2025 तक टी.बी मुक्त होगा बिहार : मंगल

0
276
Patna-Dec.15,2017-Bihar Health Minister Mangal Pandey is delivering his lecture in seminar on TB at Hotel Samarpan Ness Inn in Patna.

पटना -स्वास्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि टीबी लाइलाज बीमारी नहीं है इसके लिए दवा के अलावा जनसहयोग जरूरी है। उन्होंने कहा कि आप सभी के सहयोग से 2025 तक इस बीमारी से मुक्ति पा लेनी है, इसलिए भेदभाव मिटाते हुए लोग टीबी भगाने की दिशा में आगे बढ़े। स्वास्य मंत्री श्री पांडेय आज एक स्थानीय होटल में रीच (आरइएसीएच) और राज्य यक्ष्मा इकाई (एसटीसी) के सहयोग से आयोजित कार्यक्रम में टीबी जैसी गंभीर बीमारी पर विजय प्राप्त कर चुके लोगों को संबोधित करते हुए यह उद्गार प्रकट किये। श्री पांडेय ने टीबी से निजात पा चुके लोगों के लिए कार्यशाला आयोजित करने पर रीच (आरइएसीएच) और राज्य यक्ष्मा इकाई (एसटीसी) को धन्यवाद देते हुए कहा कि पूरे विश्व का 25 फीसद यक्ष्मा मरीज भारत में हैं। यही नहीं हर साल 1400 मरीज इस बीमारी से मर रहे हैं। उन्होंने कहा कि विश्व कि प्राचीनतम बीमारी होने के बावजूद आज तक इस बीमारी पर काबू नहीं पाया जा सका है। इसलिए बिहार सरकार भारत सरकार के सहयोग से टीबी उन्मूलन के लक्ष्य को पूरा करने की दिशा में अग्रसर है। राज्य में कुल 736 डीएमसी, 534 टीयू, सीबीएनएएटी मशीन का प्रयोग 38 जांच केन्द्रों में किया जा रहा है, जिससे काफी कम समय में टीबी एवं दवा प्रतिरोधात्मक टीबी का भी पता लगाया जा सके एवं उनका समय पर मुफ्त इलाज शुरू किया जा सके। श्री पांडेय ने कहा कि राज्य के सभी स्वास्य केन्द्रों पर टीबी की जांच एवं इलाज पूर्णत: मुफ्त है परन्तु लोगों में इस बीमारी एवं उपलब्ध सुविधाओं के बारे में सही जानकारी न होने की वजह से ढेर सारी कठिनाइयोें का सामना करना पड़ता है। रीच ने मरीजों के परिप्रेक्ष्य में टीवी से लड़ने की योजना को एक मूर्त रूप दिया है, उम्मीद करता हूं कि आगामी तीन दिनों में प्रतिभागियों का क्षमतावर्धन होगा और ये अपने क्षेत्रों में काफी मुखर हो कर टीबी उन्मूलन कार्यक्रम में अपना अमूल्य योगदान देंगे।

यह भी पढ़े  पीएनबी घोटाले में सरकार की कार्रवाई नजीर बनेगी :

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here