सुखाड़ की स्थिति को लेकर समीक्षा बैठक, सार्वजनिक स्थानों पर अधिक चापाकल लगाएं : मुख्यमंत्री

0
33
PATNA C M SECRETARIAT MEIN EX MINISTER FAIYAJ BHAGAL PURI KE NIDHAN PER SOK SBHA MEINSHAMIL CM NITISH KUMAR AND OTHER

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य में पेयजल की समस्या को लेकर पीएचईडी को निर्देश दिया कि प्रखंड स्तर तक इसका सर्वे कराये. उन्होंने पीएचईडी के सचिव को निर्देश दिया कि जहां पेयजल की समस्या है, उस क्षेत्र में कार्यरत कनीय अभियंता, सहायक अभियंता के माध्यम से प्रखंडवार सर्वे करा लें. साथ ही अगली बैठक में वस्तुस्थिति से अवगत कराएं.

बेकार हो चुके चापाकलों को हटाया जाए और जहां जरूरत हो वहां नए चापाकल लगाए जाएं। सार्वजनिक जगहों पर चापाकल लगाने से ज्यादा से ज्यादा परिवार इसका लाभ उठा पाएंगे। पशुओं के पेयजल एवं उनके रहने के लिए जो व्यवस्था बनाने का निर्देश पहले दिया गया था, उसपर तत्परता से कार्रवाई सुनिश्चित करें। ये बातें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को 1-अणो मार्ग स्थित संकल्प में सुखाड़ से संबंधित समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए कहीं। बैठक में कम वष्ा होने के कारण फसल की वर्तमान स्थिति, कम वष्ा होने के कारण कृषि विभाग की तैयारियों, विभिन्न जिलों में पेयजल के जलस्तर की स्थिति के बारे में मुख्यमंत्री ने समीक्षा की। सचिव, लोक स्वास्य अभियंतण्रविभाग ने छह वर्ष पहले सितम्बर माह में विभिन्न जिलों में भू-जलस्तर की स्थिति एवं इस वर्ष इसी माह में भू-जलस्तर का तुलनात्मक ब्योरा प्रस्तुत किया। मुख्यमंत्री ने सचिव, लोक स्वास्य अभियंतण्रविभाग को निर्देश दिया कि जहां पेयजल की समस्या है, वहां क्षेत्र में कार्यरत कनीय अभियंता, सहायक अभियंता इत्यादि के माध्यम से प्रखण्डवार सव्रे करा लें और अगली बैठक में वस्तुस्थिति से अवगत कराएं। हर घर नल का जल योजना के साथ-साथ चापाकल की व्यवस्था सुनिश्चित कराएं। मुख्यमंत्री ने प्रधान सचिव,कृषि को निर्देश दिया कि वे जिला कृषि पदाधिकारी और प्रखंड कृषि पदाधिकारी के माध्यम से जमीनी स्तर पर सभी चीजों की विस्तृत जानकारी प्राप्त कर लें ताकि अगली बैठक में किसानों के हित में निर्णय लिया जा सके। फसलों की रोपनी होने के बाद जो फसल सूख रहे हैं, उनकी किसान कटाई न करें ताकि सव्रेक्षण में पता चल सके और किसानों को फसल सहायता योजना का लाभ मिल सके। किसानों को तत्काल आपदा प्रबंधन के तहत मिलने वाली सहायता के संबंध में विभाग तैयारी कर ले। सभी डाटा कलेक्शन 15 अक्टूबर तक तैयार कर लें ताकि उसकी समीक्षा कर किसानों को आपदा प्रबंधन संबंधी सहायता एवं फसल सहायता योजना के संबंध में निर्णय लिया जा सके। बैठक में भारतीय मौसम विज्ञान के प्रतिनिधि ने बताया कि अगले दो दिनों में पूर्व बिहार और उत्तर पूर्व बिहार में बारिश हो सकती है क्योंकि इस्टर्ली विंड स्पायरल-वे बिहार की तरफ बढ़ रहा है। बैठक में मुख्यमंत्री के परामर्शी अंजनी कुमार सिंह, मुख्य सचिव दीपक कुमार, सहकारिता विभाग के प्रधान सचिव अतुल प्रसाद, प्रधान सचिव कृ़षि सुधीर कुमार, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार, प्रधान सचिव ऊर्जा एवं आपदा प्रबंधन प्रत्यय अमृत, मुख्यमंत्री के सचिव मनीष कुमार वर्मा, सचिव लोक स्वास्य एवं अभियंतण्र जितेंद्र श्रीवास्तव, निदेशक कृषि आदेश तितरमारे, मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी गोपाल सिंह सहित अन्य वरीय अधिकारी उपस्थित थे।

यह भी पढ़े  अभियंता दंपति हत्याकांड में केयर टेकर गिरफ्तार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here