लोकसभा चुनाव 2019: महागठबंधन की सीटों की घोषणा कुछ समय के लिए टला

0
86

फ्रंट फुट का राग अलापने वाली कांग्रेस अब बिहार में बैक फुट पर खेलने को राजी हो गयी है। कांग्रेस के अंदरूनी सूत्रों के अनुसार, ग्यारह सीट घटकर अब आठ-नौ पर सिमटने वाली है। इसी को लेकर पिछले कई दिनों से महागठबंधन में जिच चल रहा है। इसे सुलझाने के लिए बिहार महागठबंधन के बड़े दिग्गज नेताओं का जमावड़ा दिल्ली में है। सूत्रों के अनुसार महागठबंधन की सीटों का बंटवारा दिल्ली में आज साम तक हो जाना था लेकिन फिर अडचने आ गई जिससे अगले 24 घंटे ऐ लिए टाल दी गई है . सूत्रों के हवाले से ये खबर यह भी आ रही है कि कांग्रेस बिहार में 9 से अधिक सीटों पर चुनाव लड़ सकती है और इस पर सहमति बन चुकी है. लेकिन इन्तेजार है आखरी फैसला का . बता दें कि तेजस्वी यादव पिछले कई दिनों से दिल्ली में बैठे हुए हैं. सोमवार शाम तेजस्वी यादव और उपेंद्र कुशवाहा को एक साथ पटना आना था, लेकिन वह नहीं आए. अब खबर मिली है कि तेजस्वी मंगलवार को पटना आएंगे. इससे पहले वो कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात कर सकते हैं. जिसमें सीट बंटवारे पर सहमति बनाई जाए.

इस बीच कांग्रेस नेताओं के द्वारा लगातार आरजेडी नेता तेजस्वी यादव को मनाने की कोशिश जारी है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और तेजस्वी यादव के सोमवार को मुलाकात भी नहीं हो सकी. इस सबके बीच आरजेडी ने कांग्रेस को शाम चार बजे तक का अल्टीमेटम दे दिया है.

यह भी पढ़े  मुख्यमंत्री ने की आपदा प्रबंधन की उच्चस्तरीय बैठक

आरजेडी ने कांग्रेस से कहा कि है कि शाम चार बजे तक फैसला ले, नहीं तो आरजेडी अपना स्टैंड लेगी. वहीं, बिहार कांग्रेस अध्यक्ष मदन मोहन झा और प्रदेश कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने अपने फोन बंद कर लिए हैं. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) कांग्रेस को सिर्फ आठ सीट देने पर अड़ी हुई है. वहीं, कांग्रेस 11 सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा पहले ही कर चुकी है. इसके लिए उम्मीदवारों की लिस्ट भी दिल्ली भेज दी गई है.

कांग्रेस के एक नेता ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर कहा कि लालू प्रसाद की अनुपस्थिति में आरजेडी के सर्वेसर्वा तेजस्वी यादव हैं. उनकी अति महत्वाकांक्षा के कारण स्थिति बिगड़ी है. एक ओर जहां वे सीट बंटवारे को लेकर ट्वीट कर नसीहत दे रहे हैं, वहीं अपनी सीटें कम करने को तैयार नहीं हैं, जबकि राष्ट्रीय पार्टी कांग्रेस की औकात आठ सीट पर तय की जा रही है.

आरजेडी की इच्छा है कि वह 21 सीटों पर चुनाव लड़े
राजद किसी भी हाल में कांग्रेस को बड़े भाई की भूमिका में आने देने को तैयार नहीं है। राजद नेता और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने गठबंधन से बाहर आने तक की धमकी दे दी थी। समझा जाता है कि किसी भी समय कोई ठोस फैसला आ जायेगा। माना जा रहा है कि कांग्रेस सासाराम से मीरा कुमार,कटिहार से तारिक अनवर, सुपौल से रंजीता रंजन, समस्तीपुर से अशोक राम, औरंगाबाद से निखिल कुमार,मुंगेर से अनंत सिंह, दरंभगा से कीर्ति आजाद और किशनगंज से मो. जावेद का सीट लेकर संतोष कर सकती है।

यह भी पढ़े  बिहार और झारखंड में विपक्षी दलों की व्यापक एकता जरूरी : दीपंकर

पहले चरण के नामांकन के लिए अधिसूचना जारी हो चुकी है। ऐसे में गठबंधन में उत्पन्न दरार ने परेशानी खड़ी कर दी है। इसको लेकर कांग्रेस की तरफ से कई विकल्प भी सुलझाये गये हैं, लेकिन बात नहीं बनी है। इस कारण बिहार महागठबंधन में अब तक सीटों का बंटवारा नहीं हो पाया है। ऐसे में, सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, यदि महागठबंधन का पेंच नहीं सुलझा तो कांग्रेस को छोड़ बाकी पार्टियां आरजेडी के साथ समझौता कर सकतीं हैं। तेजस्वी यादव ने भी कहा है कि यदि कांग्रेस ने बड़ा दिल नहीं दिखाया तो कुशवाहा की आरएलएसपी, मुकेश साहनी की वीआईपी और मांझी की हम आरजेडी के साथ समझौता कर सकती है।

मांझी ने कर दिया साफ- 5 से कम सीटें मंजूर नहीं
वहीं, राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने साफ कर दिया है कि राजद के बाद महागठबंधन में सबसे अधिक जनाधार वाली पार्टी हम ही है. इसलिए वह 5 सीटों की मांग कर रहे हैं. मांझी ने कहा कि महागठबंधन के शीर्ष नेताओं से भी इस सिलसिले में बात हो चुकी है.

यह भी पढ़े  आसरा होम केस : पॉलिटिकल पॉवर से मनीषा दयाल बन गयी हाइप्रोफाइल

इसलिए बिगड़ रही स्थिति
इस बीच, कांग्रेस ने चार दिन पूर्व ही बिहार प्रदेश चुनाव समिति की बैठक में 11 सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी है. कांग्रेस के एक नेता ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर कहा कि लालू प्रसाद की अनुपस्थिति में राजद के सर्वेसर्वा तेजस्वी यादव हैं. उनकी अति महत्वाकांक्षा के कारण स्थिति बिगड़ी है. एक ओर जहां वे सीट बंटवारे को लेकर ट्वीट कर नसीहत दे रहे हैं, वहीं अपनी सीटें कम करने को तैयार नहीं हैं, जबकि राष्ट्रीय पार्टी कांग्रेस की औकात आठ सीट पर तय की जा रही है.

ज्ञात हो कि बिहार में कुल 40 लोकसभा सीटों पर 7 चरणों में चुनाव होंगे. बिहार में 11 अप्रैल, 18 अप्रैल, 23 अप्रैल, 29 अप्रैल, छह मई, 12 मई और 19 मई को मतदान होंगे. 23 मई को मतगणना होगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here