पटना में दो बांग्लादेशी संदिग्ध आतंकवादी को गिरफ्तार

0
604

बिहार एटीएम पुलिस ने दो बांग्लादेशी संदिग्ध आतंकवादी को गिरफ्तार किया है. बताया जा रहा है कि ये दोनों आतंकी जमीयत-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश और इस्लामिक स्टेट बांग्लादेश (ISBD) से जुड़े हैं. एटीएस दोनों को अपने कब्जे में कड़ी पूछताछ कर रही है.

बिहार पुलिस की एटीएस टीम को बड़ी कामयाबी मिली है. एटीएस की टीम ने पटना से ही दो बांग्लादेशी लोगों को गिरफ्तार किया है. पटना जंक्क्शन के पास से गिरफ्तार खैरुल मंडल व अबु सुल्तान नाम के इन संदिग्धों से आपतिजनक सामान बरामद किया है. दोनों को गिरफ्तार कर पुलिस पूछताछ करने में जुटी है.

जानकारी के मुताबिक, एटीएस ने पटना जंक्क्शन के पास स्थित मदनी मुसाफिरखाना के पास से दो संदिग्ध बांग्लादेशी आतंकियों को सोमवार को गिरफ्तार किया. गिरफ्तार दोनों युवक प्रतिबंधित आतंकवादी संघटन जमीयत-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश और इस्लामिक स्टेट बांग्लादेश के सक्रिय सदस्य हैं. गिरफ्तार युवकों की पहचान खैरुल मंडल, पिता महाबुल मंडल और अबु सुल्तान, पिता मो अब्दुल मलिक के रूप में हुई है. दोनों युवक बांग्लादेश के खुलना के झेनौदा जिला स्थित महेशपुर थाने के चापातल्ला के निवासी बताये जा रहे हैं.

यह भी पढ़े  जदयू कार्यकारिणी की दिल्ली में बैठक आज ,नीतीश ने तय किया एजेंडा

एटीएस ने गिरफ्तार खैरुल मंडल व अबु सुल्तान के पास से पुलवामा घटना के बाद जम्मू-कश्मीर में अर्धसैनिक बलों की प्रतिनियुक्ति से संबंधित आदेशों की फोटोकॉपी बरामद की है. साथ ही आईएसआईएस और अन्य आतंकवादी संघटनों के पोस्टर और पंफलेट की फोटो कॉपी के साथ-साथ तीन मोबाइल फोन, मेमोरी कार्ड, फर्जी पैन कार्ड, दो फर्जी भारतीय मतदाता पहचान पत्र बरामद किये हैं. एटीएस को  इनके पास से नई दिल्ली से हावड़ा और गया से पटना का रेल टिकट तथा कोलकाता से गया का महारानी एक्सप्रेस बस का टिकट भी मिला है. फिलहाल एटीएस की टीम गिरफ्तार युवकों से पूछताछ कर रही है.

आतंकी संगठन से जोड़ने और घटना को अंजाम देने की रेकी कर रहे थे युवक

एटीएस के मुताबिक, दोनों युवक भारत में रह कर जमीयत-उल-मुजाहिद्दीन बांग्लादेश संगठन के निर्देशानुसार कोलकाता, केरल, दिल्ली और बिहार के पटना व गया में घूम-घूम कर अपने संगठन से अन्य मुस्लिम युवकों को जोड़ने और बौद्ध धार्मिक स्थलों पर आतंकी घटनाओं को अंजाम देने के लिए रेकी का कार्य कर रहे थे. इस दौरान गिरफ्तार दोनों युवक 11 दिनों तक प्रवास भी किया है. एटीएस के मुताबिक, दोनों युवक सीरिया जाकर आईएसआईएस के साथ मिल कर जेहाद में शामिल होना चाहते थे.

यह भी पढ़े  कांग्रेस की कार्यसमिति की बैठक में बड़ा फैसला, राहुल गांधी को मिली गठबंधन की जिम्मेदारी

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here