300 उद्योगपतियों, डॉक्टरों और कारोबारियों ने इसलिए छोड़े मोबाइल और लैपटॉप

0
55

इंदौर : रेसकोर्स रोड स्थित खेल प्रशाल परिसर में अनूठी साधना चल रही है। ऐसे 300 लोग जिनके लिए मोबाइल-लैपटॉप के बिना 10 मिनट भी रहना मुश्किल था, वे 168 घंटे सभी संचार साधनों से दूर मौन साधना में जुटे हैं। बेहद जरूरी होने पर पर्ची पर लिखकर संवाद करते हैं। दस राज्यों से आए इन साधकों में डॉक्टर, इंजीनियर, उद्योगपति, कारोबारी, महिलाएं, युवा और बुजुर्ग शामिल हैं।

ध्यान साधना पर विशेष शोध करने वाले 76 वर्षीय आचार्य डॉ. शिवमुनि इन्हें गंभीर ध्यान साधना सिखा रहे हैं। शिविर में मध्यप्रदेश सहित पंजाब, दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान, छत्तीसगढ़, गुजरात, महाराष्ट्र, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश के साधक भाग ले रहे हैं।

आयोजन समिति के जैनेश्वर जैन ने बताया कि ध्यान साधना बेहद सख्त नियमों के साथ चल रही है। इसमें शामिल होने वाले साधकों को पहले ही बता दिया गया था कि वे सात दिन यानी 168 घंटे मोबाइल, लैपटॉप या टेबलेट का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे।

मनोरोग चिकित्सक डॉ. उज्ज्वल सरदेसाई ने बताया कि ऐसे कार्यक्रमों से मानसिक शांति मिलती है। बेहतर इंसान बनने और अपने भीतर झांकने का मौका मिलता है। शुरू में कुछ दिक्कत हो सकती है, लेकिन अंत बहुत अच्छा होता है। व्यक्ति की मन:स्थिति बेहतर करने में ये बेहद मददगार होते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here