सीवान में बस पलटी, 7 की मौत

0
72

सीवान जिले के मुफस्सिल थाना क्षेत्र में सोमवार को एक निजी बस के पलट जाने से दो महिलाओं समेत छह यात्रियों की मौत हो गयी तथा 20 अन्य घायल हो गये। पुलिस सूत्रों ने यहां घटना के संबंध में बताया कि गोपालगंज से सीवान आ रही एक निजी बस अमलौरी-सरसर स्थित बीएड कॉलेज के निकट पलट गयी। इस दुर्घटना में छह यात्रियों की मौत हो गयी तथा 20 अन्य घायल हो गये। घटना के बाद इलाके में कोहराम मच गया। ग्रामीणों की मदद से घायलों का प्राथमिक उपचार किया गया। दुर्घटना का कारण तेज रफ्तार बस का अगला टायर फट जाना बताया जाता है। सूत्रों ने बताया कि मृतकों में गोपालगंज जिले के मीरगंज थाना क्षेत्र के बरईपट्टी गांव निवासी बस का सह चालक जाकिर (25), कोमल कुमार (30), मंटू कुमार (29) और निर्मला देवी (35) शामिल हैं, जबकि एक महिला और एक पुरु ष की पहचान नहीं हो सकी। दुर्घटना में घायल आठ यात्रियों की स्थिति चिंताजनक बनी हुई थी, जिन्हें पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) भेजा गया है। वहीं, 12 यात्रियों का इलाज सीवान सदर अस्पताल में चल रहा था। दुर्घटना के बाद बस का चालक मौके से फरार हो गया। पुलिस ने बस को जब्त कर लिया है।

यह भी पढ़े  10 रुपए के खातिर युवक को गोलियों से भूना, सीने व कनपटी में मारी कई गोली

सीवान-गोपालगंज मुख्य मार्ग के मुफस्सिल थाने के सरसर बीएड कॉलेज के पास सोमवार की सुबह गोपालगंज से आ रही एक बस टायर फटने से पलट गयी, जिससे दो महिलाओं सहित सात यात्रियों की मौत घटनास्थल पर ही हो गयी.
वहीं 25 लोग घायल हो गये. घायलों को सीवान सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां से करीब एक दर्जन लोगों को पीएमसीएच रेफर कर दिया गया. मृतकों में छह गोपालगंज और एक पश्चिमी चंपारण के रहनेवाले थे. इनमें दो महिलाएं हैं.

मृतकों में गोपालगंज के राजू साह, जाकिर नट, राम प्रसाद राम, वीरेंद्र महतो, निर्मला देवी, सुमन देवी व पश्चिमी चंपारण के गोपी चंद्र राम शामिल हैं. बताया जाता है कि यात्रियों से भरी बस गोपालगंज से सीवान तेज गति से आ रही थी. इसी दौरान बस के आगे के बायें चक्के का टायर फट गया, जिसके बाद बस अनियंत्रित होकर रोड की बायीं तरफ पलट गयी.
इसके बाद यात्रियों की चीख-पुकार होने लगी. आस-पास बस्ती नहीं होने के कारण यात्रियों की मदद मिलने में थोड़ी देर हुई. इसके बाद लोग पहुंचे और थाने को सूचना देने के बाद घायलों को निकालने में जुट गये. सूचना मिलने के बाद सदर अस्पताल से स्वास्थ्य विभाग ने चार एंबुलेंसों को घायलों को लाने के लिए भेजा गया.
सूचना मिलते ही डीएम रंजीता, एसपी नवीन चंद्र झा और कई अन्य प्रशासनिक अधिकारी सदर अस्पताल पहुंचे और घायलों की मदद की. इधर, पटना में राज्यपाल लाल जी टंडन ने सोमवार को सीवान-गोपालगंज पथ पर सीवान सदर प्रखंड के अमलोरी सरसर के समीप बस दुर्घटना में हुई लोगों की मृत्यु पर अपनी गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है. राज्यपाल ने शोक संतप्त परिजनों को धैर्य धारण की क्षमता प्रदान करने के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है.
मृतकों में दो महिलाएं भी शामिल, एक दर्जन घायल पीएमसीएच में भर्ती
मां को तलाश रही थी बबलू की सूनी आंखें
सीवान : सदर अस्पताल के ओपीडी में इलाजरत महिला व पुरुष के साथ रहे चार साल का बबलू भी पड़ा था. उसकी सूनी आंखें अपनी मां को खोज रहा था.
बिस्तर पर पड़ी महिला की ओर इशारा करने पर उसने बताया कि वह उसकी दादी है. बबलू को यह पता नहीं था कि उसकी मां अब इस दुनिया में नहीं है. होश आने पर महिला ने बताया कि बहू के साथ पोते का इलाज करने जा रही थी. लेकिन, उसकी बहू हादसे में चल बसी.

यह भी पढ़े  सभी सरकारी स्कूलों में पहुंचेगा नल का जल

अधिक सवार थे यात्री, ड्राइवर की लापरवाही से हुआ हादसा
सीवान/गोपालगंज : बस में सवार गोपालगंज के मौनिया चौक निवासी व ट्रेन के लोको पायलट चंद्रपाल कौल बस में सवार थे. उन्होंने बताया कि बस में क्षमता से अधिक यात्री सवार थे.
वह सीवान से गोरखपुर ड्यूटी करने जा रहे थे. चंद्रपाल ने बताया कि 10:45 मिनट पर मीरगंज से बस निकली. करीब 11:05 मिनट पर अमलोरी पहुंचते ही बस के आगे का चक्का ब्लास्ट कर गया.
चक्का ब्लास्ट करते ही बस सांप की तरह लड़खड़ाने लगी. स्पीड भी कम नहीं था. इससे चालक बस को नियंत्रित नहीं कर सका. हादसे के बाद चारों तरफ लोगों का खून बिखरा था. बस में फंसे लोग बचाओ-बचाओ चिल्ला रहे थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here