145 करोड़ की लागत से बनेगा महाबोधि सांस्कृतिक केंद्र :मुख्यमंत्री

0
18

बोधगया – सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बोधगया स्थित महाबोधि मंदिर पहुंचे जहां प्रशासन के कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच वे महाबोधि मंदिर पहुचे। आयुक्त टीएन बिंदेश्वरी व गया जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने पवित्र खादा देकर सम्मानित किया श्री कुमार ने महाबोधि मंदिर स्थित गर्भ गृह में पूजा-अर्चना की और पवित्र बोधि वृक्ष के नीचे कुछ पल ध्यान साधना किया साथ ही मुचलंद सरोवर का निरीक्षण भी किया,पूजा-अर्चना करने के बाद कुछ देर बोधगया टेंपल मैनेजमेंट कमिटी सभागार में विश्राम किया उसके बाद बोधगया अवस्थित कृषि फार्म में 145 करोड़ के लागत से बनने वाले कल्चरल सेंटर कार्यक्रम का शुभारंभ किया ,जिसमें बिहार के उपमुख्यमंत्री श्री सुशील कुमार मोदी भवन निर्माण मंत्री श्री महेश्वर हजारी पर्यटन मंत्री श्री प्रमोद कुमार शिक्षा मंत्री कृष्ण नंदन प्रसाद वर्मा और .षि मंत्री डॉक्टर प्रेम कुमार विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद हुए।, वहीं कृषि फार्म पर प्रधान सचिव के द्वारा मुख्यमंत्री को पुस्तक देकर सम्मानित किया गया ,साथ ही भवन निर्माण मंत्री श्री महेश्वर हजारी ने कार्यक्रम को संबोधित कर कहा कि बोधगया बुद्ध की ज्ञानस्थली है ,जहां हजारों देशी व विदेशी पर्यटक प्रतिदिन घूमने आया करते हैं जिसको लेकर बोधगया अवस्थित .षि फॉर्म मैे कल्चरल सेंटर बनाया जा रहा है, वही सुबे के मुख्यमंत्री श्री कुमार ने कहा कि केंद्र सरकार की सहयोग से बोधगया में एक संस्.ति केंद्र बनाने को लेकर स्वी.ति मिली थी, जिसमें लगभग 200 क्षमता का तीन सभागार और बताकूलिंन कमरे बनाए जाएंगे साथ ही लगभग 200 से भी ऊपर वाहन की पाकिर्ंग बनाई जायेगी। सीएम ने महाबोधि मंदिर के विकास तथा सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा की। बोधगया टेम्पल मैनेजमेंट कमिटी के पुस्तकालय कक्ष में हुई बैठक में गया के जिलाधिकारी श्री अभिषेक सिंह ने सुरक्षा व्यवस्था को लेकर किये गए कायरे एवं तैयारियों के साथ ही 1 फरवरी 2018 की समीक्षा बैठक के दौरान मुख्यमंत्री द्वारा दिए गए निर्देशों के संबंध में अनुपालन प्रतिवेदन पर प्रस्तुतिकरण दिया। प्रेजेंटेशन के जरिये जिलाधिकारी ने वाच टावर, नाको के अधिष्ठापन हेतु अग्रेतर कार्रवाई, रेड पेडेस्टल, मंदिर परिसर में तैनात सुरक्षा कर्मियों के प्रशिक्षण, महाबोधि मंदिर के विकासात्मक कार्य, मंदिर परिसर में प्लास्टिक पर बैन, प्रकाश की व्यवस्था, पुलिस बैरक का निर्माण कार्य, यातायात व्यवस्था आदि के संदर्भ में विस्तृत जानकारी मुख्यमंत्री के समक्ष रखी। समीक्षा बैठक के क्रम में मुख्यमंत्री ने कई निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि महाबोधि मंदिर की पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए सुरक्षाकर्मियों की पर्याप्त संख्या होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि मंदिर की सुरक्षा और श्रद्धालुओं की सुविधा का ख्याल रखते हुए अगर मंदिर परिसर तक आने वाले रास्तों में किसी प्रकार का परिवर्तन करना हो तो उसे भी कीजिये। उन्होंने कहा कि मंदिर क्षेत्र में ई-रिक्शा ही चले, इसे सुनिष्चित किया जाय। उन्होंने सिक्युरिटी टावर को और इफेक्टिव बनाने के निर्देष दिये। मुख्यमंत्री ने कहा कि निर्माणाधीन कन्वेंशन सेंटर के पास ही 100 कमरों के फाइव स्टार नुमा होटल की सुविधा भी होनी चाहिए ताकि किसी भी देश के प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति आएं तो उन्हें ठहराया जा सके। कन्वेंशन सेंटर तभी कारगर होता है जब उसके बगल में आवासन की भी सुविधा हो। मुख्यमंत्री ने कहा कि कन्वेंषन सेंटर की क्षमता 2000 लोगों की होगी। ऐसे में करीब में होटल होने से उसका उपयोग और भी सुविधाजनक होगा

यह भी पढ़े  कई जिंदगियां निगल गया ‘राजनीति’ का रावण

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here