90 प्रतिशत अनुदान पर मिलेगी ड्रीप सिंचाई की सुविधा : डॉ. प्रेम

0
19
Patna-Nov.30,2018-Bihar Agriculture Minister Prem Kumar is lighting the lamp to inaugurating Software training workshop at BAMETI premises in Patna.

राज्य के कृषि मंत्री डॉ. प्रेम कुमार ने कहा कि 90 प्रतिशत अनुदान परर किसानों को ड्रीप सिंचाई की सुविधा वर्तमान वित्तीय वर्ष में दी जाएगी। पहले केंद्र सरकार ने इस योजना के अन्तर्गत लघु एवं सीमांत कृषकों के लिए 55 प्रतिशत अनुदान तथा सामान्य किसानों के लिए 45 प्रतिशत अनुदान की सीमा निर्धारित की है। परन्तु, राज्य सरकार द्वारा अपनी ओर से अतिरिक्त राज्यांश उपलब्ध कराने के बाद अब यह सुविधा मात्र 10 प्रतिशत राशि पर किसानों को मिलेगी।कृषि मंत्री डॉ. कुमार आज बामेती में प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (सूक्ष्म सिंचाई ) के अंतर्गत साफ्टवेयर प्रशिक्षण सह सेमिनार को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि स्प्रिंकलर सिंचाई पद्धति के लिए पूर्व की भाँति 75 प्रतिशत अनुदान देय होगा। ड्रीप सिंचाई की र्चचा करते कृषि मंत्री ने कहा कि इस पद्धति को अपनाने पर 60 प्रतिशत सिंचाई जल तथा 25 से 30 प्रतिशत उर्वरक की बचत होगी। लागत में भी 25 से 35 प्रतिशत की कमी आयेगी और उत्पादकता में 30 से 35 प्रतिशत की वृद्धि होगी। कृषि मंत्री ने कहा कि राज्य में प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (सूक्ष्म सिंचाई) के ऑनलाईन कार्यान्वयन करने एवं किसानों को अनुदान भुगतान करने हेतु कृषि विभाग के उद्यान निदेशालय द्वारा एक्सिस बैंक के सहयोग से सॉफ्टवेयर तैयार किया गया है। इस सॉफ्टवेयर के माध्यम से किसान अपना आवेदन ऑनलाईन करेंगे तथा उनके खेत में लगाये गये यंत्र का सत्यापन भी ऑनलाईन किया जायेगा। इस सॉफ्टवेयर की खूबी है कि विभाग द्वारा तय सीमा के अन्दर ही अनुदान की राशि किसान/कंपनी को पीएफएमएस के माध्यम से उनके बैंक खाते में अंतरित किया जायेगा। सूक्ष्म सिंचाई यंत्र अधिष्ठापित खेत का प्री एवं पोस्ट जियो फेंसिंग एवं जियो फोटोग्राफी की जायेगी ताकि कोई भी व्यक्ति इसे गुगल अर्थ पर जाकर देख सके। इसके लिए किसानों को ऑनलाईन आवेदन करने की तिथि से 45 दिनों के अन्दर उनके खेत में यंत्र अधिष्ठापन निश्चित रूप से कर दिया जायेगा।डॉ. कुमार ने कहा कि वर्तमान वित्तीय वर्ष में यह योजना राज्य में 142,56 करोड़ रुपये की लागत से कार्यान्वित की जायेगी। सरकार की मंशा है कि बिहार में ड्रीप सिंचाई पद्धति किसानों के बीच अधिक-से-अधिक प्रचलित की जाये। इस योजना का कार्यान्वयन सॉफ्टवेयर के माध्यम से पूर्ण पारदर्शिता के साथ किया जायेगा, ताकि राज्य के किसान इसका अधिक-से-अधिक फायदा उठा सकें। इस योजना का लाभ लेने के लिए किसानों को अपने क्षेत्र के सहायक निदेशक, उद्यान/प्रखंड उद्यान पदाधिकारी/निबंधित कंपनी से सम्पर्क कर केवल ऑनलाईन आवेदन करना होगा। इस मौके पर निदेशक उद्यान नंद किशोर, संयुक्त निदेशक उद्यान सुनील कुमार पंकज, सभी प्रमंडलीय संयुक्त निदेशक (शष्य), सभी सहायक निदेशक उद्यान सहित कृषि विभाग के पदाधिकारी तथा कर्मचारी मौजूद थे।

यह भी पढ़े  पटना के गांधी मैदान में रावण दहन संपन्न, सीएम नीतीश कुमार व डिप्टी सीएम सुशील मोदी हुए शामिल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here