बिहार में अगले 36 घंटे में भारी बारिश के आसार, कई नदियों का जलस्तर बढ़ा

0
32

मौसम विभागने संभावना जताई है कि, आने वाले दो दिनों में बिहार और उत्तरपूर्वी राज्यों में भारी बारिश होगी. आईएमडी के वरिष्ठ वैज्ञानिक नरेश कुमार ने कहा, ‘आने वाले दो दिनों में बिहार और उत्तरपूर्वी राज्यों में भारी बारिश होगी. पंजाब, हरियाणा और दिल्ली-एनसीआर में आने वाले पांच दिनों में भारी बारिश नहीं होगी. सेंट्रल इंडिया में आने वाले दिनों में हल्की बारिश होने की संभावना है.

इससे पहले बिहार में मानसून के मद्देनजर मौसम विभाग ने भारी बारिश और वज्रपात को लेकर राज्यभर के लिए 72 घंटे का अलर्ट जारी कर दिया था. मौसम वैज्ञानिकों ने संभावना जताई है कि, अगले 72 घंटे में राज्य में कम से कम 100 मिमी बारिश होगी.

करीब दो दशक बाद बिहार में मॉनसून  बेहद सक्रिय अवस्था में है. बंगाल की खाड़ी में चक्रवात उठने से बिहार में एक बार फिर मानसून सक्रिय हो गया है. मौसम विभाग ने अगले दो दिनों के लिए भारी बारिश का हाई अलर्ट जारी किया है. राज्य में अगले 36 घंटे और मॉनसून सक्रिय रहेगा. इस दौरान समूचे प्रदेश में खासतौर पर उत्तर- मध्य और उत्तर-पूर्व बिहार में अच्छी से भारी बारिश होने के आसार हैं. इसको लेकर पूरे राज्य में अलर्ट घोषित किया गया है. कुछ जिलों मसलन पश्चिमी-पूर्वी चंपारण, गोपालगंज, सीवान, अररिया, किशनगंज और कुछ अन्य जिलों में रेड अलर्ट जारी किया गया है. ठनका गिरने को लेकर भी अगाह किया गया है.

यह भी पढ़े  मैं लाशों पर चुनाव कराने वाला अंतिम व्यक्ति बनूंगा:तेजस्वी

मौसम विभाग के अलर्ट को देखते हुए आपदा प्रबंधन विभाग ने भी सभी जिलाधिकारियों को अलर्ट कर दिया है. साथ ही, सभी नदियों के बांध पर चौकसी भी बढ़ा दी गई है. नेपाल से सटे 12 जिलों में एनडीआरएफ (NDRF) की टीम की तैनाती कर दी गई है.

इसके साथ ही, छोटे और बड़े नाव का भी प्रबंध कराया गया है, वहीं, आपदा प्रबन्धन विभाग खुद भी सभी जिलों की मॉनिटरिंग में जुटा है और कंट्रोल रूम भी स्थापित कर लिए गए हैं. इधर, रविवार को पटना में जोरदार बारिश हुई. इस दौरान, कई जगहों पर जलजमाव भी देखने को मिला.

इस दौरान, पटना में राज्य के पथ निर्माण मंत्री नंद किशोर यादव के आवास में बारिश का पानी घुस गया है. इस पर मंत्री ने कहा, ‘बारिश के कारण मेरे आवास से पानी निकलने का मार्ग किसी कारण से अवरुद्ध हो गया. जैसे ही रुकावट दूर होगी, वैसे ही पानी निकल जाएगा.’

यह भी पढ़े  खगड़िया और सहरसा नाव हादसे में आधे दर्जन से अधिक शव मिले, लापता लोगों की तालाश जारी

महानंदा, गंगा, कोसी व बरंडी नदी के जल स्तर में रविवार को भी वृद्धि दर्ज की गयी है. नदी का जल स्तर छह घंटे के दौरान करीब दो सेंटीमीटर से 10 सेंटीमीटर की वृद्धि दर्ज की गयी है. जबकि महानंदा नदी अधिकांश स्थानों पर खतरे के निशान से ऊपर बह रही है. नदी के जल स्तर में वृद्धि से कई क्षेत्रों में कटाव होने लगा है. महानंदा नदी झौआ में खतरे के निशान से 23 सेमी ऊपर बह रही है. जबकि यह नदी पार बहरखाल में खतरे के निशान से 17 सेमी ऊपर है.

बता दें कि, बिहार में जलजमाव को लेकर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव भी लगातार नीतीश कुमार (Nitish Kumar) सरकार पर निशाना साध रहे हैं. तेजस्वी यादव का आरोप है कि, इस बारिश में भी जलजमाव ने कई जगहों पर बिहार सरकार की तैयारियों की पोल खोल दी है.

रविवार को यहां अधिक बारिश

धैगाब्रिज(सीतामढ़ी) 210 मिमी

यह भी पढ़े  30 दिसंबर तक ढक दिये जायेंगे शहर के एक हजार खुले मैनहोल

माधवपुर(मधुबनी) 159.6 मिमी

मोतिहारी 112 मिमी

वीरपुर(मधेपुरा) 107 मिमी

सुपौल 100 मिमी

प्रदेश में अब तक सामान्य से 92% अधिक बारिश हो चुकी है. सामान्य तौर पर प्रदेश में इस समय तक 144 मिलीमीटर बारिश होती रही है. इस साल जून में अभी तक 275. 6 मिलीमीटर से अधिक बारिश रिकाॅर्ड की गयी है. पांच जून को मॉनसून की दस्तक से अब तक प्रदेश में औसतन एक से डेढ़ सेंटीमीटर बारिश दर्ज की गयी है. प्रदेश में रविवार को हुई अच्छी बारिश की वजह से प्रदेश का उच्चतम तापमान सामान्य से चार से आठ डिग्री सेल्सियस कम रहा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here