शुरू में पहचान होने पर अस्सी फीसद ब्लड कैंसर का निदान संभव

0
66
PATNA HOTEL CHANAKIYA MEIN SUPPORTIVE CARE IN LEUKEMIA KO SAMBODHIT KERTE DR MAMNISA SINGH

महावीर कैंसर संस्थान की एसोसिएट डायरेक्यर एवं कीमोथेरेपी विभागाध्यक्ष डॉ. मनीषा सिंह ने कहा कि सपोर्टिव केयर (आर्ट ऑफ हैंडलिंग) कैंसर की देखभाल एवं इलाज का महत्वपूर्ण हिस्सा है। इससे मरीज के ठीक होने की संभावना बढ़ जाती है। उन्होंने कहा कि ब्लड कैंसर का एक प्रकार एएमएल हाई रिस्क में आता है। इसके इलाज के दौरान शारीरिक और व्यावहारिक चुनौतियों का सामना करने के लिए सपोर्टिव केयर की भूमिका सबसे ज्यादा है। उन्होंने कहा कि इलाज के दौरान मरीज के संक्रमण को रोकना महत्वपूर्ण है। स्वच्छता और पोषण के साथ प्रति दिन एनीमिया की स्थिति के बारे में भी लगातार जानकारी लेते रहना होता है। इस दौरान शरीर के विभिन्न प्रमुख अंगों को भी तैयार रखना होता है।
ब्लड कैंसर पर सम्मेलन में जुटे विशेषज्ञ

 तीन सप्ताह से अधिक तक अकारण बुखार, लगातार वजन कम होना, पेट एवं गले का फूलना एवं मसूड़े से रक्तस्त्राव हो तो नजर अंदाज न करें। ये लक्षण ब्लड कैंसर के हो सकते हैं। ऐसे में डॉक्टर के पास जरूर जाएं। हिमैटोलॉजी फाऊंडेशन ऑफ बिहार द्वारा रविवार को ब्लड कैंसर पर सम्मेलन में विशेषज्ञ डॉक्टरों ने ब्लड कैंसर के बढ़ते मामलों पर चिंता जताई। उन्होंने इस बीमारी के उपचार के लिए नवीनतम तकनीक के उपयोग से मरीजों के बेहतर उपचार पर र्चचा की। फाउंडेशन के सचिव डॉ. अविनाश कुमार सिंह ने ब्लड कैंसर के एक प्रकार एक्यूट माइलाइड ल्युकेमिया के इलाज में हो रहे परिवर्तन की र्चचा के क्रम में कहा कि अमेरिका और चीन के बाद भारत में ब्लड कैंसर के मरीजों की संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है। कैंसर रोग विशेषज्ञ डॉ. अरविंद कुमार ने डीएनए म्युटेशन की बात कही और डीएनए में बदलाव को रक्त कैंसर का प्रमुख कारण बताया। पटना एम्स की डॉ. सुरभि और डॉ. बासब बागची ने कहा कि प्रारंभिक अवस्था में पहचान होने पर लगभग अस्सी प्रतिशत ब्लड कैंसर का निदान संभव है, जिसमें मोलिकुलर स्तर पर उपलब्ध जांच एवं टारगेटेड थेरपी, इम्युनोथेरेपी एवं बोन मैरो ट्रांस्प्लांट से मरीजों का बेहतर इलाज किया जा सकता है। आईजीआईएमएस की डॉ. रिचा एवं डॉ. दिनेश कुमार सिन्हा ने ल्युकोसाइटोसिस पर अपना पत्र प्रस्तुत किया। मौके पर डॉ. अभिषेक आनंद, डॉ. शशि और डॉ. शैलेष भी मौजूद थे। 

यह भी पढ़े  2019 का लोस चुनाव निर्णायक होगा :दीपंकर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here