सूबे के 10 हाफिजों को फ्लेम दिलाएगा मुफ्त स्कूली शिक्षा

0
92

फोरम फॉर लिटरेसी अवेयरनेस एंड मुस्लिम एजुकेशन (फ्लेम) के अध्यक्ष डॉ एए हई ने कहा है कि राज्य के मुस्लिम बच्चों को अच्छी शिक्षा देने के लिए कर्नाटक के बेदर, कर्नाटक के शाहीन इंस्टीच्यूट के संचालक अब्दुल कादिर खलिल ने दस हाफिज बच्चों की मांग की है जिन्हें 12वीं तक की शिक्षा मुफ्त में दी जायेगी। इसलिए हमलोग एक रिवाल्विंग फंड बनाना चाहते हैं जिसके माध्यम से उन छात्रों को फंड उपलब्ध कराया जायेगा और जब वे नौकरी में आ जायेंगे तो उस फंड को उन्हें वापस करना होगा। ये बातें उन्होंने शनिवार एसके मेमोरियल हॉल में एफमी के 27वें सम्मेलन में आए अतिथियों का स्वागत करते हुए कहीं। उन्होंने कहा कि फ्लेम साक्षरता की दर बढ़ाने पर काम करने के अलावा अब गुणवत्तापूर्ण शिक्षा पर भी जोर देगा। एफमी के फाउंडर ट्रस्टी डॉ एएस नाकादार ने कहा कि मुस्लिम बच्चे-बच्चियों को अपनी रुचि के हिसाब से पाठ्यक्रम चुनना चाहिए। उन्हें अपना लक्ष्य तय कर तदनुरूप अपनी तैयारी करनी चाहिए। आप अगर निडर होकर अपने लक्ष्य की ओर बढ़ेंगे तभी आपका देश भारत भी आगे बढ़ेगा। आप अपने देश की आत्मा है, इसलिए आपके कर्तव्य से ही भारत महान देश बनेगा। इतिहास इस बात का गवाह है कि कई बार असफलता झेलने के बाद विश्व की कई हस्तियां आगे बढ़ी हैं। एफमी के अध्यक्ष मो. कुतुबद्दीन ने इस समागम में जुटे लोगों से कहा कि आप अपने भविष्य के बारे में सोचें और उसके लिए कड़ी मेहनत करें। हिन्दू-मुसलमान साथ-साथ रहेंगे तभी भारत महान कहलायेगा। एफमी के 27वें सम्मेलन समारोह के मुख्य अतिथि और बिहार विधान परिषद् के कार्यकारी सभापति हारून रशीद ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में बिहार सरकार अल्पसंख्यकों के लिए अच्छी-अच्छी योजनाएं चला रही है। कौशल विकास की ट्रेनिंग भी दी जा रही है। मदरसों को भी सुविाएं दी जा रही हैं। उन्होंने कहा कि आज से 10 साल पहले के भारत की जनगणना के अनुसार देश के 28 जिलों में साक्षरता दर काफी कम थी जिसमें सिर्फ बिहार के 18 मुस्लिम बहुल जिले शामिल थे। उन्होंने कहा कि हमने भी तालिमी बेदारी आंदोलन शुरू किया है जिसमें मुस्लिम बच्चे-बच्चियों की शिक्षा पर काम किया जा रहा है। इस अवसर पर डॉ हई को सर सैयद अवार्ड और कामना प्रसाद को ‘‘मीर तकी मीर’ अवार्ड दिया गया। कवियित्री फरहत हसन, बेदर के अब्दुल कादिर खलील, गूंजा सरोवर, अहमद असफाक करीम, नरगिस निशा, मोहम्मद हसन अली को एक्सेलेंस अवार्ड दिया गया। 150 टॉपर बच्चे-बच्चियों को मेडल देकर उत्साहर्वान किया गया।सूद के मुद्दे पर हुआ विमर्शएकेडमिक सेशन में बैंक से सूद लेने के मुद्दे पर विस्तार से र्चचा की गयी जिसमें चेन्नई के डॉ शादाकादुल्लाह ने बताया कि बैंको में सूद की अरबों की राशि पड़ी है जिसे कोई ले नहीं रहा है।

यह भी पढ़े  अजा-अजजा एक्ट मामले पर पुनर्विचार हो :जीतन राम मांझी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here