स्मृति : शहीद स्मारक पटना

0
310

आज ही दिन 1942 में ब्रिटिश हुकूमत को चुनौती देते हुए सूबे के सात लाल पुलिस की गोलियों से छलनी कर दिए गए थे। बापू के आह्वान पर अगस्त क्रांति में शामिल हो गए और सचिवालय पर तिरंगा फहराने की कोशिश करते हुए शहीद हो गए। भारत माता के नाम पर अपने प्राणों की आहूति दे दी। हमारी आजादी के लिए घर-परिवार भूल गए। अफसोस कि आज उन्हीं शहीदों को हम सब भूल रहे हैं।

शहीद स्मारक बिहार विधान सभा के मुख्य प्रवेश द्वार के सामने बना हुआ है। यह स्मारक पटना के स्कूलों से आज़ादी की लड़ाई में जान देने वाले सात शहीदों के प्रति श्रद्धांजली है। 1942 के भारत छोड़ो आन्दोलन के समय विधान सभा भवन के ऊपर भारतीय तिरंगा फहराने के प्रयास में मारे गए पटना के इन शहीदों को याद रखने के लिए बिहार के पहले राज्यपाल जयरामदास दौलतराम ने 15 अगस्त, 1947 को इस स्मारक की नींव रखी थी। प्रख्यात मूर्तिकार देवी प्रसाद रायचौधरी द्वारा इन भव्य आदमकद मूर्तियों को इटली में बनाकर यहाँ लगाया गया था।

यह भी पढ़े  बदल रहा बिहार :फल व सब्जियों के उत्पादन में बिहार का विशिष्ट स्थान

सन 1942 मात्र ‘अंग्रेज़ों भारत छोड़ो’ या फिर ‘करो या मरो’ के लिए ही याद नहीं किया जाता। यह वर्ष अंग्रेज़ों के असंख्य अत्याचारों से ग्रसित लोगों की वेदना के लिए भी याद किया जाता है। देश के क्रांतिकारियों पर ढाये गए क्रूरतम अत्याचार की कहानी पटना स्थित शहीद स्मारक को देखकर याद आती है।
11 अगस्त, 1942 की शाम को पटना सचिवालय पर तिरंगा फहराने के इरादे से गए क्रांतिकारियों पर पटना ज़िले के कलेक्टर आर्चर ने गोली चलवा दी। इस गोली काण्ड में सात क्रान्तिकारी शहीद हुए और अनेक लोग घायल हो गए। शहीद स्मारक इन्हीं सात शहीदों की स्मृति में बनाया गया है। ये सभी क्रांतिकारी विद्यार्थी थे।
शहीद होने वाले सात क्रांतिकारियों के नाम इस प्रकार थे-
उमाकान्त प्रसाद सिंह – सारण ज़िले के नरेन्द्रपुर गाँव के निवासी उमाकान्त प्रसाद सिंह राम मोहन राय सेमीनरी स्कूल में इंटर के छात्र थे। इनके पिता राजकुमार सिंह थे।
रामानन्द सिंह – ये राम मोहन राय सेमीनरी स्कूल पटना में इंटर के छात्र थे। इनका जन्म पटना के शहादत नगर में हुआ था। इनके पिता लक्ष्मण सिंह थे।
सतीश प्रसाद झा- इनका जन्म भागलपुर ज़िले के खड़हरा में हुआ था। ये कालेजियट स्कूल के छात्र थे। पिता जगदीश प्रसाद झा थे।
जगपति कुमार- इस महान सपूत का जन्म गया ज़िले के खराठी नामक गाँव में हुआ था।
देवीपद चौधरी- इनका जन्म सिलहर ज़िले के अंतर्गत जमालपुर गाँव में हुआ था। ये मीलर हाईस्कूल में नौंवी के विद्यार्थी थे।
राजेन्द्र सिंह – सारण ज़िले के बनवारी चक गाँव में इनका जन्म हुआ था। ये पटना हाईस्कूल में इंटर के विद्यार्थी थे।
राय गोविन्द सिंह- इनका जन्म पटना के दशरथ नामक गाँव में हुआ था। ये पुनपुन हाईस्कूल में इंटर के विद्यार्थी थे।

यह भी पढ़े  फिर से मोदी मैजिक: जानें, BJP के मिशन 300 प्लस में क्या रहा उत्तर भारत का रोल?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here