86 लाख के घपले के आरोप में एसबीआई का डिप्टी मैनेजर गिरफ्तार

0
16

पटना – कोतवाली थाना क्षेत्र स्थित मौर्या कॉम्प्लेक्स में अवस्थित एसबीआई ब्रांच के डिप्टी मैनेजर को पुलिस ने 86 लाख रुपये के गबन के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। डिप्टी मैनेजर सुबोध कुमार को हड़ताली मोड़ के पास से पुलिस ने दबोचा। एसबीआई के रीजनल मैनेजर राजेश श्रीवास्तव ने कोतवाली थाने में बुधवार की रात प्राथमिकी दर्ज करायी थी, जिसमें सुबोध को नामजद किया गया था। इसके बाद पुलिस हरकत में आयी। दरअसल, सुबोध के कारनामे की भनक बैंक अधिकारियों को उस वक्त लगी, जब अंटा घाट स्थित एसबीआई के रीजनल ऑफिस में ऑडिट हुई। ऑडिट में पाया गया कि मौर्या लोक स्थित एसबीआई बैंक के डिप्टी मैनेजर ने गलत तरीके से 86 लाख रपए गोपाल ठाकुर और उसकी पत्नी के अकाउंट में ट्रांसफर किये हैं। यह भी पता चला कि घपलेबाजी में सुबोध, गोपाल और उसकी पत्नी की मिलीभगत है। बहरहाल पुलिस ने इस मामले में गोपाल ठाकुर और और उनकी पत्नी की तलाश में छापेमारी शुरू कर दी है। बैंक अधिकारियों की मानें, तो रकम और बढ़ सकती है।

इसके साथ ही पुलिस ने कार्रवाई करते हुए जेल भी भेज दिया. इनके खिलाफ एसबीआई के पटना सेंट्रल क्षेत्रीय व्यवसाय कार्यालय अनुपालन व  जोखिम प्रबंधन के मुख्य प्रबंधक राजेश प्रसाद श्रीवास्तव ने कोतवाली थाने  में 27 जून को आवेदन दिया था. इसमें यह जानकारी दी गयी थी कि एसबीआई  मौर्या लोक कॉम्प्लेक्स शाखा के डिप्टी मैनेजर सुबोध कुमार सिन्हा ने गोपाल  ठाकुर (मेसर्स एसके इंटरप्राइजेज) व निर्मला कुमारी (मेसर्स एसआर  इंटरप्राइजेज) के साथ मिलीभगत कर चालू खाते से अनधिकृत रूप से 86 लाख 13  हजार 222 रुपये की निकासी कर ली है. सारे पैसे को चीनी व्यवसायी ्गोपाल ठाकुर व निर्मला  ठाकुर के खाते में स्थानांतरित  कर दिया गया है.  इसके बाद सुबोध के खिलाफ कोतवाली थाने में 27 जून को आईपीसी की धारा  406/409/418/419/420/120 बी के तहत केस दर्ज किया गया. सुबोध कुमार सिन्हा मूल रूप  से बिहारशरीफ के वैगना थाने के निवासी हैं, लेकिन वे पूरे परिवार के साथ  न्यू पाटलिपुत्र कॉलोनी में जेडी मिश्रा पथ रोड नंबर 2सी में रह रहे थे.
कोतवाली थाने में डिप्टी मैनेजर समेत तीन के खिलाफ दर्ज हुई प्राथमिकी 
 
हड़ताली मोड़ से पकड़े गये सुबोध सिन्हा 
सुबोध कुमार सिन्हा के खिलाफ बुधवार को मामला दर्ज किया गया, लेकिन वे उस समय अपने कार्य को निबटा कर घर जा चुके थे. गुरुवार  को जैसे ही सुबोध कुमार सिन्हा ड्यूटी पर पहुंचे, तो उन्हें इस बात की  जानकारी मिल गयी  कि उनके खिलाफ कोतवाली थाने में प्राथमिकी दर्ज कर ली गयी  है. इसके बाद वे ऑफिस से कार से जाने लगे. लेकिन पुलिस को भी जानकारी मिल  गयी कि सुबोध कुमार सिन्हा फरार होने की फिराक में हैं.
इसके बाद गाड़ी का  पीछा कर हड़ताली मोड़ पर उन्हें पकड़ा गया और गिरफ्तार कर कोतवाली थाने  लाया गया और आवश्यक प्रक्रिया करते हुए जेल भेज दिया गया.
ऑडिट में पकड़ी गयी थी गड़बड़ी
86  लाख रुपये गबन का मामला तब सामने आया जब अंटा घाट स्थित एसबीआई में ऑडिट की गयी थी, जिसके बाद यह गड़बड़ी पकड़ी गयी और फिर तुरंत ही सुबोध कुमार  सिन्हा के खिलाफ कोतवाली थाने में प्राथमिकी दर्ज कर दी गयी. डीएसपी विधि  व्यवस्था डाॅक्टर मनोज कुमार सुधांशु ने बताया कि इस केस में तीन  आरोपित  बनाये गये हैं, जिनमें से डिप्टी मैनेजर को गिरफ्तार कर लिया गया है.  इनके  अलावा यह भी आशंका जतायी जा रही है कि इस गड़बड़ी में और भी लोग  शामिल  हैं और जांच में उनके भी नाम सामने आ जायेंगे. पूछताछ में डिप्टी मैनेजर से  यह जानकारी मिली है कि उन्होंने एक व्यक्ति के एकाउंट से पैसे को दूसरे के एकाउंट में स्थानांतरित कर दिया था और फिर बाद में उस खाते में वापस डाल  दिया था.
यह भी पढ़े  सर्विक्स कैंसर से हर सात मिनट में एक की मौत : डॉ. संगीता

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here