लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में 68 में से 21 उम्मीदवार करोड़पति,14 पर गंभीर आपराधिक मुकदमे दर्ज

0
39

18 अप्रैल को बिहार में लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में जिन पांच क्षेत्रों में चुनाव होने है्ं वो पूर्णिया, बांका, कटिहार, भागलपुर और किशनगंज हैं. ये इलाके बिहार के अंग प्रदेश और सीमांचल के हैं. सीमांचल की राजनीति का बाहुबल से पुराना नाता रहा है. बात चाहे पप्पू यादव की हो या फिर तस्लीमुद्दीन या उनके बेटे सरफराज की सभी का बाहुबल से पुराना कनेक्शन रहा है. 18 अप्रैल को इन इलाकों में चुनाव होना है जहां एमवाई और कास्ट के साथ-साथ बाहुबल का भी फैक्टर काम करेगा . लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में बिहार की जिन सीटों पर चुनाव होना है वहां कुल 68 उम्मीदवार मैदान में हैं. इन उम्मीदवारों में से 14 पर गंभीर आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं. दागियों और आरोपियों की बात करें तो 5 में से 3, आरजेडी के 2 में से 1, कांग्रेस के 3 में से 1 और बसपा के 5 में से 1 पर गंभीर केस हैं.
अब बात करें अगर पूंजीपतियों या करोड़पतियों की तो इनकी तादाद बाहुबलियों से कहीं ज्यादा है. बाहुबलियों की संख्या जहां 14 थी तो वहीं 21 उम्मीदवार करोड़पति हैं. इनमें पहले स्थान पर पूर्णिया संसदीय क्षेत्र से कांग्रेस के उदय सिंह हैं. उनके पास चल और अचल मिलाकर कुल 3 अरब 41 करोड़ 86 लाख 43 हजार 970 रुपये की संपत्ति है. वहीं, दूसरे स्थान पर बांका संसदीय क्षेत्र से जेएमएम के उम्मीदवार राजकिशोर प्रसाद हैं. उनकी संपत्ति 17 करोड़ हैं. करोड़पतियों की सूची में तीसरे स्थान पर कटिहार के निवर्तमान सांसद और कांग्रेस प्रत्याशी तारिक अनवर हैं. ये आंकड़े महज दूसरे चरण के चुनाव से संबंध रखने वाले उम्मीदावरों के है. चुकि बिहार में सभी सात चरणों में चुनाव होने हैं ऐसे में इन दोनों श्रेणियों यानी बाहुबली और करोड़पतियों की सूची में इजाफा होना लाजमी है.

यह भी पढ़े  विप की दो सीटों पर आज नामांकन का अंतिम दिन ,JDU से संजय झा और बीजेपी से राधामोहन शर्मा होंगे उम्मीदवार

राज्य में लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में विभिन्न राजनीतिक दलों के कल 68 उम्मीदवार मैदान में हैं, जिनमें से 21 करोड़पति हैं. कुल उम्मीदवारों में से सात साक्षर, तीन पांचवी पास, आठ आठवीं पास, नौ दसवीं पास, 14 बारहवीं पास, नौ ग्रेजुएट, नौ ग्रेजुएट प्रोफेशनल, चार पोस्ट ग्रेजुएट और एक डॉक्टरेट हैं. तीन लोगों के पास दूसरी डिग्रियां हैं और एक ने अपना विवरण नहीं दिया है. 21 पर आपराधिक और 14 उम्मीदवारों पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं. यह खुलासा बिहार इलेक्शन वॉच और एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) ने सभी उम्मीदवारों के एफिडेविट का विश्लेषण करने के बाद किया है.

कम संपत्ति वाले उम्मीदवार

सभी 68 में से तीन ऐसे उम्मीदवार हैं जिनके पास सबसे कम संपत्ति है. इनमें कटिहार संसदीय क्षेत्र से भारतीय बहुजन कांग्रेस के बासुकी नाथ साह हैं. उनके पास केवल 4 हजार रुपये की संपत्ति है. वहीं, पूर्णिया संसदीय क्षेत्र से निर्दलीय खड़े मो अख्तर अली के पास 20 हजार 524 रुपये की संपत्ति है. बांका संसदीय क्षेत्र के निर्दलीय उम्मीदवार मनोज कुमार साह के पास 41 हजार 500 रुपये की संपत्ति है.

यह भी पढ़े  ऊर्जा व सड़क के क्षेत्र में राज्य सरकार ने महत्वपूर्ण कार्य किये : मुख्यमंत्री

एक नजर में समझें

कुल उम्मीदवारों में से सात साक्षर, तीन पांचवी पास, आठ आठवीं पास, नौ दसवीं पास, 14 बारहवीं पास, नौ ग्रेजुएट, नौ ग्रेजुएट प्रोफेशनल, चार पोस्ट ग्रेजुएट और एक डॉक्टरेट हैं. तीन लोगों के पास दूसरी डिग्रियां हैं और एक ने अपना विवरण नहीं दिया है.

41 से 50 वर्ष आयु सीमा के 27 उम्मीदवार

लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में 68 उम्मीदवारों में से 25 से 30 वर्ष आयु वर्ग के छह, 31 से 40 वर्ष के बीच 12, 41 से 50 वर्ष के बीच 27, 51 से 60 वर्ष के बीच 11, 61 से 70 वर्ष वाले नौ, 71 से 80 वर्ष के दो और 80 वर्ष से अधिक उम्र के एक उम्मीदवार शामिल हैं.

विभिन्न दलों के
68 उम्मीदवार
निर्दलीय 33
जदयू 5
बसपा 5
कांग्रेस 3
जेएमएम 3
राजद 2
आप 2
भारतीय दलित पार्टी 2
बहुजन मुक्ति पार्टी 2
एआइटीसी 1
एआइएमआइएम 1
राकांपा 1
प्रगतिशील समाजवादी
पार्टी (लोहिया) 1
सुसी (सी) 1
बिहार लोक निर्माण 1

यह भी पढ़े  जदयू का महादलित सम्मेलन आज से

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here