सिमुलतला ने फिर लहराया परचम

0
29
Patna-June.26,2018-Students are celebrating after declared Bihar Board matric examination result in Patna.

इस वर्ष की मैट्रिक की परीक्षा में लड़कियों ने एक बार फिर बाजी मारी है। मंगलवार को मैट्रिक परीक्षा-2018 का परिणाम जारी किया गया, जिसमें कुल 68.89 प्रतिशत विद्यार्थियों ने उत्तीर्णता हासिल की है। पिछले वर्ष 50.12 प्रतिशत विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए थे। इस बार पिछले साल की तुलना में 18.77 प्रतिशत विद्यार्थी अधिक उत्तीर्ण हुए हैं। परीक्षा में जमुई स्थित सिमुलतला आवासीय विद्यालय का प्रदर्शन शानदार रहा। इस स्कूल की छात्रा प्रेरणा राज ने 91.04 प्रतिशत अंक लाकर राज्य में टॉपर होने का गौरव हासिल किया है। परीक्षा में शीर्ष तीन स्थान पाने वालों में छात्राएं हैं और ये सभी सिमुलतला आवासीय विद्यालय की हैं। परीक्षा में शीर्ष दस स्थान पाने वालों में कुल 23 विद्यार्थी शामिल हैं, जिनमें 16 सिमुलतला आवासीय विद्यालय के हैं। परीक्षा में कुल 1,89,326 विद्यार्थियों ने प्रथम श्रेणी, 6,63,884 विद्यार्थियों ने द्वितीय श्रेणी तथा 3,57,103 विद्यार्थियों ने तृतीय श्रेणी में उत्तीर्णता प्राप्त की है। कुल 5,38,825 विद्यार्थी अनुत्तीर्ण हुए हैं। इससे पहले शिक्षा विभाग के मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा ने परिणाम जारी किया। इस अवसर पर बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अध्यक्ष आनंद किशोर एवं शिक्षा विभाग के सचिव रॉबर्ट एल चोंग्थू भी उपस्थित थे। शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा ने कहा कि मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट उत्साहित करने वाला है। टॉप री में सभी लड़कियों का होना यह साबित करता है कि सरकार बेटियों की शिक्षा के प्रति संकल्पित है। सरकार विभिन्न योजनाओं के माध्यम से बेटियों को पढ़ाई के प्रति जागरुक कर रही है। इस मौके पर बिहार विद्यालीय परीक्षा समिति के अध्यक्ष आनंद किशोर ने बताया कि वार्षिक माध्यमिक परीक्षा 2018 के आयोजन के क्रम में वर्ष 2017 की भांति रजिस्ट्रेशन करने की प्रक्रिया से लेकर रिजल्ट तैयार करने तक की सभी प्रक्रिया को आधुनिकतम तकनीक का इस्तेमाल करते हुए कम्प्यूटरीकृत किया गया, जिससे परीक्षा के सभी स्तरों पर तकनीक का इस्तेमाल करते हुए कदाचार की आशंका को खत्म करने में काफी हद तक सफलता मिली। कदाचार को रोकने के लिए अन्य व्यवस्थाओं के साथ परीक्षा केंद्रों पर आवश्यकतानुसार सीसीटीवी कैमरे लगाये गये थे। इसके अतिरिक्त परीक्षा संचालन से संबंधित गतिविधियों की वीडियोग्राफी भी करायी गयी। इंटरमीडिएट की तरह इस परीक्षा में भी सभी विषयों में 50 प्रतिशत वस्तुनिष्ठ प्रश्न पूछे गये। इसके अतिरिक्त 50 प्रतिशत प्रश्नों के अंतर्गत लघु उत्तरीय प्रश्न तथा दीर्घ उत्तरीय प्रश्न पूछे गये। लघु उत्तरीय प्रश्न जो दो अंकों के थे, उसमें 50 प्रतिशत अतिरिक्त प्रश्न पूछे गये। इसके अतिरिक्त दीर्घ उत्तरीय प्रश्न जो 5 अंक के थे, में 100 प्रतिशत अतिरिक्त प्रश्न पूछे गये। इस प्रकार समिति द्वारा प्रश्न पत्र के पैटर्न में किये गये बदलाव का लाभ विद्यार्थियों को मिला है। उन्होंने बताया कि समिति द्वारा वार्षिक माध्यमिक परीक्षा 2018 में उत्तर पुस्तिका के ऊपर ओएमआर शीट की व्यवस्था पहली बार की गई है। इसके तहत उत्तर पुस्तिका के ऊपर कवर पेज पर प्रयुक्त ओएमआर शीट को तीन भागों में बांटा गया। परीक्षा के दौरान पहले व तीसरे भाग को विद्यार्थी द्वारा भरे जाने की व्यवस्था की गई तथा बीच वाले हिस्से को बाद में परीक्षक द्वारा भरा गया। उन्होंने बताया कि बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा वार्षिक माध्यमिक परीक्षा 2018 में सम्मिलित होने वाले परीक्षार्थियों के लिए निर्देश जारी किया गया था कि परीक्षा में सम्मिलित होने के लिए जूता-मोजा पहन कर परीक्षा केन्द्र पर प्रवेश वर्जित है। परीक्षार्थियों को परीक्षा के दिन जूता-मोजा की जगह चप्पल पहनकर आने के संबंध में निर्देश जारी हुआ था। परीक्षा में जूता-मोजा नहीं पहनने के संबंध में निर्देश बिहार राज्य में आयोजित प्रतियोगी परीक्षाओं में दिया जाता रहा है, जिसे वर्ष 2018 से वार्षिक माध्यमिक परीक्षा में लागू करने का निर्णय लिया गया। वर्ष 2017 की तरह वर्ष 2018 में सबसे पहले चरण में रजिस्ट्रेशन करने तथा फॉर्म भरने की प्रक्रिया को मैन्युअल हार्ड कॉपी के बदले ऑनलाइन रूप से किया गया। समिति द्वारा ओएमआर युक्त बारकोडेड उत्तर पुस्तिका की व्यवस्था के साथ-साथ बारकोडेड ओएमआर अवार्ड शीट की व्यवस्था की गयी है। परीक्षार्थियों द्वारा व्यवहृत उत्तर पुस्तिकाओं पर बारकोडिंग का कार्य प्रत्येक जिले में अपर समाहर्ता स्तर के पदाधिकारी को चीफ सेक्रेसी पदाधिकारी के रूप में नामित करते हुए उनकी देखरेख में किया गया है। उत्तर पुस्तिकाओं की बारकोडिंग होने से न सिर्फ उत्तर पुस्तिकाओं की गोपनीयता अक्षुण्ण रहती है, बल्कि मूल्यांकन के क्रम में अनियमितताओं की संभावना पर रोक लगी है। अध्यक्ष ने बताया कि इस वर्ष वार्षिक माध्यमिक परीक्षा का रिजल्ट तैयार करते समय उच्च तकनीक का उपयोग करते हुए परीक्षा के क्रम में प्रयुक्त सभी महत्वपूर्ण गोपनीय दस्तावेजों का स्कैनिंग किया गया, जिसके उपरांत ही रिजल्ट तैयार करने की कार्यवाही संपन्न हुई। समिति द्वारा आधुनिकतम तकनीक के माध्यम से ही इस वर्ष माध्यमिक का रिजल्ट पूरी पारदर्शिता के साथ तैयार किया गया। इस वर्ष का वार्षिक माध्यमिक परीक्षा का परीक्षाफल तकनीकी दृष्टिकोण से बेहतर है।

यह भी पढ़े  मुख्यमंत्री के हाथों सम्मानित हुए मेधावी

नाम स्कूल1. प्रेरणा राज सिमुलतला आवासीय विद्यालय, जमुई2. प्रज्ञा सिमुलतला आवासीय विद्यालय, जमुई2. शिखा कुमारी सिमुलतला आवासीय विद्यालय, जमुई3. अनुप्रिया कुमारी सिमुलतला आवासीय विद्यालय, जमुई4. प्रियांशु राज संत जेवियर्स हाई स्कूल, जगदीशपुर5. मनीष कुमार हाई स्कूल, हुलासगंज, जहानाबाद6. समीर कुमार सिमुलतला आवासीय विद्यालय, जमुई7. खुशबू कुमारी सिमुलतला आवासीय विद्यालय, जमुई7. नेहा कुमारी सिमुलतला आवासीय विद्यालय, जमुई7. सोनम कुमारी सिमुलतला आवासीय विद्यालय, जमुई7. मनीष कुमार एसएन हाई स्कूल, बहेड़ी, दरभंगा8. सुप्रभात कुमार गर्वमेंट हाई स्कूल, जेथौर, बांका8. फूलेकांत रंजन सिमुलतला आवासीय विद्यालय, जमुई8. यशवंत राज सिमुलतला आवासीय विद्यालय, जमुई8. सौरव कुमार प्रकाश हाई स्कूल, मनेर, पटना9. अंजलि कुमारी सिमुलतला आवासीय विद्यालय, जमुई9. अनुपमा कुमारी सिमुलतला आवासीय विद्यालय, जमुई9. अभिषेक कुमार सिमुलतला आवासीय विद्यालय, जमुई9. अंकित कुमार सिमुलतला आवासीय विद्यालय, जमुई9. सुभाष कुमार सिमुलतला आवासीय विद्यालय, जमुई9. मो. अफताब अली एसबी हाई स्कूल, सकड़ा, मुजफ्फरपुर10. तनुज कुमार मंगलम सिमुलतला आवासीय विद्यालय, जमुई10. दीपक कुमार उत्क्रमति एमएस वारा पांडेय, भट्टा, नवादा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here