सभ्यता द्वार हमारे वैभवशाली इतिहास का प्रतीक

0
213
aftabphoto@gmail.com

बिहार का इतिहास गौरवशाली रहा है। सभ्यता द्वार बिहार के वैभवाली इतिहास का संकेत है। चाणक्य, चंद्रगुप्त और शून्य का आविष्कार करने वाले आर्यभट्ट यहीं के हैं। बोधगया में बुद्ध को ज्ञान प्राप्त हुआ, महावीर का यहीं जन्म हुआ, ज्ञान प्राप्ति हुई एवं यहीं उनका निर्वाण हुआ। यह बातें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज सम्राट अशोक कन्वेंशन केंद्र स्थित सभ्यता द्वार का लोकार्पण, सम्राट अशोक की सांकेतिक मूर्ति तथा अशोक स्तम्भ का अनावरण एवं बिहार राज्य भवन निर्माण निगम लिमिटेड के स्थापना दिवस समारोह में कही।इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने 486.47 करोड़ रुपये की 187 योजनाओं का लोकार्पण एवं 16.32 करोड़ रुपये की चार योजनाओं का रिमोट के माध्यम से शिलान्यास भी किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि आजादी की पहली लड़ाई लड़ने वाले बाबू वीर कुँवर सिंह यहीं के योद्धा थे। सौ साल पहले गांधीजी यहां आए थे और जनता को जोड़कर आजादी की लड़ाई को तीस वर्ष के अंदर ही जीत ली। बापू के विचारों को अगर लोग अपना लें तो टकराव और ईष्र्या के माहौल से छुटकारा पाया जा सकता है। दुनिया को जीतने की इच्छा रखने वाले सम्राट अशोक ने अंत में धर्म के रास्ते को अपनाया। यह पाटलिपुत्र अशोक एवं उनके दादा चंद्रगुप्त मौर्य की भी राजधानी थी।

यह भी पढ़े  जोड़तोड़ के खेल में भतीजे तेजस्वी पर कुछ इस तरह भारी पड़े चाचा नीतीश
पटना में गेटवे ऑफ इंडिया या इंडिया गेट की तर्ज बना ‘सभ्यता द्वार’ का उद्घाटन करते मुख्यमंत्री नीतीश कुमार , उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी , स्वास्थ मंत्री मंगल पांडे एवं अन्य ।

पाटलिपुत्र का निर्माण अजातशत्रु ने करवाया था। महात्मा बुद्ध उत्तर बिहार जाने के क्रम में पाटलिपुत्र से गुजरे थे और उसी वक्त पाटलिपुत्र के बारे में जो प्रतिक्रिया व्यक्त की थी, उसी को सभ्यता द्वार में भी अंकित किया गया है। मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ दिनों में ही पुलिस भवन का निर्माण पूर्ण हो जाएगा। यह आधुनिक तकनीक से निर्मित बेहतर भवन का प्रतीक होगा। यह भवन भूकंपरोधी और अग्निरोधी है। 8 रिक्टर स्केल के भूकम्प पर भी यह सुरक्षित रहेगा। उन्होंने कहा कि बगल में गंगा पथ बन रहा है। सम्राट अशोक कन्वेंशन केंद्र आने वाले समय में और भी अद्भुत लगेगा। उन्होंने कहा कि इस कन्वेंशन केंद्र में रेस्तरां का निर्माण होने वाला है। लोग यहां घूमेंगे और अच्छे खाने का आनंद उठाएंगे। उन्होंने कहा कि मुझे खुशी है कि भवन निर्माण निगम लिमिटेड के आठ वर्ष पूर्ण हो चुके हैं। भवन निर्माण निगम लिमिटेड द्वारा बेहतर भवन बनाए जा रहे हैं जो आपदा प्रबंधन के लिहाज से भी बेहतर हैं। भवन के रखरखाव पर भी ध्यान देने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि मैं बिहारवासियों को बधाई देता हूं कि यह सभ्यता द्वार लोगों के आकर्षण का केंद्र बनेगा। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि आने वाले दिनों में यहां लोगों की भीड़ होगी और इसके लिये क्राउड मैनेजमेंट का भी ध्यान रखना होगा। उन्होंने कहा कि आज जिन लोगों को पुरस्कृत किया गया है, उन्हें बधाई देता हूं। मौके पर उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि यह प्राचीन बिहार के गौरवशाली इतिहास की झांकी है। भारत को एकीकृत करने वाले चन्द्रगुप्त, महान सम्राट अशोक, भगवान बुद्ध के संदेशों से युक्त यह सभ्यता द्वार प्राचीन बिहार की गौरव गाथा का बयान करेगा। श्री मोदी ने कहा कि किसी राज्य के विकास का पैमाना कानून-व्यवस्था की स्थिति,अच्छी सड़कें और बिजली ही नहीं अच्छे और दर्शनीय भवन भी हैं। आज भी लोग बिहार आकर गोलघर देखते हैं।

यह भी पढ़े  चुनावी हलचल आज के ......
aftabphoto@gmail.com

विगत 12 वषों में बिहार में अनेक आइकोनिक भवन बने हैं, जिनमें राजगीर का कन्वेंशन सेंटर, बिहार म्यूजियम, अरण्य भवन, गांधी मूर्ति, बापू सभागार हैं। मुम्बई के गेटवे ऑफ इंडिया, दिल्ली का इंडिया गेट और फतेहपुर सीकरी के बुलंद दरवाजा की श्रृंखला में ही यह सभ्यता द्वार भी है जो लोगों को बिहार के प्राचीन गौरवाशाली पाटलिपुत्र का अहसास दिलाएगा। ढाई हजार साल पहले मेगस्थनीज ने अपनी पुस्तक इंडिका में प्राचीन पाटलिपुत्र को भारत का सबसे बड़ा और पुराना नगर बता कर इसका गौरवगान किया है। सभ्यता द्वार के जरिये आने वाली पीढियां बिहार के गौरवशाली इतिहास को जानेगी, समझेगी। इसके पहले मुख्यमंत्री का स्वागत भवन निर्माण विभाग के प्रधान सचिव चंचल कुमार ने पुष्प-गुच्छ एवं प्रतीक चिह्न भेंट कर किया। बापू सभागार में बापू के जीवन से जुड़े व्यक्तित्वों, विचारों के म्यूरल का भी उद्घाटन मुख्यमंत्री ने किया। मुख्यमंत्री ने कलाकार पद्मश्री ब्रrादेव पंडित, अनूप कुमार चांद एवं अरुण पंडित सहित अन्य तीन अभियंताओं एवं तीन संवेदकों को भी पुरस्कृत किया। कार्यक्रम के दौरान सम्राट अशोक कन्वेंशन केन्द्र पर आधारित तथा बिहार राज्य भवन निर्माण निगम लिमिटेड पर आधारित लघु वृतचित्रों का प्रदर्शन किया गया। सभा में भवन निर्माण मंत्री महेवर हजारी, कृषि मंत्री प्रेम कुमार, स्वास्य मंत्री मंगल पांडेय सहित अन्य वरीय पदाधिकारी, भवन निर्माण विभाग के अभियंता एवं अन्य लोग उपस्थित थे।

यह भी पढ़े  ‘भाकपा की रैली से वाम व धर्मनिरपेक्ष दलों की एकता होगी सुदृढ़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here