सरकार पान की खेती को प्रोत्साहित करेगी : डॉ.प्रेम

0
314

कृषि मंत्री प्रेम कुमार ने कहा कि पान उत्पादक कृषकों को प्रोत्साहित किया जाएगा। इसके लिए विशेष कार्य योजना तैयार होगी। उन्होंने कहा कि बिहार के लगभग 17 जिलों में पान की खेती होती है, परन्तु इससे पान कृषकों को अपेक्षित आमदनी प्राप्त नहीं हो रही है। राज्य सरकार द्वारा राज्य के पान उत्पादक कृषकों की आमदनी बढ़ाने के लिए मुख्यमंत्री बागवानी मिशन योजना के तहत पान को विशेष फसल के रूप में चिन्हित किया गया है, तथा इसके लिए विशेष कार्य योजना तैयार कर पान उत्पादक कृषकों को प्रोत्साहित किया जायेगा। प्रेम कुमार ने कहा कि पान का प्रयोग प्राचीनकाल से देवताओं के हवन-पूजन, अतिथि को सम्मान देने एवं औषधि के रूप में किया जाता है। पान खाना पाचन क्रिया के लिए फायदेमंद है। ये सैलिवरी ग्लैंड को सक्रिय कर लार बनाने का काम करता है जो कि खाने को छोटे-छोटे टुकड़ों में तोड़ने का कार्य करता है। कब्ज की समस्या से जूझ रहे लोगों के लिए भी पान काफी फायदेमंद है। गैस्ट्रिक अल्सर को ठीक करने में भी पान खाना काफी फायदेमंद है। उन्होंने कहा कि बिहार की जलवायु अधिक गर्म एवं अधिक ठंडी होने के कारण इसकी खेती खुले खेतों में नहीं की जा सकती है। इसलिए इसे कृत्रिम मंडप के अंदर उगाया जाता है। उत्तरी बिहार में पान की रोपाई जून के अंतिम सप्ताह से जुलाई के द्वितीय सप्ताह और दक्षिणी बिहार में मई माह के अंत में की जाती है। उत्तरी बिहार में रोपण के लिए बेल की एक गांठ वाला टुकड़ा, जिसके साथ एक स्वच्छ पत्ती लगी रहती है, का उपयोग किया जाता है, जबकि दक्षिणी बिहार में मगही प्रभेद की बेलें 7-8 गांठों वाली का उपयोग होता है। एक हेक्टेयर भूमि में पान के करीब 1,50,000 बेले लगती हैं। उत्तरी बिहार में पान की बंगाल किस्म तथा दक्षिण बिहार में बंगाल एवं मगही दोनों किस्में लगाते हैं। मगही पान अन्य देशों में निर्यात भी किया जाता है। प्रेम कुमार ने कहा कि उत्तर बिहार में एक बार पान लगाकर बीस-पच्चीस वर्षो तथा दक्षिणी बिहार में दो वर्षो तक अच्छी उपज प्राप्त की जा सकती है। इस फसल से पचास हजार रुपये प्रति हेक्टेयर वार्षिक आय प्राप्त की जा सकती है। बिहार में कुल 17 जिलों पूर्वी चम्पारण, औरंगाबाद, नवादा, खगड़िया, भागलपुर, बेगूसराय, नालंदा, मुंगेर, मुजफ्फरपुर, दरभंगा, सीवान, गया, सारण, मधुबनी, समस्तीपुर, वैशाली व शेखपुरा में कुल 1,620 एकड़ में पान की खेती हो रही है।

यह भी पढ़े  महंगाई दर पिछले वर्ष की समान अवधि के 4.44 फीसदी से घटकर 2.57 प्रतिशत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here