वोट मांगने नहीं, दरबार में हाजिरी लगाने आया हूं :मुख्यमंत्री 

0
422

जोकीहाट उपचुनाव के दौरान जदयू प्रत्याशी मुर्शीद आलम के पक्ष में चुनावी सभा को संबोधित करने के लिए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार गुरुवार को उदाहाट पहुंचे. वहां उन्होंने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि न्याय के साथ विकास हमारा उद्देश्य है।

मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन की शुरुआत रमजान की शुभकामना के साथ की. कहा कि वोट मांगने नहीं आया हूं, बल्कि दरबार में हाजिरी लगाने के लिए आया हूं. मतदाताओं पर उन्हें पूर्ण विश्वास है कि जब जदयू प्रत्याशी का नाम ही एक नंबर पर है तो फिर भला उन्हें 2 नंबर पर कैसे करेंगे. कहा कि जोकीहाट में वर्ष 2005 से ही जदयू की सरकार है तो फिर भला इस बार जनता क्यों नकारेगी. जहां तक क्षेत्र के विकास की बात है तो दो बार जिसे जदयू ने जिताकर विधानसभा भेजा वे सत्ता के लोभ में भाग गये. उनकी तो यही सोच रही है कि इंसाफ के साथ तरक्की हो व हर समुदाय का विकास हो.

यह भी पढ़े  बेगूसराय व मधुबनी में मेडिकल कॉलेज बनने का रास्ता साफ

जब सरकार बनी थी, तो राज्य का बजट 30 हजार करोड़ था
सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि जब उनकी सरकार बनी थी तो राज्य का बजट ही 30 हजार करोड़ का हुआ करता था. आज यह 1 लाख 80 हजार करोड़ का होता है. इसलिए जो लोग जुबानी बयान चलाते हैं उनके विरुद्ध फैसला आपको करना है कि काम के आधार पर वोट या जुबानी बयान चलाने वालों को वोट मिलना चाहिए. उन्होंने उदाहाट को प्रखंड बनाने की मांग पर कहा कि ब्लॉक के पुनर्गठन के लिए कमेटी बनायी गयी है. जल्द ही इस पर अमल किया जायेगा. टूटे सड़क, पुल-पुलिया के संबंध में कहा कि अभी चुनावी दौरा है ज्यादा कुछ नहीं बोल सकते. गांव घूमना व विकास करना तो उनकी प्राथमिकता रहती है. हालांकि, उन्होंने इस दौरान बिहार लोक सेवा आयोग व संघ लोक सेवा आयोग में प्रथम परीक्षा पास करने वाले एससी/एसटी युवओं को एक लाख व ओबीसी को 50 हजार रुपये देने की बात को भी दोहराया. साथ ही छात्रावास में पढ़ने वाले एससी/एसटी व ओबीसी को 15 किलो अनाज, इसमें 9 किलो चावल व छह किलो गेहूं दिये जाने के साथ-साथ प्रतिमाह एक हजार रुपये दिये जाने की बात भी कही.

शाहनवाज आलम ने भी उदाहाट को प्रखंड का दर्जा देने की मांग की

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता पूर्व केंद्रीय मंत्री शाहनवाज आलम ने भी उदाहाट को प्रखंड का दर्जा दिये जाने के साथ-साथ मुस्लिम मतदाताओं को रिझाने के लिए शब्द बाण चलाये. सभा को संबोधित करने वालों में विधान पार्षद गुलाम रसूल बलियावी जिनके भाषण ने मुस्लिम मतदाताओं को उत्साह से लबरेज करने का काम किया.

यह भी पढ़े  आतंकवाद के खिलाफ शुरू हो चुकी है कार्रवाई:मुख्यमंत्री

जदयू ने जोकीहाट में मुर्शीद आलम को अपना प्रत्याशी बनाया है। इनका सीधा मुकाबला राजद के शाहनवाज आलम से है, जो पूर्व केंद्रीय मंत्री मो. तस्लीमुद्दीन के पुत्र हैं। मो. तस्लीमुद्दीन के निधन के कारण रिक्त हुई अररिया लोकसभा सीट से पिछले दिनों उनके दूसरे पुत्र सरफराज आलम राजद के टिकट पर जीते हैं। सरफराज आलम पहले जदयू में थे, और जोकीहाट से विधायक थे।

जोकीहाट उपचुनाव जदयू के लिए बहुत अहम है। महागठबंधन से नाता तोडऩे के पश्चात यह दूसरा मौका है जब पार्टी जनता का सामना कर रही है। पिछले दिनों जहानाबाद में हुए उपचुनाव में जदयू को हार का सामना करना पड़ा था। जोकीहाट सीट पर अल्पसंख्यक मतदाताओं की संख्या अधिक है।
यह उपचुनाव अल्पसंख्यकों का जदयू के प्रति रुख भी साफ कर देगा। जोकीहाट, अररिया लोकसभा क्षेत्र में पडऩे वाली छह विधानसभा सीटों में से एक है। चार विधानसभा सीटें पर अभी राजग का कब्जा है जबकि एक कांग्रेस के पास है।

यह भी पढ़े  एक राष्ट्र, एक चुनाव’ के मुद्दे पर बनेगी समिति, पीएम मोदी की अध्यक्षता में सर्वदलीय बैठक में लिया गया फैसला

जोकीहाट में सभा को संबोधित करने के बाद सीएम नीतीश कुमार कटिहार पहुंचे और वहां से वे राजधानी एक्सप्रेस ट्रेन से पटना के लिए रवाना हो गए। बता दें कि पिछले तीन दिनों से सीएम नीतीश कुमार पटना से बाहर थे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here