बिहार में कोरोना 143 नए कोरोना संक्रमितों के बाद कुल की संख्या 7808 पीआर पहुंची

0
41

प्रदेश में कोरोना कहर जारी है। आज सोमवार एक दिन में 143 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव मिली। इसके बाद राज्य में संक्रमितों की संख्या बढकर 7808 हो गयी है। एम्स‚पटना में रविवार को दो लोगों की मौत की पुष्टि की गयी‚उनमें एक की पहचान जक्कनपुर थाने में तैनात होमगार्ड़ के जवान के रूप में की गयी। वे मसौढी के रहने वाले थे। वहीं‚मरने वाला दूसरा शख्स कथित पासपोर्ट अधिकारी बताया गया है। वह जहानाबाद के सुमेर गांव का रहने वाला था। वह हाल ही में दिल्ली से यहां आया था।

बिहार में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या सोमबार को साढ़े सात हजार के आंकड़े के पार पहुंच गयी. राज्य में आज सोमबार को 143 नये कोरोना पॉजिटिवों के साथ कुल संक्रमितों की संख्या 7808 हो गयी है. नये संक्रमित मरीज राज्य के 23 जिलों में पाये गये हैं. इसमें से 5,631 लोग ठीक होकर अस्पताल से अपने घर लौट गये हैं. कोरोना पॉजिटिवों में अब तक कुल 51 लोगों की मौत हो गयी है. इधर स्वास्थ्य विभाग द्वारा राज्य में एक लाख 56 हजार 926 लोगों की कोरोना जांच जा चुकी है.

नए मिले 143 मामलों में सबसे अधिक 23 मामले मधुबनी से, सहरसा 18, दरभंगा 17, समस्तीपुर / पटना 16, किशनगंज 11, सिवान / सुपौल / वैशाली / भगालपुर 5-5 , बक्सर / मधेपुरा 4-4 , आरा /सारण 2-2 , औरंगाबाद / बांका / गोपालगंज / जमुई / जहानाबाद / कटिहार / लखीसराय / मुजफ्फरपुर / नालंदा / शेखपुरा 1-1 मामले मिले हैं.

यह भी पढ़े  पहली किस्त का उपयोग नहीं करने पर आगे नहीं मिलेगी राशिः मोदी

स्वास्थ्य विभाग के सचिव लोकेश कुमार सिंह ने बताया कि अब तक कुल 1,57,300 नमूनों की जांच की गई है और अब कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 7665 हो गई है.

पटना एम्स में भर्ती जक्कनपुर थाना में तैनात मसौढ़ी निवासी होमगार्ड जवान सहित एक पासपोर्ट अधिकारी की मौत कोरोना से हो गयी. कोरोना के नोडल आफिसर डॉ संजीव कुमार ने बताया कि जिस होमगार्ड जवान (51 वर्ष) की मौत हुई है, उनका शूगर की बीमारी का इलाज चल रहा था. वहीं, दिल्ली से आये पासपोर्ट अधिकारी (44 वर्ष) काे पहले से हृदय का रोग था. दोनों कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत एम्स के आइसोलेशन वार्ड में इलाज के दौरान हुई है.

उधर‚ स्वास्थ्य विभाग की ओर से रविवार को जारी पहली जांच रिपोर्ट में 99 लोग संक्रमित पाये गये। दरभंगा में 32 ‚समस्तीपुर में 18‚ बांका और भागलपुर में 9-9‚ पटना और रोहतास में5-5‚ सीवान में 4‚ किशनगंज और नवादा में 3-3‚ भोजपुर‚ मधेपुरा‚ मुंगेर और पश्चिम चंपारण में 2-2 तथा जहानाबाद‚ नालंदा और वैशाली में 1-1 के पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई।
विभाग के अनुसार संक्रमितों में से अधिकतर दूसरे प्रदेशों से आए हुए लोग हैं‚ जिन्हें स्क्रीनिंग के बाद प्रखंडस्तरीय क्वारेंटाइन केंद्र में रखा गया और यहीं से इनके स्वैब सैम्पल जांच के लिए भेजे गये थे। बिहार में कोरोना से सबसे अधिक मौत दरभंगा जिले में हुई है। यहां अब तक 5 लोगों की मौत कोरोना से हो चुकी है। वहीं‚सारण और बेगूसराय में 4-4 लोगों की मौत हो चुकी है। खगडि़या‚नालंदा और वैशाली में 3-3 लोगों की मौत हुई है। पटना‚सीतामढ़ी‚सीवान‚मुजफ्फरपुर‚ गया‚भोजपुर‚नवादा और जहानाबाद के रहने वाले 2-2 मरीजों की मौत हो गई है। औरंगाबाद‚अररिया‚कटिहार‚भागलपुर‚जमुई‚मधेपुरा‚समस्तीपुर‚मुंगेर‚मोतिहारी‚शिवहर‚बेतिया‚मधुबनी और सासाराम के रहने वाले एक–एक मरीजों की मौत हो चुकी है। मृतकों की संख्या ५२ हुई।

यह भी पढ़े  आज एकदिवसीय दौरे पर पटना पहुचे उपराष्ट्रपति, राज्यपाल ,मुख्यमंत्री सहित तमाम नेताओ ने किया स्वागत

कोरोना अब पीएमसीएच में अपना पांव पसार रहा है. रविवार को पीएमसीएच में सात डॉक्टर और क्लिीनिकल पैथोलाॅजी का एक तकनीशियन कोरोना पाॅजिटिव पाया गया है. उसमें कोरोना निकलने से परिसर में चर्चाओं का बाजार गर्म है. इससे पहले पीएमसीएच के एनिस्थिसिया विभाग के एक जूनियर डाॅक्टर में कोरोना संक्रमण निकला था. चंद दिनों के अंदर ही पीएमसीएच के डाॅक्टर व कर्मी में कोरोना निकलने से माना जा रहा है कि कोरोना का संक्रमण अब बढ़ता जा रहा है. साथ ही पीएमसीएच में भर्ती मरीजों में से छह मरीज रविवार को पाॅजिटिव पाये गये.

इसमें से दो पटना के और चार दूसरे जिलों के हैं. पटना के मरीजों में से एक मनेर का रहने वाला 35 वर्षीय युवक है. जबकि, दूसरा सालिमपुर का 20 वर्षीय युवक है. वहीं, अन्य जिलों के पाॅजिटिव मरीजों में से एक सीवान, एक आरा, एक देवघर व एक मधेपुरा का रहने वाला है. इन्हें कोरोना के संदेह में आइसोलेशन वार्ड में भर्ती करवाया गया था. जांच रिपोर्ट आने के बाद सभी को कोविड 19 के इलाज के लिए एनएमसीएच भेज दिया गया. इसकी लैब से रविवार को कुल 14 पाॅजिटिव मरीज मिलें, जिनमें सात पीएमसीएच के और सात मधुबनी के हैं. पीएमसीएच में कोरोना मरीजों के लिए अलग से फ्लू काॅर्नर बनाया गया है. जहां कोई भी व्यक्ति जिसे कोरोना का संदेह हो जाकर अपनी स्क्रीनिंग या जांच करवा सकता है. यहां कोरोना के संदिग्धों के लिए अलग से 190 बेडों का आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है.

यह भी पढ़े  मसूद अजहर को 'साहब' कहने वाले मांझी ने गिरिराज और साध्वी प्रज्ञा को बताया भाषाई 'आतंकी'

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here