वोकेशनल कोसरे पर 10 करोड़ खर्च करेगा पीयू

0
15
PATNA UNIVERSITY ME CINTAE MEETING KO ADDRESS KERTE VC RAS BIHARI SINGH

पटना। पटना विविद्यालय सीनेट की वार्षिक बैठक शुक्रवार को हुई जिसमें वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए 335 करोड़ रुपये का बजट पेश किया गया। सीनेट में 13 नये विभाग खोलने के प्रस्ताव सहित पीएचडी के नये रेगुलशन को भी पास किया गया। बैठक की अध्यक्षता कुलपति प्रो रासबिहारी प्रसाद सिंह ने की। प्रतिकुलपति प्रो डॉली सिन्हा ने वित्तीय वर्ष 2018-19 का बजट प्रतिवेदन रखा। बजट प्रतिवेदन में आने वाले वर्षो में 335 करोड़ रुपये खर्च होने अनुमान दिखाया गया है। बजट में 31.21 करोड़ रुपये आमदनी दिखायी गयी है। 304 करोड़ रुपये का घाटे का बजट दिखाया गया है। प्रतिकुलपति ने प्रतिवेदन पढ़ते हुए बताया कि वित्तीय वर्ष 2018-19 के आय-व्ययक प्राक्कलन में उच्च शिक्षा विभाग पर 3.18 करोड़, दूर शिक्षा निदेशालय पर 3.46 करोड़, स्ववित्तपोषित, व्यावसायिक पाठय़क्रम पर 10.08 करोड़ तथा विज्ञान व प्रौद्योगिकी के अधीन तत्कालीन बिहार कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग पर 3.32 करोड़, यानी 335 करोड़ का व्यय राज्य सरकार से अनुमोदन के लिए प्रस्तावित किया गया है। कुल घाटे की रकम में से उच्च शिक्षा पर 304 करोड़ के घाटे का बजट राज्य सरकार के शिक्षा विभाग के समक्ष भेजा जा रहा है। सीनेट की बैठक में सदस्य विजय सिंह, प्रो पीके पोद्दार, प्रो वीरेंद्र झा, बीएन कॉलेज के प्राचार्य डॉ राजकिशोर प्रसाद सहित अन्य सदस्यों ने प्रश्न पूछे। बैठक में विविद्यालय के कुलसचिव डॉ रवींद्र कुमार भी मौजूद थे।

सीसीटीवी की निगरानी में होगी परीक्षा : कुलपति ने कहा कि नकलमुक्त परीक्षा के लिए विविद्यालय प्रतिबद्ध है। इसके लिये निर्णय लिया गया है कि अगले सत्र की परीक्षा प्रारंभ होने से पूर्व सभी परीक्षा केंद्रों पर सीसीटीवी कैमरा लगा दिया जायेगा। सभी तरह की परीक्षाएं सीसीटीवी की निगरानी में ही आयोजित की जायेंगी। जुलाई में आयेगी नैक की टीमपटना।

पीयू कुलपति ने सिंडिकेट सदस्य डॉ सुधाकर सिंह द्वारा पूछे गये सवाल पर कहा कि पटना विविद्यालय को र्वल्ड क्लास विविद्यालय बनाने की योजना पर काम शुरू कर दिया गया है। इस महीने नैक को रिपोर्ट भेज दी जायेगी। उन्होंने विभागाध्यक्षों को निर्देशित किया कि 15 दिसंबर तक अपने-अपने विभाग की प्रोग्रेस रिपोर्ट विविद्यालय को सौंप दें ताकि यह रिपोर्ट नैक को भेजी सके। इसी रिपोर्ट के आधार पर जुलाई 2018 में नैक की टीम विविद्यालय का निरीक्षण करने आयेगी। नैक से ग्रेडेशन मिलने के बाद ही नेशनल इंस्टीट्य़शनल कंपीटीशन में शामिल होने का प्रयास किया जायेगा।

सीनेट में छात्रों का प्रतिनिधित्व कर रहे छात्र संघ के उपाध्यक्ष अंशुमान के सवाल पर कुलपति ने कहा कि सैदपुर में दो सौ बेड का हॉस्टल बनाने का प्रस्ताव है। यहां स्थित अंबेडकर छात्रावास की मरम्मत का कार्य चल रहा है। जहां तक सैदपुर में सांइस सेंटर बनने की बात है, यह राज्य सरकार की जमीन है। राज्य सरकार ने विविद्यालय को जमीन उपयोग करने के लिए दी थी। इस जमीन को राज्य सरकार ने विविद्यालय के नाम नहीं किया है। इसके कागजात सरकार के पास ही हैं। इस संदर्भ में विविद्यालय न्यायालय में अपील करेगा। कोशिश होगी यह जमीन विविद्यालय के पास ही रहे। गलत प्रोन्नति वाले शिक्षकों से वसूली जायेगी राशि सीनेट सदस्य प्रो शिवजतन ठाकुर के सवाल पर कुलपति ने कहा कि गलत तरीके से प्रोन्नति पाये शिक्षकों से राशि वसूली जायेगी। उनका प्रोमोशन रद्द किया जायेगा। ऐसे शिक्षकों की संख्या अभी विविद्यालय में 87 के लगभग बतायी गयी है। इन सभी शिक्षकों से स्पष्टीकरण भी पूछा जायेगा।

यह भी पढ़े  आईजीआईएमएस में 2 अक्टूबर से मोबाइल कोरोनरी यूनिट एम्बुलेंस की शुरुआत

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here