मारा गया यूपी का मोस्‍ट वांटेड विकास दुबे, STF का वाहन पलटने के बाद की थी भागने की कोशिश

0
38

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे आज सुबह 7:15 बजे से 7:35 के बीच यूपी एसटीएफ के साथ मुठभेड़ में मारा गया. कानपुर पहुंचते ही विकास दुबे ने अपना इलाका जानकर यूपी एसटीएफ की टीम से पिस्तौल छीनने की कोशिश की जिसके बाद गाड़ी अनियंत्रित होकर पलट गई. गाड़ी पलटने के कारण पुलिसकर्मी घायल हो गए.गाड़ी पलटने के बाद विकास दुबे मौके का फायदा उठाकर भागने की कोशिश करने लगा. जिसके बाद यूपी एसटीएफ ने विकास का पीछा किया तो विकास ने एसटीएफ की टीम पर फायरिंग कर दी. फिर यूपी एसटीएफ ने भी जवाबी फायरिंग की और उसे सरेंडर करने को कहा लेकिन वो नहीं माना. इसके बाद यूपी एसटीएफ के कमांडो ने सेल्फ डिफेंस में विकास दुबे को मार गिराया. इस मुठभेड़ में चार पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं जिन्हें इलाज के लिए तुरंत अस्पताल में भर्ती करवाया गया.

कानपुर हत्याकांड का मुख्य आरोपी विकास दुबे एन्काउंटर में मारा गया है। विकास दुबे को कानपुर के हैलट अस्पताल ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। मध्‍य प्रदेश के उज्‍जैन में गिरफ्तार होने के बाद विकास दुबे को कानपुर लेकर आ रही यूपी एसटीएफ का वाहन कानपुर के निकट दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इसी वाहन में विकास दुबे भी सवार था। बताया जा रहा है कि आज सुबह करीब 6:30 बजे यह मुठभेड़ शुरू हुई। इसके बाद इसे लाला लाजपत राय अस्पताल ले जाया गया, जहां 7:55 पर डॉक्टरों में मृत घोषित कर दिया।

यह भी पढ़े  विपक्ष से रणनीतिक चूक हुई तो जनता माफ नहीं करेगी: तेजस्वी यादव

कानपुर पश्चिम के एसपी ने बताया कि वाहन दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद विकास दुबे ने घायल सिपाहियों से पिस्टल छीनने की कोशिश की। भाग रहे विकास दुबे को पुलिस ने सरेंडर के लिए कहा, जिस पर उसने पुलिस कर्मियों पर फायर कर दिया। जवाब में उसे पुलिस की गोली लगी। यह हादसा कानपुर के पास ही हुआ है। हादसे से कुछ देर पहले ही यूपी एसटीएफ की टीम कानपुर टोल प्लाजा के पास से गुजरी थी। बता दें कि कल ट्रांजिट रिमांड के बाद विकास दुबे को मध्य प्रदेश पुलिस ने यूपी एसटीएफ को सौंप दिया है। मिली जानकारी के अनुसार, उत्तरप्रदेश एसटीएफ 2 गाडियों में उज्जैन आई थी। बताया जा रहा है कि यूपी एसटीएफ के साथ उज्जैन पुलिस भी यूपी बॉर्डर तक आई थी।

उज्जैन से गिरफ्तार किया गया गैंगस्टर कानपुर के निकट एक एन्काउंटर में मारा गया है। बताया जा रहा है कि विकास ने यूपी एसटीएफ (STF) से हथियार लूटने की कोशिश की। इसी छीना झपटी में वाहन पलट गया।
इस दौरान विकास दुबे को गोली लगी। उसे कानुपर के लाला लाजपतराय हैलट अस्पताल ले जाया गाय। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया
कानपुर पश्चिम के एसपी ने बताया कि वाहन दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद विकास दुबे ने घायल सिपाहियों से पिस्टल छीनने की कोशिश की। भाग रहे विकास दुबे को पुलिस ने सरेंडर के लिए कहा, जिस पर उसने पुलिस कर्मियों पर फायर कर दिया। जवाब में उसे पुलिस की गोली लगी।

यह भी पढ़े  सुप्रीम कोर्ट में अंतिम वर्ष की परीक्षाओं के लिए अगली सुनवाई 10 अगस्त तक के लिए टली

विकास दुबे को कल उज्जैन के महाकाल मंदिर से गिरफ्तार किया गया था। जिसके बाद उसे ट्रांजिट रिमांड पर लेकर यूपी पुलिस कानपुर आ रही थी। उज्जैन पुलिस विकास दुबे को यूपी बॉर्डर तक छोड़ने आई थी।
बताया जा रहा है कि विकास दुबे कानपुर के नजदीक पहुंचते ही पुलिस वालों से हथियार छीनने की कोशिश करने लगा। इसी छीना झपटी में फायरिंग भी हुई और पुलिस का वाहन पलट गया।
तस्वीरों में देखिए: नीचे दी गई दस्वीरें कानपुर के निकट हुए हादसे की तस्दीक करती हैं। इस हादसे में पुलिस की एक एसयूवी पलट गई। बताया जा रहा है कि विकास इसी में सवार था।

पुलिस के अनुसार विकास दुबे ने दुर्घटना के बाद हिरासत से भागने की कोशिश की। ग्रामीणों ने वहां गोलियों की आवाज भी सुनी।
विकास को गुरुवार को उज्जैन के महाकाल मंदिर से हिरासत में लिया गया था। पुलिस ट्रांजिट रिमांड पर उसे कानपुर ले कर आ रही थी।
विकास दुबे कानुपर में पिछले दिनों हुई 8 पुलिस कर्मियों की हत्या का मास्टरमाइंड है। यह पुलिस बल 3 जुलाई की रात विकास दुबे को पकड़ने के लिए ही चौबेपुर के बिकरू गांव गई थी।

यह भी पढ़े  सावरकर नहीं होते तो 1857 स्‍वतंत्रता संग्राम इतिहास में नहीं होता: अमित शाह

विकास दुबे यूपी का मोस्ट वॉन्टेड क्रिमिनल था, इस पर 5 लाख रुपएए का इनाम था।
कल ही विकास दुबे के दो गुर्गों को इटावा और कानपुर में पुलिस ने एन्काउंटर में मार गिराया था। वहीं बुधवार को हमीरपुर में भी विकास दुबे का एक साथी मारा गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here