पटना का पानी पीने लायक नहीं,दस नमूने चार मानकों पर विफल पाए गए

0
225

पटना में अनेक स्थानों पर नलों के जरिए घरों में आपूत्तर्ि किया जा रहा पानी पीने लायक नहीं है जबकि मुंबई में सबसे अच्छी गुणवत्ता पाई गई है। देहरादून, लखनऊ, कोलकाता, भोपाल का भी पानी पीने योग्य नहीं पाया गया। भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) द्वारा लिये गए पानी के नमूने की जांच में दिल्ली के सभी 11 जगहों से एकत्रित किए गए नमूने शुद्धता के विभिन्न मानकों पर विफल पाए गए जबकि मुंबई में एकत्रित किए गए सभी 10 नमूने बीआईएस के शुद्धता मानकों के अनुरूप पाए गए हैं। पेयजल के इन नमूने की बीएसआई द्वारा जांच के बाद इसकी अंतिम रिपोर्ट जारी करते हुए शनिवार को केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्री राम विलास पासवान ने फिर कहा कि देश की राजधानी में दिल्ली जल बोर्ड द्वारा आपूत्तर्ि किया जाने वाला पानी पीने योग्य नहीं है। पासवान ने कहा कि प्रधानमंत्री (नरेंद्र मोदी) ने 2024 तक देश में हर घर में शुद्ध पेयजल मुहैया करवाने का लक्ष्य रखा है। इसी सिलसिले में दिल्ली में 11 जगहों से पीने के पानी के नमूने एकत्र किए गए थे और प्रारंभिक जांच में नमूने विफल पाए जाने के बाद हमने देश के विभिन्न शहरों में नल द्वारा आपूत्तर्ि किए जाने वाले पानी की गुणवत्ता की जांच करवाने का फैसला लिया।

यह भी पढ़े  सुप्रीम कोर्ट ने लगाई कर्नाटक विधानसभा स्पीकर को फटकार, मंगलवार तक टला बागी विधायकों पर फैसला

रांची और रायपुर तीसरे और चौथे स्थान पर : सूची में तीसरे स्थान पर स्थित रांची में पानी का एक नमूना गुणवत्ता के चार मानकों पर विफल पाया गया है। चौथे स्थान पर रायपुर है जहां पानी के 10 में से पांच नमूने गुणवत्ता के तीन मानकों पर विफल पाए गए। इसके बाद पांचवें, छठे, सातवें और आठवें स्थान पर क्रमश: अमरावती, शिमला, चंडीगढ़ और त्रिवेंद्रम हैं।

नौंवें स्थान पर पटना और भोपाल : सूची में नौवें स्थान पर स्थित पटना और भोपाल में सभी 10 नमूने क्रमश: चार मानकों पर विफल पाए गए हैं। वरीयता क्रम में 10वें स्थान पर गुवाहाटी, बेंगलुरू और गांधीनगर हैं जहां सभी 10-10 नमूने पांच-पांच मानकों पर विफल पाए गए हैं।

लखनऊ और जम्मू 11वें स्थान पर : लखनऊ और जम्मू 11वें स्थान पर हैं जहां सभी 10-10 नमूने क्रमश: छह-छह मानकों पर विफल पाए गए हैं। 12वें स्थान पर स्थित जयपुर और देहरादून में सभी 10-10 नमूने क्रमश: सात-सात मानकों पर विफल पाए गए हैं। चेन्नई इस क्रम में 13वें और कोलकाता 14वें स्थान पर हैं। चेन्नई में लिए गए पानी के सभी 10 नमूने नौ मानकों पर विफल पाए गए हैं जबकि कोलकाता में लिए गए पानी के सभी नौ नमूने नौ मानकों पर विफल पाए गए हैं। सबसे निचले पायदान पर दिल्ली में लिए गए 11 नमूने कहीं कहीं चार, कहीं सात, कहीं 15 और कहीं 19 मानकों पर विफल पाए गए हैं।

यह भी पढ़े  लोकसभा चुनाव के पहले चरण में हुआ मतदान लोकतंत्र जीत है .....

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here