बिहार विधानसभा चुनाव कोरोना काल में हो या न हो इसको लेकर पार्टियों में मतभेद चरम पर

0
28

बिहार विधानसभा चुनाव का समय/तारीख, बेशक चुनाव आयोग तय करेगा। यह उसका विशेषाधिकार है। मगर बहाने तलाश कर लड़ती-भिड़ती पार्टियों ने इसका भी राजनीतिकरण कर दिया। इस मुद्दे पर महागठबंधन और राजग, दोनों में बिखराव है; अलग-अलग राय है।

पार्टियों ने इसके केंद्र में कोरोना के खतरनाक फैलाव को रखा है। कोरोना काल में चुनाव को बिल्कुल मुनासिब नहीं मानने वाली पार्टियां कहती हैं कि अभी ज्यादा जरूरी लोगों की जान बचाना है। हालांकि, ये सब खुद भी चुनाव की तैयारी में हैं। सबने यही कहा कि अगर चुनाव हुए, तो वह स्वाभाविक तौर पर इसमें शामिल होंगी। पेश है सबकुछ हूबहू ….
राजद: बाद में हो चुनाव

प्रदेश राजद के मुख्य प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कहा- कोरोना काल में चुनाव नहीं हो। हम मजबूती से यह बात रखेंगे। फिर भी हुआ, तो स्वाभाविक रूप से शामिल होंगे। हम डिजिटल, वर्चुअल नहीं एक्चुअल चुनाव चाहते हैं। प्रचार का परंपरागत तरीका रहे। उन्होंने कहा कि हमारे अधिकतर वोटर गरीब-गुरबा हैं। उनको वचुअली कनेक्ट करना बहुत मुश्किल है।

कांग्रेस: हालात चुनाव लायक नहीं

कांग्रेस विधान पार्षद प्रेमचंद्र मिश्रा के अनुसार हालात चुनाव कराने लायक नहीं हैं। चुनाव आयोग सभी दलों की राय ले। सबकी सुरक्षा का ध्यान रखते हुए फैसला हो। यही स्थिति रही, तो चुनाव में जाने के लिए सोचना पड़ेगा। आरंभिक तैयारियां शुरू हैं। डिजिटल सदस्यता अभियान चालू है। वर्चुअली संवाद आरंभ किया गया है।

यह भी पढ़े  RSS को बताते थे देश के लिए खतरनाक अब खुद रंग में रंग गए: तेजस्वी

वीआईपी: गठबंधन का निर्णय मानेंगे

वीआईपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुकेश सहनी ने कहा कि कोरोना के बढ़ते खतरे के मद्देनजर चुनाव कराना उचित नहीं है। फिर भी चुनाव हुआ तो इसमें शामिल होने के बारे में महागठबंधन का जो निर्णय होगा, वही मेरा भी निर्णय होगा। वर्चुअल मोड की तैयारी में हैं। लेकिन हमारे अधिकतर वोटर ऐसे है, जो वर्चुअल दुनिया से सरोकार नहीं रखते।

प्रशांत किशोर: यह समय मुनासिब नहीं

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने कहा कि अभी बिहार में चुनाव का मुनासिब समय नहीं है। उन्होंने शनिवार को ट्वीट किया- अभी आम लोगों की जिंदगी को बचाने की दरकार है। चुनाव हुए, तो यह लोगों को और खतरे में ढकेलने की बात होगी। दुर्भाग्य से कुछ लोग चुनाव की तैयारी में जुटे हैं। जनता सब देख-समझ रही है, समय आने पर माकूल जवाब देगी।

वामदलों: कोरोना काल में ठीक नहीं

भाकपा, माकपा व भाकपा माले कोरोना काल में चुनाव नहीं चाहती। चुनाव होने पर भाकपा माले शामिल होगी, लेकिन भाकपा व माकपा ने इस बारे में अंतिम फैसला नहीं किया है। भाकपा के राज्य सचिव सत्यनारायण सिंह, भाकपा माले के राज्य सचिव कुणाल व माकपा के राज्य सचिव अवधेश कुमार ने कहा कि अभी चुनाव होने से और अधिक लोग कोरोना की चपेट में आएंगे। वर्चुअल रैली व पोस्टल बैलेट का नया प्रावधान सही नहीं है। गरीब पोस्टल वोट में वंचित रह जाएंगे।
जाप (लो.): जान बचाना ज्यादा जरूरी

यह भी पढ़े  बर्खास्तगी के विरोध में शिक्षकों का हंगामा, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

जाप (लो.) के राष्ट्रीय महासचिव एजाज अहमद बोले-चुनाव से ज्यादा जरूरी आदमी की जान बचाना है। सर्वदलीय राय, तरीका तय हो। हां, सोशल डिस्टेंसिंग मेनटेन करते हुए चुनाव हो सकता है। वर्चुअल मोड में छोटे दल कैसे लड़ेंगे, चुनाव आयोग इसे देखे।

आप: मतदान करने से लोग डरेंगे

आम आदमी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष सुशील सिंह ने कहा कि चुनाव स्थगित हो। कोरोना काल में लोग वोटिंग से डरेंगे। हां, चुनाव होने की स्थिति में हम भाग लेंगे।

हम: चुनाव के लिए तैयार हैं

हम (से.) के राष्ट्रीय प्रवक्ता दानिश रिजवान के अनुसार हम चुनाव के लिए तैयार हैं। कोरोना, सिर्फ बहाना है। जो छात्र वक्त पर अपनी पढ़ाई पूरी नहीं करता, वह परीक्षा के समय बहाने बनाता है। यही स्थिति कुछ राजनीतिक दलों की है।

जदयू: हम तो हमेशा से तैयार हैं

जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा कि हम सालों भर जनता के बीच रहकर काम करते हैं। इसलिए हम हमेशा चुनाव के लिए तैयार रहते हैं। चुनाव समय पर होना चाहिए। वैसे तारीख तय करना चुनाव आयोग का विशेषाधिकार है। प्रचार का तरीका व एक चरण में चुनाव की बात हम चुनाव आयोग से कह चुके हैं। बेशक हम सोशल डिस्टेंसिंग का पालन और लोगों को संक्रमण से बचाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हमारे नेता वर्चुअल संवाद कर रहे हैं।

यह भी पढ़े  भाजपा को हराने के लिए राजद-कांग्रेस से समझौता करेगी भाकपा

भाजपा: चुनाव तो होना ही चाहिए

भाजपा के प्रदेश महामंत्री देवेश कुमार ने कहा- चुनाव होना चाहिए। हम चुनाव में अवश्य शामिल होगी। वर्चुअल सम्पर्क में तकनीकी रूप से सक्षम हैं। पिछले दिनों बूथ स्तर तक सम्पर्क अभियान चला। सप्त ऋषियों के माध्यम से काम किया गया। सभी जिलों की क्षेत्रीय बैठक हुई। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की वर्चुअल रैली बहुत कामयाब रही। इस लाइन पर हमारा सारा काम आगे भी जारी रहेगा।

लोजपा: अभी चुनाव उचित नहीं

लोजपा के प्रवक्ता अशरफ अंसारी के मुताबिक अभी चुनाव का उचित समय नहीं है। बड़ी आबादी संकट में आएगी। लेकिन, पार्टी ने यह भी कहा कि अगर चुनाव हुआ तो वह इसमें शामिल होगी। वह चुनाव के लिए तैयार है। वर्चुअल बैठक, सम्मेलन हो रहा है। बाकी सब काम हो रहे हैं।

रालोसपा : सुरक्षा के साथ हो चुनाव

रालोसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि चुनाव समय पर ही होना चाहिए। हां, सबकी सुरक्षा के सभी आवश्यक उपाय हों। मास्क, सेनेटाइजर रहे। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराते हुए वोट गिरे। हम जरूर भाग लेंगे। जनता राजग को शासन का और मौका देने के मूड में नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here