वनबंधु परिषद् के वार्षिकोत्सव का उद्घाटन राज्यपाल लालजी टंडन ने किया

0
78
Patna-Mar.17,2019-Bihar Governor Lalji Tandon is lighting the lamp to inaugurating drama ‘Chakravyuh’ at Gyan Bhawan in Patna, organized by Vanbandhu Parishad.

वनबंधु परिषद का दसवां रंगारंग वार्षिकोत्सव ज्ञान भवन, पटना के सभागार में धूमधाम से संपन्न हुआ। वार्षिकोत्सव का उद्घाटन राज्यपाल लालजी टंडन ने किया। इस मौके पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे पद्मश्री रामेश्वर लाल काबरा, संरक्षक अखिल भारतीय वनबंधु परिषद् एवं विशिष्ट अतिथि के रूप में थी पद्मश्री जेके सिन्हा, अध्यक्ष शोषित समाधान।मौके पर वनबंधु परिषद् के अध्यक्ष राधेश्याम बंसल ने कहा कि स्वामी विवेकानंदजी की प्रेरणा से एकल विद्यालय अभियान वनबंधु परिषद द्वारा सारे भारत में चलाया जा रहा है। एकल विद्यालय के कार्यकलापों की सराहना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा भी की गयी है। वार्षिकोत्सव की एक विशेषता यह है कि इसमें नाटक ‘‘चक्रव्यूह’ का मंचन किया गया। लगभग दो घंटे के इस नाटक के लेखक और निर्देशक अतुल सत्य कौशिक हैं। इस मौके पर अखिल भारतीय वनबंधु परिषद् के राष्ट्रीय संरक्षक पद्मश्री रामेश्वर लाल काबरा ने बताया कि वनबंधु परिषद् अपने एकल अभियान के माध्यम से पूरे देश में लगभग 82 हजार विद्यालयों का संचालन करता है। इसके माध्यम से एक ओर जहां वंचित वगरे को शिक्षित करने का कार्य किया जा रहा है वहीं दूसरी ओर ग्रामीणों के जीवन स्तर को ऊंचा उठाने और उन्हें भारतीय अध्यात्म एवं संस्कृति से परिचित कराने का भी कार्य हो रहा है। परिषद् के महामंत्री महेश जालन ने बताया कि वनबंधु परिषद् पटना चौप्टर बिहार के अति पिछड़े और ग्रामीण इलाकों में पांच हजार एक सौ पचास एकल विद्यालय का संचालन करता है। लगभग पच्चीस से तीस विद्यार्थियों पर उसी गांव के एक शिक्षित युवक या युवती को आचार्य के रूप में नियुक्त करके बच्चों को हिंदी, अंग्रेजी, गणित और नैतिकता की शिक्षा दी जाती है। नाटक ‘‘चक्रव्यूह’ के मंचन के लिए दिल्ली से दी फिल्म एंड थिएटर सोसाइटी के बीस सदस्यों की टीम पटना पहुंची थी। महाभारत पर आधारित नाटक ‘‘चक्रव्यूह’ की अवधि लगभग दो घंटे की है। मुख्य अभिनय प्रसिद्ध टेलीविजन धारावाहिक महाभारत में श्रीकृष्ण की भूमिका निभाने वाले नितीश भारद्वाज ने निभाई। अन्य भूमिकाओं में दुयरेधन का अभिनय भानु प्रताप सिंह राणा, अभिमन्यु का साहिल छाबड़ा, उत्तरा का सुष्मिता मेहता ने निभाया। प्रकाश संयोजन राघव प्रकाश और संचालन दिव्यांग द्वारा किया गया। इस नाटक के पूरे देश में अब तक 75 शो हो चुके हैं। आज के कार्यक्रम में परिषद् के राधेश्याम बंसल, महेश जालान, कमल नोपानी, स्वागताध्यक्ष राजेश गुप्ता, कार्यकारी अध्यक्ष रमेश चंद गुप्ता, राजेश बजाज, अनिल रिटोलिया, विनोद कृष्ण कानोडिया, सह सचिव मगनदेव नारायण सिंह, रामलाल खेतान, एमपी जैन, गोपाल मोदी एवं संजय मोदी सहित सैकड़ों लोग उपस्थित थे।

यह भी पढ़े  बिहार के व्यापारियों को मिलनी चाहिए सिक्यूरिटी :तेजस्वी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here