लोकसभा चुनाव 2019 हाजीपुर में 54.03 % मतदान के साथ चुनाव संपन्न

0
117

लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण के तहत बिहार के पांच लोकसभा क्षेत्रों सीतामढ़ी, मधुबनी, मुजफ्फरपुर, हाजीपुर एवं सारण में 57.86 % के साथ मतदान समाप्त हो गया । हाजीपुर में आज 11 प्रत्याशियों के किस्मत का फैसला EVM में कैद हो गया , चुनाव आयोग के आंकड़ों के अनुसार हाजीपुर में कुल 54.03 % मतदान हुआ .

हाजीपुर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के चुनावी अखाड़े में उतरे लड़ाकों की किस्तम आज  ईवीएम में कैद हो जाएगी। किस पर हरि की कृपा बरसेगी और कौन हारेगा, इसका फैसला तो 23 मई को वोटों की गिनती के बाद होगा लेकिन मतदाताओं की चुप्पी और भितरखाने की गोलबंदी ने प्रत्याशियों के होश उड़ा रखे हैं। अपने-अपने प्रत्याशियों की   जीत सुनिश्चत कराने के लिए एनडीए और महागठबंधन के स्टार प्रचारकों ने पिछले सात दिनों में तूफानी दौरा करते हुए सभाएं की और जनता से पूछकर जीत की माला पहनाई।

एनडीए प्रत्याशी व लोजपा सुप्रीमो रामविलास पासवान के भाई पशुपति कुमार पारस के पक्ष में केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, डिप्टी सीएम सुशील मोदी की जनसभाएं हुईं।  वहीं प्रत्याशी के बड़े भाई रामविलास पासवान, भतीजे चिराग पासवान, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष नित्यानंद राय आदि ने चुनावी सभाएं की। दूसरी तरफ महागठबंधन के प्रत्याशी शिवचंद्र राम के लिए वोट मांगने के लिए पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव, रालोसपा सुप्रीमो उपेंद्र कुशवाहा, जीतनराम मांझी, मुकेश   सहनी आदि ने हाजीपुर संसदीय क्षेत्र में चुनावी जनसभाएं कीं। हाजीपुर में एनडीए और महागठबंधन में आमने-सामने का संघर्ष है। इन दोनों के अलावा 9 और प्रत्याशी भी अपने-अपने समीकरण और दावों के साथ मैदान में हैं। बावजूद इसके संघर्ष सिमटकर दो प्रत्याशियों के बीच ही रह गया है। एनडीए बिहार के विकास और देश को बचाने के लिए नरेन्द्र मोदी के हाथ को मजबूत करने का नारा दे रहा है तो महागठबंधन के प्रत्याशी लड़ाई को स्थानीय बनाम बाहरी बनाने की जोरदार कोशिश कर रहे हैं। इस चुनाव से यह भी पता चलेगा कि हाजीपुर में रामविलास पासवान का तिलिस्म बरकरार है या नहीं।

यह भी पढ़े  कायस्थ महासभा की दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक का शुभारम्भ

पशुपति पारस: एनडीए 
राष्ट्रीय मुद्दों समेत पीएम व सीएम के विकास कार्यों से लोगों को अवगत कराना।

लोगों के विश्वास के दम पर ही आया हूं। बड़े भाई राम के अधूरे कार्यों को मैं पूरा करूंगा।

सबसे पहले लोकसभा का भ्रमण करूंगा और बुनियादी सुविधाएं जहां भी नहीं होंगी उन्हें पूरा करेंगे।

शिवचंद्र राम : महागठबंधन
यहां की जनता को पेयजल की समस्या से मुक्ति दिलाना ही मेरा मुख्य मुद्दा है।

मैं जमीन से जुड़ा हूं। जनता के बीच रहता हूं, स्थानीय हूं। मुझसे बेहतर जनता की सेवा कौन करेगा।

जीतने के बाद जिले की स्वास्थ्य, शिक्षा और पेयजल की समस्या को दूर करने का काम करूंगा।

1979 संवेदनशील बूथों को चिह्नित किया गया है और वहां विशेष नजर रखी जाएगी, 400 बूथों पर लाइव वेबकॉस्टिंग की व्यवस्था की गई है

जातीय समीकरण 
एक अनुमान के अनुसार यादव: 3.5 लाख, पासवान: 2.5 लाख, रविदास: 2 लाख, वैश्य: 2.5 लाख, कुर्मी-कुशवाहा: 2.5 लाख, सवर्ण: 4.5 लाख हैं। जातीय आधार पर इस क्षेत्र में यादव, राजपूत, भूमिहार, कुशवाहा, पासवान और रविदास की संख्या सर्वाधिक है। अति पिछड़ों की भी महत्वपूर्ण भूमिका होती है।

11 प्रत्याशी हैं मैदान में 
पशुपति कुमार पारस: लोजपा, शिवचंद्र राम: राजद, दसई चौधरी: एनसीपी, उमेश दास: बसपा, कुमारी आशिकी: साथी और आपका फैसला पार्टी, जीवस पासवान: सोशलिस्ट यूनिटी सेंटर ऑफ इंडिया, बालेंद्र दास: जयप्रकाश जनता दल, राजगीर पासवान: बजजिकांचनल विकास पार्टी, अरविंद पासवान: निर्दलीय, राजकुमार पासवान: निर्दलीय, शिवानीकांत: निर्दलीय।

हाजीपुर लोकसभा क्षेत्र में सोमवार 6 मई को मतदान सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे से होगा। हाजीपुर में इस बार 18 लाख 18 हजार 78 मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। इसमें 9 लाख 78 हजार 887 पुरुष एवं 8 लाख 39 हजार 132 महिला मतदाता हैं। हर विधानसभा क्षेत्र में पांच-पांच पिक बूथ बनाए गए हैं। इन बूथों पर मतदानकर्मी से लेकर सुरक्षाकर्मी समेत सभी कर्मी व अधिकारी महिला ही होंगी। 126 सेक्टर मजिस्ट्रेट एवं 597 माइक्रो ऑब्जर्वर की तैनाती

हाजीपुर लोकसभा क्षेत्र के छह विधानसभा क्षेत्र को 126 सेक्टर में बांटकर कुल 126 सेक्टर मजिस्ट्रेट की तैनाती की गई है। इसके अलावा जोनल मजिस्ट्रेट की तैनाती की गई है। सूचनाओं के त्वरित आदान-प्रदान एवं कार्रवाई के लिए जिला मुख्यालय में कंट्रोल रूम बनाया गया है। राघोपुर में अलग से मिनी कंट्रोल रूम की स्थापना की गई है। इसके अलावा मतदान के दिन खुद डीएम एवं एसपी इलाके में मुस्तैद रहेंगे। मतदान के दौरान बूथों पर 597 माइक्रो ऑब्जर्वर की भी तैनाती की गई है। जमीन के साथ आसमान से भी होगी निगहबानी

यह भी पढ़े  तेली हुंकार रैली में राजनीतिक भागीदारी को लेकर उठाई आवाज

मतदान के लिए इस प्रशासनिक स्तर पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए जा रहे हैं। जल, थल एवं वायु, तीनों में प्रशासन की पैनी निगहबानी होगी। गंगा एवं गंडक नदियों में मतदान के दिन नौका परिचालन पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। नदियों में सिर्फ प्रशासन की ही पेट्रोलिग पार्टी होगी। इसके लिए सात रिवर पेट्रोलिग टीम की तैनाती की गई है। इसमें हाजीपुर में 2, लालगंज में 1, राघोपुर में 3 एवं महनार में 1 रिवर पेट्रोलिग टीम की तैनाती की जा रही है। नक्सल प्रभावित इलाकों में दो हेलीकॉप्टर पूरे मतदान की अवधि में आसमान में मंडराएंगे। मुख्यालय से यह जानकारी दी गई है कि दो हलीकॉप्टर मौजूद रहेगा।

23 त्वरित कार्रवाई बल की तैनाती

डीएम एवं एसपी ने बताया कि सभी विधानसभा क्षेत्रों में क्यूआरटी (त्वरित कार्रवाई बल) टीम की भी तैनाती की जा रही है। लोकसभा क्षेत्र के हाजीपुर, लालगंज एवं राजापाकर विधानसभा क्षेत्र में 4-4, राघोपुर में 5 एवं महुआ और महनार में 3-3 क्यूआरटी की तैनाती की गई है। कहीं से भी सूचना मिलने पर क्यूआरटी तुरंत मौके पर पहुंचकर कार्रवाई करेगी। यह भी बताया कि राघोपुर के दियारा इलाके में पैनी नजर रखने को घुड़सवार दस्ते की तैनाती की जा रही है। 18-18 एसएसटी, वीएसटी एवं एफएसटी टीम की तैनाती

हाजीपुर लोकसभा क्षेत्र में चुनाव पर पैनी नजर रखने को 18 स्टैटिक सर्विलांस टीम (एसएसटी), 18 वीडियो सर्विलांस टीम (वीएसटी) एवं 18 फ्लाइंग सर्विलांस टीम (एफएसटी) की तैनाती की गई है। तीनों टीमें पूरे इलाके में मुस्तैदी के साथ हर गतिविधियों पर पैनी नजर रखेगी। 11 हजार सुरक्षा बलों की तैनाती

यह भी पढ़े  कांग्रेस की रैली में मंच पर नजर आयेंगे तेजस्वी, उपेन्द्र व मांझी

सुरक्षा व्यवस्था के लिए 11000 सुरक्षा बलों की तैनाती की गई है। मतदान केंद्रों की संवेदनशीलता के आधार पर फोर्स की तैनाती का तैयार प्लान के अनुरूप किया गया है। जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह जिला पदाधिकारी राजीव रोशन एवं एसपी मानवजीत सिंह ढिल्लो ने बताया कि सीएपीएफ के 2250, बीएमपी के 1350 एवं जिला व अन्य जिलों से 4009 जवान उपलब्ध कराए गए हैं। इसके अलावा स्ट्रांग रूम की सुरक्षा के लिए अलग से 30 जवान एवं 4 पदाधिकारी तैनात किए गए हैं। बीएमपी की महिला बटालियन की 90 जवान एवं 4 पदाधिकारी भी उपलब्ध कराए गए हैं, इन्हें महिला बूथों पर तैनात किया गया है। वैशाली एवं अन्य जिला को मिलाकर कुल 1826 पुलिस ऑफिसरों की भी तैनाती की गई है। मतदान केंद्रों पर मतदाताओं को लाइन में लगाने के लिए 2127 होमगार्ड के जवानों को लगाया गया है। नक्सल प्रभावित मतदान केंद्र भवन पूरी तरह अ‌र्द्धसैनिक बलों के हवाले किए गए हैं। वहीं संवेदनशील बूथों के अलावा अन्य सभी बूथों पर सुरक्षा के मुकम्मल इंतजाम किए गए हैं। हर हाल में भयमुक्त वातावरण में मतदान संपन्न कराने को लेकर फुलप्रूफ सुरक्षा के इंतजाम किए गए हैं। ऐसी व्यवस्था की गई है कि परिदा भी पर नहीं मार सके।

उत्सव के रूप में मनाएं लोकतंत्र के इस महापर्व को

जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह जिला पदाधिकारी एवं पुलिस कप्तान ने मतदाताओं से अपील की है कि लोकतंत्र के इस महापर्व को उत्सव के रूप में मनाएं। शत-प्रतिशत मतदान करने की अपील करते हुए कहा कि लोकतंत्र की मजबूती के लिए यह आवश्यक है कि सभी अपने मताधिकार का प्रयोग अवश्य करें। स्वच्छ, निष्पक्ष एवं भयमुक्त वातावरण में मतदान संपन्न कराने को लेकर प्रशासन पूरी तरह मुस्तैद है। किसी भी तरह का कोई प्रलोभन दे या फिर किसी उम्मीदवार के पक्ष में जबरन मतदान करने को दबाव दे तो तुरंत इसकी सूचना कंट्रोल रूम को दें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here