वैशाली लोकसभा सीट:आठ महिला उम्मीदवार के साथ बाहुबलीयो का प्रभाव

0
101

वैशाली लोकसभा सीट पर छठे चरण यानी 12 मई को वोटिंग होगी. यहां राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) प्रत्याशी रघुवंश प्रसाद सिंह और जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) की वीणा देवी के बीच मुख्य मुकाबला है. दोनों ही प्रत्याशियों ने अपने पक्ष में मतदाताओं को लुभाने के लिए बाहुबली प्रचारकों का सहारा लिया.

चुनाव प्रचार के अंतिम दौर में महागठबंधन प्रत्याशी रघुवंश प्रसाद सिंह ने मोकामा विधायक और बाहुबली अनंत सिंह को अपने पक्ष में रोड शो के लिए उतारा. वहीं, इससे पहले बाहुबली सूरजभान सिंह ने एनडीए प्रत्यशी वीणा देवी के पक्ष में वोट मांगा.

ज्ञात हो कि दोनों प्रत्यशी राजपूत जाति से आते हैं. दोनों ही ने भूमिहार जाति के मतदाताओं को लुभाने के लिए बाहुबलियों को उतारा. दोनों ही भूमिहार जाति से आते हैं.
एनडीए प्रत्याशी वीणा देवी के पति एमएलसी दिनेश सिंह पर मुजफ्फरपुर के पूर्व मेयर समीर हत्याकांड का भरी सभा में आरोप लगाकर रघुवंश प्रसाद सिंह ने मुश्किलें बढ़ा दी. वहीं, बिना देरी किए दिनेश सिंह पूर्व मेयर समीर की पत्नी के आवास पर पहुंचकर अपनी सफाई दे दी. साथ ही कहा कि इस हत्या में मेरा हाथ नहीं.
दो बाहुबली अनंत सिंह और और सूरजभान सिंह के बीच सियासी दंगल के बीच पूर्व विधायक बाहुबली मुन्ना शुक्ला की पत्नी और पूर्व विधायक अन्नू शुक्ला ने नेटा के समर्थन में सभा कर सियासी हलचल पैदा कर दी. सभा में भूमिहार जाति के खाते में सिर्फ एक सीट दिए जाने से नाराजगी दिखी.

यह भी पढ़े  बेगूसराय के एक डॉक्‍टर का कथित ऑडियो वायरल

वैशाली में सबसे अधिक आठ महिला उम्मीदवार हैं चुनाव मैदान में

राज्य में भले ही महिलाओं की आबादी पुरुषों की तुलना में कम है, पर वोट देने के मामले में वो पुरुषों की तुलना में आगे रही हैं. पिछले पांच चरणों में हुए मतदान के आंकड़े यही दर्शाते हैं.

चुनावों में भी महिला उम्मीदवारों का प्रदर्शन पुरुषों की तुलना में अच्छा रहा है. 12 मई को होने वाले छठे चरण के लोकसभा चुनाव में राज्य में महिला उम्मीदवारों की संख्या सबसे अधिक है. वाल्मीकि नगर, पश्चिमी चंपारण, पूर्वी चंपारण, शिवहर, वैशाली, सीवान, गोपालगंज और महाराजगंज में रविवार को मतदान होगा.

लोकसभा चुनाव का यह छठा चरण महिला उम्मीदवारों की प्रतिष्ठा का निर्धारण करेगा. इस बार इन सीटों पर पिछली बार की तुलना में दोगुनी महिला उम्मीदवार मैदान में हैं. वाल्मीकि नगर, पंश्चिमी चंपारण, पूर्वी चंपारण, शिवहर, वैशाली, सीवान, गोपालगंज और महाराजगंज में 16 उम्मीदवार हैं. इन सीटों पर 2014 में मात्र आठ महिलाएं चुनाव लड़ी थीं. शिवहर, वैशाली और सीवान की सीधी लड़ाई में महिलाओं के बीच ही है. वैशाली में सबसे अधिक आठ महिला उम्मीदवार हैं.

यह भी पढ़े  कायस्थ महासभा की दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक का शुभारम्भ

सबसे रोचक लड़ाई सीवान में है. यहां एनडीए से जदयू की कविता सिंह को महागठबंधन की उम्मीदवार हैं. यहां पूर्व सांसद शहाबुद्दीन की पत्नी िहना शहाब, कविता सिंह को कड़ी टक्कर दे रही हैं. वैशाली में लोजपा की बीना देवी और शिवहर में भाजपा की रामादेवी की महागठबंधन से करीबी लड़ाई है.

पुरुषों से बेहतर प्रदर्शन कर रही महिला उम्मीदवार
बिहार में महिला उम्मीदवारों का औसत प्रदर्शन पुरुषों की तुलना में बेहतर है. 2014 के चुनाव का उदाहरण लें तो गोपालगंज में कांग्रेस की डॉ ज्योति भारती को 191837 वोट मिले थे, जो कुल मतदान का 21.23 फीसदी था. वह दूसरे नंबर पर रहीं थीं. समाजवादी पार्टी की सुनीता कुमारी 4586 वोट लायीं थीं.

सीवान में हिना शहाब राजद से चुनाव लड़ीं और 25,8823 वोट (29.28 प्रतिशत) वोट लाकर दूसरे नंबर पर रहीं. महाराजगंज की आप की प्रत्याशी रीना रानी 6429 वोट लायीं. शिवहर से भाजपा की रमा देवी चुनाव जीत कर संसद पहुंची थीं.

यह भी पढ़े  मुख्यमंत्री ने एक बार फिर पटना विश्वविद्याल को केंद्रीय विविद्यालय का दर्जा देने की मांग को दोहराया

सपा की टिकट पर लड़ी लवली आनंद 46008 वोट लाकर अधिकांश पुरुष उम्मीदवारों से आगे रहीं. वैशाली में निर्दलीय उम्मीदवार अनु शुक्ला ने 104228 वोट से अपनी उपस्थित दर्ज करायी थी. वहीं, संध्या देवी तीन हजार वोट भी नहीं ला सकी थीं.

बाहर से आकर लड़ रहीं चुनाव
बाहरी उम्मीदवारों में निर्दलीय महिला उम्मीदवारों की संख्या भी कम नहीं है. गोपालगंज में 22 में तीन उम्मीदवार महिला हैं. तीनों ही निर्दलीय हैं. रिंकू देवी मुजफ्फरपुर, वीणा देवी वैशाली, सुधा रानी सारण की निवासी हैं. इनके अलावा भी कई नाम हैं जिनके नामांकन पत्र में पता दूसरे शहरों का है. लेिकन वह अन्य जगहों पर चुनाव लड़ रही हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here