सांसद ने पूछा, रेलवे की पहचान धीमी रफ्तार और गंदगी है?

0
181

अपनी धीमी रफ्तार और गंदगी के लिए विख्‍यात भारतीय रेलवे की सेवाओं में मौजूद खामियों के लिए सरकार ने क्‍या सुधारात्‍मक कदम उठाए हैं. यह सवाल आज लोकसभा सांसद मलयाद्रि श्रीराम ने रेलवे मंत्री पीयूष गोयल से पूछ लिया. सांसद मलयाद्रि श्रीराम के इस सवाल पर रेलमंत्री पीयूष गोयल ने जवाब दिया कि भारतीय रेल सेवाओं के मानकों में सुधान लाने की प्रक्रिया लगातार चलती रहती है. इस प्रक्रिया के तहत यात्रियों से जुड़ी सेवाओं में लगातार सुधार का प्रयास जारी रहता है.

रेलवे की सेवाओं से बीते समय में किए गए सुधारों का जिक्र करते हुए रेलमंत्री पीयूष गोयल ने बताया कि रेलवे के अधिकारी, सेवा सुधार समूह और यात्री सुविधा समिति, स्‍टेशनों पर मौजूद यात्री सेवाओं की उपलब्‍धता और रखरखाव की निगरानी करती हैं. जिससे सुविधाओं में खामियों का पता लगाकर उन्‍हें दूर किया जा सके. इसके अलावा, अब तक किए गए सुधारात्‍मक कार्यों में आईआरसीटीसी की वेबसाइट के माध्‍यम से ऑनलाइन टिकट बुकिंग के साथ मोबाइल फोन के जरिए आरक्षित और अनारक्षित टिकटों की बुकिंग की सुविधा उपलब्‍ध कराई गई है.

यह भी पढ़े  दोगुनी कीमत पर हुई IRCTC के शेयरों की लिस्ट‍िंग, लाखों निवेशक हुए मालामाल

यात्रियों को टिकट विंडो पर लगने वाली लंबी लाइनों से निजात दिलाने के लिए स्‍वचालित टिकट वेंडिंग मशीन लगाए गई हैं. इसके अलावा, प्‍वाइंट ऑफ सेल मशीन, यूनीफार्म पेमेंट इंटरफेस आदि के जरिए विभिन्‍न कैशलेस साधनों से भुगतान का विकल्‍प भी मुसाफिरों को दिया गया है. उन्‍होंने बताया कि प्रतीक्षा सूची के यात्रियों को कंफर्म सीट उपलब्‍ध कराने के लिए वैकल्पिक ट्रेन एकोमोडेशन योजना की भी शुरूआत की गई है. इसके अलावा, आरएसी के निर्धारित बर्थों की संख्‍या में भी बढ़ोत्‍तरी की गई है. इसके अलावा, दिव्‍यांगों के लिए 3एसी श्रेणी में दो बर्थ और स्‍लीपर श्रेणी में चार बर्थ आरक्षति की गई हैं.

रेलवे में गंदगी के सवाल पर रेलमंत्री पीयूष गोयल ने जवाब दिया कि भारतीय रेल के अंतर्गत आने वाले सभी श्रेणियों के स्‍टेशनों पर साफ सफाई के लिए मशीनीकृत सफाई प्रक्रिया शुरू की गई है. इसके अलावा, छोटे स्‍टेशनों पर साफ सफाई सुनिश्चित करने के लिए स्‍टेशन प्रबंधकों को अग्रिम धनराशि मुहैया कराई जा रही है. उन्‍होंने बताया कि 1000 जोड़ी गाडि़यों में ऑन बोर्ड हा‍उस कीपिंग स्‍टाफ को तैनात किया गया है. स्‍टेशनों और ट्रेनों की साफ सफाई पर निगरानी रखने के लिए फीडबैक सिस्‍टम की शुरूआत की गई है. वहीं यात्रियों की समस्‍या का निपटान करने के लिए रेलवे ने वेब और एप आधारित शिकायत निपटान प्रक्रिया की शुरूआत की है.

यह भी पढ़े  गांधी मैदान से एम्स तक नगर बस सेवा शुरू

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here