विपक्ष ने सूखे की स्थिति को लेकर किया सदन में हंगामा

0
29
Patna-July.23,2018-Leader of Opposition and RJD leader Tejaswi Yadav is addressing a press conference at the campus of Bihar Assembly in Patna during Monsoon Session.

मानसून सत्र के दूसरे दिन विधान सभा में सोमवार को राज्य में सूखे की स्थिति को लेकर विपक्षी सदस्य राजद और कांग्रेस ने हंगामा किया। सदन की कार्यवाही प्रारंभ होते ही सदन में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि बारिश नहीं होने के कारण राज्य सूखे की चपेट में है। सरकार प्राकृतिक आपदा से निपटने के लिए पहले से इंतजाम करने में पूरी तरह विफल साबित हुई है। आपदा प्रबंधन के दिशा-निर्देश के अनुसार 19 प्रतिशत से कम वष्ा होने पर मई-जून तक किसानों को डीजल अनुदान बांट देना चाहिए था लेकिन सरकार की नींद अब खुली है। मध्यप्रदेश सरकार के साथ समझौता होने के बावजूद वाणसागर से सिंचाई के लिये बिहार को एक बूंद पानी भी नहीं मिल रहा है। उन्होंने कहा कि किसान आत्महत्या करने को विवश हैं। किसानों का कर्ज तुरंत माफ होना चाहिए और राहत के अन्य उपायों पर विचार के लिये सदन में तुरंत इस पर र्चचा होनी चाहिए। विपक्ष के सदस्यों की ओर से इस संबंध में दिये गये कार्यस्थगन प्रस्ताव की सूचना को स्वीकार किया जाना चाहिए। इस पर विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी ने कहा कि यह सही है कि बारिश नहीं होने के कारण आपदा जैसी स्थिति बन रही है। इस पर सरकार की ओर से विधिवत सूचना भी दी गयी है। वर्तमान सत्र को चार दिन और चलना है। विपक्ष के सदस्य अन्य दिन भी इस गंभीर विषय पर विमर्श कर सकते हैं। सरकार तब इस पर विस्तार से जवाब भी देगी और जनहित में भी फैसला लिया जायेगा। सभाध्यक्ष श्री चौधरी ने कहा कि प्रश्नकाल को अभी चलने दिया जाये। बारह बजे जब कार्यस्थगन की सूचना पर नियमन आयेगा तब उस समय विपक्ष के सदस्य इस विषय को उठा सकते हैं। इस पर नेता प्रतिपक्ष अपनी सीट पर बैठ गये और इसके बाद प्रश्नकाल शुरू हुआ। प्रश्नकाल समाप्त होने के बाद सभाध्यक्ष श्री चौधरी ने बताया कि तेजस्वी यादव, जीतनराम मांझी, सुदामा प्रसाद, ललित यादव और सदानंद सिंह ने कार्यस्थगन प्रस्ताव की सूचना दी है, जिसे नियमानुकूल नहीं रहने के कारण अमान्य किया जाता है। इस पर राजद के अब्दुल बारी सिद्दीकी ने कहा कि कार्यस्थगन की सूचना किस विषय के लिए थी, इसकी जानकारी सदन को दी जानी चाहिए। सभा अध्यक्ष ने कहा कि अमान्य सूचना को पढ़ने का नियम नहीं है और यह भी परंपरा नहीं है कि जिस सूचना को अमान्य कर दिया गया हो उस पर कोई र्चचा हो। हालांकि यदि सदस्य इस विषय का जिक्र करना चाहते हैं तो वह कर सकते हैं। प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि इस वर्ष सामान्य से 53 प्रतिशत कम वष्ा हुई है और 85 प्रतिशत धान की बुआई भी नहीं हो पाई है। पूरा बिहार सूखे से प्रभावित है और राज्य सरकार ने कल आनन-फानन में डीजल अनुदान की घोषणा कर दी है जबकि मई-जून में ही उसे अनुदान बांट देना चाहिए था। वहीं, कांग्रेस के सदानंद सिंह ने भी कहा कि पूरा बिहार सूखे से प्रभावित है। सत्र की कार्यवाही अब दो-तीन दिनों का ही रह गया है और ऐसे में इस महत्वपूर्ण विषय पर सदन में र्चचा नहीं होगी तो कहां होगी। ऊर्जा मंत्री विजेन्द्र प्रसाद यादव ने कहा कि सत्र शुरू होने से पहले जब सर्वदलीय बैठक हुई थी तो किसी भी विषय पर सदन में र्चचा कराने पर सहमति हुई थी और यह तय हुआ था कि इसके लिए जो नियम है उसके तहत विषय लाये जायें तब सदन में इस पर र्चचा होगी। सर्वदलीय बैठक में दल के नेता नहीं आये और उन्होंने अपने प्रतिनिधि को भेज दिया। इस पर कांग्रेस के विजय शंकर दुबे ने कहा कि कार्यमंतण्रा समिति की बैठक में सूखे पर र्चचा कराने पर विमर्श हुआ था। श्री सिद्दीकी ने कहा कि आज सदन में राजकीय विधेयक है इसलिए कार्यस्थगन की सूचना को अमान्य किया गया है लेकिन सदन की परंपरा रही है कि यदि कोई विषय अति महत्वपूर्ण हो तो नियमों से ऊपर उठकर उस पर र्चचा हुई है। बिहार में 89 प्रतिशत लोग गांव में रहते हैं। किसानों की स्थिति बदतर हो गई है इसलिए इससे बड़ा मुद्दा सदन में बहस के लिए नहीं हो सकता है। उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि वित्त वर्ष 2018-19 के लिए प्रथम अनुपूरक मांग पर तीन घंटे की र्चचा के दौरान सभी सदस्य इस पर अपना विचार रख सकते हैं। सभा अध्यक्ष ने कहा, आपकी बात मैंने सुनी लेकिन आप मेरी बात नहीं सुनेंगे। उन्होंने सदस्यों से शांत होकर अपनी सीट पर जाने को कहा लेकिन विपक्ष के सदस्य नहीं माने तथा शोरगुल और नारेबाजी करते रहे। इसके बाद सभा अध्यक्ष ने सभा की कार्यवाही दो बजे दिन तक के लिए स्थगित कर दी। हंगामे के कारण भोजनावकाश से पूर्व शून्य काल और ध्यानाकर्षण नहीं हो सका।

यह भी पढ़े  पछुआ हवा चलने से दिनभर बनी रही कनकनी, जनजीवन अस्त-व्यस्त

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here