श्रीलंका का हवाला देकर शिवसेना ने कहा, भारत में सार्वजनिक स्थानों पर बुर्के को बैन करे सरकार

0
147

देश के प्रमुख राजनीतिक दल शिवसेना ने सार्वजनिक स्थानों पर बुर्के को बैन करने की मांग की है। केंद्र और महाराष्ट्र सरकार में भारतीय जनता पार्टी की सहयोगी शिवसेना ने बुधवार को सरकार से आग्रह किया है कि बुर्के पर प्रतिबंध लगाया जाए। शिवसेना ने श्रीलंका में ईस्टर संडे पर आतंकवादी हमलों के बाद वहां की सरकार द्वारा भी ऐसा ही नियम लाने की योजना बनाए जाने का हवाला दिया है। हमलों में 250 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी और सैकड़ों अन्य घायल हो गए थे।

पार्टी ने अपने मुखपत्रों ‘सामना’ और ‘दोपहर का सामना’ के संपादकीय में कहा, ‘इस प्रतिबंध की अनुशंसा आपातकालीन उपाय के तौर पर की गई है जिससे कि सुरक्षा बलों को किसी को पहचानने में परेशानी ना हो। नकाब या बुर्का पहने हुए लोग राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा हो सकते हैं।’ ‘डेली मिरर’ समाचार पत्र ने सूत्रों के हवाले से मंगलवार को कहा था कि श्रीलंकाई सरकार मौलानाओं से विचार-विमर्श कर इसे लागू करने की योजना बना रही है और इस मामले पर कई मंत्रियों ने मैत्रिपाला सिरिसेना से बात की है। रिपोर्ट्स में कहा गया था कि कोलंबो के निकट डेमाटागोडा में कई महिला आत्मघाती हमलावर भी बुर्का पहन कर भाग गई थीं। वहां तीन पुलिसकर्मियों की मौत हो गई थी।

यह भी पढ़े  बिहार में NDA का खेल खराब कर सकते हैं उपेंद्र कुशवाहा: सर्वे

दैनिक समाचार पत्र के अनुसार, ‘सरकार ने कहा है कि, श्रीलंका में 1990 के शुरुआती दशक तक खाड़ी युद्ध से पहले मुस्लिम महिलाओं में नकाब या बुर्का का कोई चलन नहीं था। खाड़ी युद्ध में चरमपंथी तत्वों ने मुस्लिम महिलाओं के लिए यह परिधान बताया।’ आपको बता दें कि चाड, कैमरून, गाबोन, मोरक्को, ऑस्ट्रिया, बुल्गारिया, डेनमार्क, फ्रांस, बेल्जियम और उत्तर पश्चिम चीन के मुस्लिम बहुल प्रांत शिनजियांग में बुर्का पहनने पर प्रतिबंध है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here