सीयूएसबी के लिए ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि एक सप्ताह बढाइ गई

0
50

देश के विभिन्न राज्यों खासकर दूरदराज इलाकों में रहने वाले विद्यार्थी जो उच्च शिक्षा के लिए इच्छुक हैं और किसी वजह से अब तक केंद्रीय विविद्यालय संयुक्त प्रवेश परीक्षा (सीयूसीईटी) – 2019 का फॉर्म नहीं भर पाए हैं उनके लिए अच्छी खबर है। दक्षिण बिहार केन्द्रीय विविद्यालय (सीयूएसबी) के जन संपर्क पदाधिकारी मो. मुदस्सीर आलम ने बताया कि विद्यार्थियों के हितों को ध्यान में रखते हुए सीयूसीईटी के लिए ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तिथि एक सप्ताह बढ़ा दी गयी है। उन्होंने कहा कि पहले ऑनलाईन आवेदन की अंतिम तिथि 13 अप्रैल थी जो बढ़ाकर 20 अप्रैल तक कर दी गयी है।सीयूएसबी की परीक्षा नियंत्रक रश्मि त्रिपाठी ने बताया हमें देशभर से सीयूसीईटी में शामिल होने के लिए काफी बड़ी संख्या में आवेदन मिले हैं। पर, अब भी कुछ अभ्यर्थी किसी वजह से आवेदन की प्रक्रिया पूरी नहीं कर पाए हैं, इसलिए हमने आवेदन की अंतिम तिथि एक सप्ताह आगे बढ़ाने का निर्णय लिया है। इससे छात्रों को लाभ होगा और उन्हें केन्द्रीय विविद्यालय में अपना मनपसंद कोर्स पढ़ने का मौका मिलेगा।श्रीमती त्रिपाठी ने बताया कि सीयूएसबी ने इस वर्ष 45 विषयों के लिए नामांकन आमंत्रित किया है। इनमें स्नातक के तीन, स्नातकोत्तर के 22 और पीएचडी स्तर के 20 पाठय़क्रम शामिल हैं। इस वर्ष भारत के साथ पड़ोसी देश काठमांडू (नेपाल) में भी सीयूसीईटी-2019 का परीक्षा केंद्र बनाया गया है। सीयूसीईटी – 2019 में सीयूएसबी के साथ 14 अन्य केन्द्रीय विविद्यालयों तथा बेंगलुरु के डॉ. बीआर अम्बेडकर स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स शामिल हैं। इस वर्ष सीयूसीईटी में बिहार में स्थित सीयूएसबी, गया एवं मोतिहारी स्थित महात्मा गांधी सेन्ट्रल यूनिवर्सिटी के साथ झारखंड, हरियाणा, जम्मू, कश्मीर, कर्नाटक, केरल, पंजाब, राजस्थान, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, गुजरात स्थित केन्द्रीय विविद्यालय तथा असम यूनिवर्सिटी (सिल्चर) शामिल हैं। सीयूसीईटी ने एक नए पहल को तौर पर इच्छुक अभियर्थियों को एक साथ एक विविद्यालय में एक बार फीस देकर तीन कोर्सेज तथा तीन विविद्यालयों को मिला कर नौ कोर्सेज में आवेदन करने का अवसर दिया है। दुगुनी फीस देने पर एक अभ्यर्थी एक विविद्यालय में छह कोर्सेज तथा तीन विविद्यालयों को मिला कर 18 कोर्सेज में अप्लाई कर सकता है। सामान्य एवं ओबीसी वर्ग के लिए परीक्षा फीस 800 रपए है, एससी – एसटी वर्ग के लिए फीस 350 रपए है जबकि पीडब्ल्यूडी के लिए कोई शुल्क देय नहीं होगा। पीएचडी प्रवेश परीक्षा में इस वर्ष से निगेटिव माकिर्ंग हटा लिया गया है जबकि यूजी तथा पीजी स्तर पर निगेटिव माकिर्ंग जारी रहेगा। अकादमिक विभाग के सहायक कुलसचिव कुमार कौशल ने बताया कि सीयूसीईटी – 2019 के माध्यम से इच्छुक उम्मीदवार अपनी पसंद के अनुसार दक्षिण बिहार केंद्रीय विविद्यालय में पढ़ाये जाने वाले विभिन्न कोर्सेज के लिए 20 अप्रैल तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। 21 से 23 अप्रैल तक अगर फॉर्म में दी गई किसी जानकारी में कोई त्रुटि हो तो उसे ऑनलाईन दुरुस्त कर सकते हैं। 25 एवं 26 मई को देश भर में करीब 120 केंद्रों पर प्रवेश परीक्षा होगी। परिणाम 21 जून को घोषित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इच्छुक अभियर्थी अप्लाई करने से पहले संबंधित विविद्यालय की वेबसाइट में योग्यता संबंधी दिशा निर्देश को जरूर जांच लें। सीयूसीईटी – 2019 की विस्तृत जानकारी विविद्यालय की वेबसाइट पर उपलब्ध है। श्री कौशल ने बताया कि विवि ने स्नातक स्तर में तीन विषयों में नामांकन आमंत्रित किये हैं। इनमें चार वर्षीय इंटीग्रेटेड बीए बीएड, बीएससी बीएड एवं पांच-वर्षीय इंटीग्रेटेड बीए एलएलबी ऑनर्स शामिल हैं। स्नातकोत्तर स्तर में छात्र 22 विषयों बॉयोटेक्नोलॉजी, बायोइन्फॉरमेटिक्स, लाइफ साइंस, इनवायरमेंटल साइंस, फिजिक्स, केमेस्ट्री, एमए मैथमेटिक्स, स्टेटिस्टिक्स, कंप्यूटर साइंस, साइकोलजी, एमकॉम, जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन, इंग्लिश, हिंदी, एलएलएम, एमएड, डेवलपमेंट स्टडीज, इकोनॉमिक्स, सोशियोलॉजी, सोशल वर्क, हिस्ट्री एवं पॉलिटिकल साइंस एंड इंटरनेशनल रिलेशन्स विषय में नामांकन प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि विविद्यालय ने इस वर्ष 20 विषयों में पीएचडी में नामांकन के लिए भी आवेदन आमंत्रित किया है। इनमें बयोटेक्नोलॉजी, बायोइन्फॉरमेटिक्स, लाइफ साइंस, इनवायरमेंटल साइंस मैथमेटिक्स, स्टेटिस्टिक्स कंप्यूटर साइंस, फिजिक्स, केमिस्ट्री, एजुकेशन, इंग्लिश, हिंदी, साइकोलॉजी, क्लीनिकल साइकोलॉजी, सोशियोलॉजी, इकोनॉमिक्स, कम्युनिकेशन एंड मीडिया स्टडीज, डेवलपमेंट स्टडीज, पॉलिटिकल साइंस एंड इंटरनेशनल रिलेशंस तथा लॉ शामिल हैं।

यह भी पढ़े  युवा पीढ़ी भारत को जगद्गुरु की गरिमा फिर दिला सकती है : राज्यपाल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here