायरस हावी है. जनता त्रस्त है. सरकार इस ओर ध्यान दे.

यूपी कांग्रेस ने सीएम योगी का मांगा इस्तीफा
उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा, ‘गाजियाबाद के पत्रकार विक्रम जोशी नहीं रहे. उनकी गलती यह थी कि उन्होंने अपनी भांजी के खिलाफ हो रहे छेड़खानी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई थी. पीड़ित परिजनों के प्रति मेरी गहरी संवेदना है. ये यूपी के जंगलराज का क्रूर चेहरा है.’

यह भी पढ़े  सर्जिकल स्ट्राइक का सबूत मांगने वाली कांग्रेस से और क्या उम्मीद करें :

इसके साथ ही अजय कुमार लल्लू ने पूछा, ‘गाजियाबाद के पत्रकार साथी का क्या गुनाह था? क्या अपने परिवार की सुरक्षा के लिए न्याय की गुहार लगाना गुनाह है? मुख्यमंत्री जी ! यह प्रदेश आपसे नहीं संभल रहा। इस्तीफा दीजिए और गोरखपुर लौट जाईये. गोरखपुर आपका इंतज़ार कर रहा है.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here