वोकेशनल कोर्स में दाखिले के लिए छात्र 16 जुलाई तक कर सकते हैं आवेदन

0
62

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विविद्यालय (इग्नू) के क्षेत्रीय निदेशक डॉ. अभिलाष नायक ने कहा कि यहां विभिन्न पाठय़क्रमों में नामांकन जारी है। जुलाई 2018 सत्र के लिए आवेदन की अंतिम तिथि 15 जुलाई है। निदेशक डॉ. नायक ने प्रेस वार्ता में कहा कि छात्रों की सुविधा के लिए क्षेत्रीय केंद्र, पटना में ऑनलाईन आवेदन सहायता केंद्र की स्थापना की गयी है। उन्होंने इग्नू द्वारा वंचित समूहों के शैक्षणिक सशक्तीकरण के लिए चलाये जा रहे विशेष अभियान की जानकारी दी। निदेशक में बताया कि इस अभियान के तहत अनुसूचित जाति, जनजाति वर्ग के विद्यार्थियों को स्नातक, डिप्लोमा व सर्टिफिकेट कार्यक्रमों में नि:शुल्क नामांकन की सुविधा है। ट्रांसजेंडर वर्ग, गरीबी रेखा से नीचे रह रहे विद्यार्थियों व कैदियों के लिए नामांकन शुल्क में छूट दी जा रही है। अभियान के तहत ऑफलाईन सुविधा उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि क्षेत्रीय केंद्र, पटना के अंतर्गत उन तीन जिलों-औरंगाबाद, नवादा व अरवल जहां अब तक इग्नू के अध्ययन स्थापित नहीं हुए हैं, वहां इग्नू अध्ययन केंद्र की स्थापना के लिए आवश्यक कदम उठाये जा रहे हैं। राज्य के विभिन्न जिलों में स्थित जेलों में इग्नू के अध्ययन केंद्र स्थापित करने के लिए राज्य सरकार को प्रस्ताव भेजा गया है। साथ ही बिहार सरकार के सहयोग से इग्नू के विभिन्न कार्यक्रमों द्वारा कर्मचारियों को प्रशिक्षित करने के लिए आवश्यक कदम उठाये जा रहे हैं। विद्यार्थी सहायता सेवा को और बेहतर बनाने के लिए इग्नू क्षेत्रीय केंद्र पटना के वेबसाईट का उन्नयन किया गया है। छात्रों से संबंधित सभी जानकारी वेबसाईट पर उपलब्ध करा दी गयी है। उन्होंने कहा कि मिठापुर में इग्नू का भवन बन रहा है। नवनिर्मित परिसर में स्थानांतरण के बाद विद्यार्थियों के लिए प्लेसमेंट सेल व मॉडल अध्ययन केंद्र स्थापित किया जायेगा। 

नवगठित पाटलिपुत्र विविद्यालय (पीपीयू) में पहली सिंडिकेट की बैठक हुई। इसमें कई महत्वपूर्ण निर्णय लिये गये। बैठक की अध्यक्षता कुलपति प्रो. जीसीआर जायसवाल ने की। विविद्यालय के मीडिया प्रभारी प्रो. विनोद कुमार मंगलम ने बैठक की जानकारी देते हुए बताया कि सिंडिकेट में ग्रेजुएशन स्तर पर छात्रों की मांग को देखते हुए वोकेशनल कोर्स में फार्म भरने की तिथि बढ़ाने का निर्णय लिया गया। अब विद्यार्थी वोकेशनल कोर्स के लिए 16 जुलाई तक आवेदन कर सकते हैं। इसकी प्रवेश परीक्षा 21 जुलाई को होगी। सिंडिकेट की बैठक में विविद्यालय के लोगो और कुलगीत को सदस्यों की सहमति से पारित कर दिया गया। दो सदस्यीय पोस्ट क्रियेशन गठित किया गया जिसमें डॉ. जैनेंद्र कुमार और एएन कॉलेज के प्रो. अरुण कुमार नामित किये गये। बिल्डिंग कमेटी में एनआईटी के सिविल इंजीनियर प्रो. विकेकानंद सिंह को शामिल किया गया। सुरक्षा से संबंधित विषयों पर सैनिक कल्याण बोर्ड से सेवा लेने पर सहमति बनी। राजभवन और राज्य सरकार के आदेश का अनुपालन करते हुए सिंडिकेट ने गेस्ट फैकेल्टी नियुक्त करने का निर्णय लिया जिनका मानदेय 25 हजार रुपये मासिक होगा। बैठक में जेडी वीमेंस कॉलेज व एएन कॉलेज में वाणिज्य विषयों को वोकेशनल मोड में खोलने की स्वीकृति दी गयी। वैसे छात्र जो मगध विविद्यालय से प्रीपीएचडी की परीक्षा पास कर छह महीने का कोर्स कर लिये हैं उनके प्रमाण पत्र को जांच के बाद ही सूचीकरण कर पंजीकृत करने पर सहमति बनी। सिंडिकेट में प्रतिकुलपति प्रो. गिरीश कुमार चौधरी की अध्यक्षता में उच्च शक्ति प्राप्त कमेटी बनाने की सहमति बनी जिसमें अवकाश प्राप्त योग्य शिक्षकों से आवेदन मांगा जायेगा और उनकी योग्यता के आधार पर चयनित करते हुए मानदेय के लिए सरकार को प्रेषित किया जायेगा। कुलपति प्रो. जायसवाल ने बैठक में कहा कि विविद्यालय परिसर में कोई भी शिक्षक या कर्मी बगैर प्राचार्य की अनुमति के नहीं आ सकते हैं। उन्होंने प्राचायरे को निर्देश दिया कि वे बयोमेट्रिक पद्धति से शिक्षकों की उपस्थिति सुनिश्चित करायें। क्लीन गंगा-ग्रीन गंगा-क्लीन पटना, एक गांव को गोद लेने की बात एनएसएस, प्राचार्य व विविद्यालय द्वारा की जायेगी। प्रतिकुलपति प्रो. गिरीश कुमार चौधरी, एएन कॉलेज के प्राचार्य प्रो. शशि प्रताप शाही, बीडी कॉलेज के प्राचार्य डॉ. संजय कुमार, कुलसचिव कर्नल कामेश कुमार, डीएसडब्ल्यू प्रो. जैनेंद्र कुमार और सीसीडीसी प्रो. आरके मिश्रा मौके पर मौजूद थे। 

 

यह भी पढ़े  पटना विविद्यालय शताब्दी समारोह में मांगा तोहफा, मिला टास्क

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here