11 अप्रैल को‘‘ शिक्षा सुधार-पुस्तक उपहार’ कार्यक्रम

0
197
PATNA R L P OFFICE MEIN PRESS KO SAMBODHIT KERTE CENTARAL MINISTER UPENDRA KUSWAHA

पटना – राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व केन्द्रीय राज्यमंत्री उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा कि शिक्षा सुधार के क्रम में पार्टी 11 अप्रैल को महात्मा ज्योति बा फूले की जयंती पर पूरे राज्य में शिक्षा सुधार, पुस्तक उपहार कार्यक्रम चलायेगी। इसके तहत राज्य के सभी ब्लॉक में स्थापित कस्तूरबा विद्यालय में पार्टी की ओर से पुस्तकें उपहार में दी जाएंगी। इन पुस्तकों में एनसीईआरटी ,बच्चों के मोरल वैल्यू और शिक्षकों के शिक्षण के लिए उपयोगी पुस्तकों का वितरण किया जाएगा। केन्द्रीय राज्य मंत्री श्री कुशवाहा आज अपने प्रदेश कार्यालय में संवाददाता सम्मेलन को संबोदित कर रहे थे।उन्होंने कहा कि पुस्तक सामग्री के लिए पार्टी कार्यकर्ताओं के द्वारा धन संग्रह किया जाएगा। जिस ब्लॉक में जितना संग्रह होगा उतनी ही किताबें बांटी जाएंगी। पुस्तकों के लिए धन संग्रह का कार्य 24 मार्च से ही किया जाएगा। श्री कुशवाहा ने कहा कि शिक्षा में सुधार को लेकर पहले भी गांधी मैदान में रैली तथा बाद में मानव ऋंखला बनायी गयी थी। अब इस कड़ी में शिक्षा सुधार ,पुस्तक उपहार कार्यक्रम चलाया जाएगा। उन्होंने कहा कि यह निर्णय जिलाध्यक्षों की बैठक में लिया गया। इस बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि 24 मार्च को पार्टी सम्राट अशोक की जयंती मनायेगी। इस मौके पर उन्होंने उत्तर पूर्वी राज्यों में जीत दर्ज कराने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को बधाई दी है। उन्होंने राज्य में हो रहे उपचुनाव को ले कर कहा है कि इसके लिए पार्टी के कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों को जिम्मेदारी दी गयी है। उन्हें एनडीए उम्मीदवार को जीत दिलाने के लिए हर संभव प्रयास करने का निर्देश भी दिया है। उन्होंने कहा कि एनडीए के आलाकमान के आग्रह पर वे खुद भी 6 मार्च को भभुआ तथा 8 मार्च को अररिया जाकर एनडीए उम्मीदवार के पक्ष में प्रचार करेंगे। एनडीए से नाता तोड़ने के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह 100 फीसदी झूठी खबर है। बगैर सिर-पैर की इस बात पर कुछ भी कहना सही नहीं होगा। जीतनराम मांझी के सवाल पर उन्होंने कहा कि उन्होंने क्या सोचा यह तो वही बतायेंगे लेकिन एनडीए से नाता तोड़ने पर गठबंधन प्रभावित तो हुआ है। हर आदमी की अपनी राजनीतिक हैसियत होती है इससे इंकार नहीं किया जा सकता।

यह भी पढ़े  नियोजित शिक्षकों की वेतन वृद्धि पर अब 12 जुलाई को होगी सुनावाई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here