सूबे में बिजली होगी सस्ती,एनटीपीसी के साथ करार

0
38
PATNA - SAMVADH BHAVAN ME C . M . NITISH KUMAR BIHAR SARKAR AND NTPC KE SATH MOU KE DWARAN KANDARIA MANTARE R . K . SINGH

बरौनी र्थमल पावर, कांटी बिजली उत्पादन निगम व नवीनगर पावर जेनेरेटिंग कंपनी को 33 वर्ष के लीज पर एनटीपीसी को देने का एमओयू इस करार के बाद ऊर्जा विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत बोले-राज्य सरकार को जो बचत होगी इसका फायदा उपभोक्ताओं को दिया जायेगासालाना 875.06 करोड़ की बचत 
द पटना : राज्य सरकार और एनटीपीसी के बीच मंगलवार को हुए करार से प्रदेश में बिजली की दर सस्ती हो जाएगी। दोनों के बीच एमओयू से बिहार सरकार को सलाना 875.06 करोड़ की बचत होगी। इस राशि का सीधा फायदा बिजली उपभोक्ताओं को दिया जाएगा। ऊर्जा विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि बरौनी र्थमल पावर, कांटी बिजली उत्पादन निगम व नवीनगर पावर जेनेरेटिंग कंपनी को 33 वर्ष के लीज पर एनटीपीसी को देने के एमओयू पर हस्ताक्षर किये गये हैं। उन्होंने स्पष्ट किया कि इस पूरी प्रक्रिया से प्रदेश के उपभोक्ताओं का फायदा होने जा रहा है। एनटीपीसी के साथ आज के एमओयू होने पर राज्य सरकार को 875.06 करोड़ की सलाना बचत होगी। बचत होने के पीछे तर्क देते हुए श्री अमृत ने कहा कि राज्य सरकार जो लोन लेकर बिजली खरीदती थी वह लोन उसे महंगे दर पर मिलती थी। किंतु ऊर्जा क्षेत्र की कंपनी एनटीपीसी को सस्ती दर पर लोन उपलब्ध हो जाता है। उन्होंने कहा कि एनटीपीसी को सस्ते कोल ब्लॉक मिले हुए हैं जिसका फायदा उसे बिजली उत्पादन की लागत में होता है। उन्होंने कहा कि एनटीपीसी ऊर्जा क्षेत्र में देश की सबसे कंपनी है। ज्ञात हो कि बरौनी र्थमल पावर स्टेज-1 तथा स्टेज-2 का मौजूदा अनुमानित टैरिफ क्रमश: 5.32 रुपये प्रति यूनिट तथा 6.30 रुपये प्रति यूनिट आकलित किया गया है। लेकिन एनटीपीसी को हस्तांतरित कर दिए जाने पर बरौनी स्टेज-1 तथा स्टेज-2 का टैरिफ क्रमश: 5.11 रुपये प्रति यूनिट तथा 4.37 रुपये प्रति यूनिट हो जाएगा। इस तरह राज्य सरकार को बरौनी र्थमल पावर के हस्तांतरण से 684.07 करोड़ सलाना बचत होगी। इसी प्रकार कांटी बिजली उत्पादन निगम लिमिटेड के स्टेज-1 तथा स्टेज-2 का मौजूदा अनुमानित टैरिफ क्रमश: 4.86 रुपये प्रति यूनिट तथा 6.36 रुपये प्रति यूनिट आकलित किया गया है। एनटीपीसी के हस्तांतरण के पश्चात स्टेज-1 तथा स्टेज-2 का टैरिफ क्रमश: 4.79 रुपये प्रति यूनिट तथा 6.13 रुपये प्रति यूनिट हो जाएगा। इससे राज्य सरकार को प्रति वर्ष 54.69 करोड़ की बचत होगी। 
पटना (एसएनबी)। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पूरे देश में एकसमान बिजली दर किए जाने पर बल दिया है। उन्होंने कहा कि ऐसी व्यवस्था होनी चाहिए कि पूरे देश में बिजली दर एक हो। मुख्यमंत्री ने कहा कि बरौनी, नवीनगर एवं कांटी विद्युत उत्पादन इकाई का एनटीपीसी को स्वामित्व हस्तांतरण से बिजली की दर कमेगी। राज्य की जनता सस्ती बिजली दर से लाभान्वित होगी। एनटीपीसी का अपना सिस्टम है और वह बेहतर कार्य करती हैठ इससे बिजली जेनेरेशन बेहतर होगा। हमारी इच्छा है कि राज्य में जल्द से जल्द एग्रीकल्चर फीडर लग जाए ताकि किसानों को कम से कम 8 घंटे बिजली आसानी से मिल सके।
द पटना (एसएनबी)। राज्य सरकार और एनटीपीसी के बीच मंगलवार को हुए करार से प्रदेश में बिजली की दर सस्ती हो जाएगी। दोनों के बीच एमओयू से बिहार सरकार को सलाना 875.06 करोड़ की बचत होगी। इस राशि का सीधा फायदा बिजली उपभोक्ताओं को दिया जाएगा। ऊर्जा विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत ने आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि बरौनी र्थमल पावर, कांटी बिजली उत्पादन निगम व नवीनगर पावर जेनेरेटिंग कंपनी को 33 वर्ष के लीज पर एनटीपीसी को देने के एमओयू पर हस्ताक्षर किये गये हैं। उन्होंने स्पष्ट किया कि इस पूरी प्रक्रिया से प्रदेश के उपभोक्ताओं का फायदा होने जा रहा है। एनटीपीसी के साथ आज के एमओयू होने पर राज्य सरकार को 875.06 करोड़ की सलाना बचत होगी। बचत होने के पीछे तर्क देते हुए श्री अमृत ने कहा कि राज्य सरकार जो लोन लेकर बिजली खरीदती थी वह लोन उसे महंगे दर पर मिलती थी। किंतु ऊर्जा क्षेत्र की कंपनी एनटीपीसी को सस्ती दर पर लोन उपलब्ध हो जाता है। उन्होंने कहा कि एनटीपीसी को सस्ते कोल ब्लॉक मिले हुए हैं जिसका फायदा उसे बिजली उत्पादन की लागत में होता है। उन्होंने कहा कि एनटीपीसी ऊर्जा क्षेत्र में देश की सबसे कंपनी है। ज्ञात हो कि बरौनी र्थमल पावर स्टेज-1 तथा स्टेज-2 का मौजूदा अनुमानित टैरिफ क्रमश: 5.32 रुपये प्रति यूनिट तथा 6.30 रुपये प्रति यूनिट आकलित किया गया है। लेकिन एनटीपीसी को हस्तांतरित कर दिए जाने पर बरौनी स्टेज-1 तथा स्टेज-2 का टैरिफ क्रमश: 5.11 रुपये प्रति यूनिट तथा 4.37 रुपये प्रति यूनिट हो जाएगा। इस तरह राज्य सरकार को बरौनी र्थमल पावर के हस्तांतरण से 684.07 करोड़ सलाना बचत होगी। इसी प्रकार कांटी बिजली उत्पादन निगम लिमिटेड के स्टेज-1 तथा स्टेज-2 का मौजूदा अनुमानित टैरिफ क्रमश: 4.86 रुपये प्रति यूनिट तथा 6.36 रुपये प्रति यूनिट आकलित किया गया है। एनटीपीसी के हस्तांतरण के पश्चात स्टेज-1 तथा स्टेज-2 का टैरिफ क्रमश: 4.79 रुपये प्रति यूनिट तथा 6.13 रुपये प्रति यूनिट हो जाएगा। इससे राज्य सरकार को प्रति वर्ष 54.69 करोड़ की बचत होगी। नवीनगर पावर जेनेरेटिंग कंपनी लिमिटेड का अनुमानित टैरिफ 3.98 रुपये प्रति यूनिट आकलित किया गया है जो एनटीपीसी के पूर्ण हस्तांतरण के बाद 3.84 रुपये प्रति यूनिट होगा। इससे राज्य सरकार को प्रति वर्ष 136.30 करोड़ रुपये की बचत होगी। इस तरह तीनों यूनिटों को एनटीपीसी को हस्तांतरित किए जाने से कुल 875.06 की बचत संभावित होगी। ऊर्जा विभाग के प्रधान सचिव श्री अमृत ने कहा कि राज्य सरकार व एनटीपीसी के बीच एक ऐतिहासिक करार हुआ है और यह दिन प्रदेश के लिए भी ऐतिहासिक है। उन्होंने कहा कि हस्तांतरण की प्रक्रिया 1 जून 2018 तक पूरी कर ली जाएगी। उन्होंने जोर देकर कहा कि सरकार को 875.06 करोड़ की बचत होने से इसका फायदा उपभोक्ताओं को मिलेगा। बिजली की दर भी सस्ती हो जाएगी। संवाददाता सम्मेलन में एनटीपीसी के सीएमडी गुरदीप सिंह भी मौजूद थे। उल्लेखनीय है कि इसके पूर्व मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की मौजूदगी में मुख्यमंत्री सचिवालय के संवादकक्ष में ऊर्जा क्षेत्र में विकास के लिए राज्य सरकार व एनटीपीसी के बीच एमओयू पर हस्ताक्षर किया गया। इस मौके पर केन्द्रीय ऊर्जा मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) आरके सिंह, प्रदेश के ऊर्जा मंत्री बिजेन्द्र प्रसाद यादव, मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह, ऊर्जा विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव व सचिव, एनटीपीसी के सीएमडी गुरमीत सिंह समेत विभागीय निदेशक व वरिष्ठ पदाधिकारी मौजूद थे। एमओयू के तहत 720 मेगावाट के बरौनी र्थमल पावर को एनटीपीसी को सौंपा गया है। साथ ही नवीनगर पावर जेनेरेटिंग कंपनी और कांटी बिजली उत्पादन निगम की इक्विीटी को भी एनटीपीसी को ट्रांसफर किया गया है। तीनों कंपनियों को 33 वर्ष की लीज पर एनटीपीसी को दिया गया है।

यह भी पढ़े  धान-गेहूं खरीद की जिम्मेवारी राज्य सरकार की : रामविलास

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here