लालू परिवार के लिए प्रतिष्ठा की सीट बनी पाटलिपुत्र, लालू, राबड़ी ने विपक्ष पर बोला हमला

0
70

सारण के बाद अब लालू परिवार के लिए प्रतिष्ठा की सीट बनी पाटलिपुत्र पर राजद ने पूरी ताकत लगा दी है. राबड़ी देवी खुद चुनाव प्रचार की कमान संभाल रही हैं. आंचल फैला कर राबड़ी देवी वोट मांग रही हैं. यहां सांतवें चरण में 19 मई को चुनाव होना है. छठे चरण के लिए शुक्रवार को चुनाव प्रचार समाप्त हो रहा है.

इसके बाद तेजप्रताप यादव और तेजस्वी यादव भी चुनाव प्रचार में उतरेंगे. 2009 के बाद लालू परिवार का कोई सदस्य लोकसभा चुनाव नहीं जीत पाया है. पाटलिपुत्र सीट से लालू-राबड़ी की बड़ी संतान मीसा भारती मैदान में हैं.

वे अभी राज्यसभा की सदस्य हैं. 2014 में उन्होंने सफलता नहीं मिली थी. पिछले बार और इस बार भी उनका मुकाबला भाजपा के रामकृपाल यादव से है. रामकृपाल यादव की गिनती कभी लालू प्रसाद के प्रमुख सलाहकारों में होती थी. 2014 में टिकट नहीं मिलने पर उन्होंने राजद छोड़ भाजपा का थामन थाम लिया था और उन्हें सफलता भी मिली थी.

यह भी पढ़े  आम आदमी पार्टी ने पटना में खोला अपना दफ्तर

पाटलिपुत्र सीट लालू परिवार के लिए नाक का बाल बन गया है. परिसीमन के बाद 2009 में हुए चुनाव में लालू प्रसाद यहां से खुद चुनाव लड़े थे, लेकिन हार गये थे. हालांकि, सारण से जीतकर लोकसभा पहुंचने में सफल हो गये थे. बाद में सजायाफ्ता होने के कारण उनकी सदस्यता समाप्त हो गयी थी.

विधायकों को भी लगाया गया है चुनाव प्रचार में
मीसा भारती स्वयं तो प्रचार मैदान में जूझ ही रही हैं. उनकी मां और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी भी बेटी के लिए घुम- घुम कर वोट मांग रही हैं. दोनों भाई तेजप्रताप व तेजस्वी भी वोट मांग रहे हैं. पार्टी के स्थानीय विधायकों को भी प्रचार कार्य में लगाया गया है. महागठबंधन के अन्य घटक दल के नेता भी मीसा के लिए वोट मांग रहे हैं. राजद के प्रदेश प्रवक्ता व मनेर  से विधायक भाई वीरेंद्र कहते हैं कि  पाटलिपुत्र की जनता जागरूक है. वो महागठबंधन के पक्ष में वोट करेगी. बालू बंदी से सबसे अधिक प्रभाव पाटलिपुत्र क्षेत्र में ही पड़ा था.

यह भी पढ़े  कांग्रेस ने अमित शाह को साजिश कर फंसाया था : मंगल

लालू, राबड़ी ने विपक्ष पर भी बोला हमला

लोकसभा चुनाव के छठे चुनाव के चुनाव प्रचार के आखिरी दिन आरजेडी ने केन्द्र और राज्य सरकार के साथ-साथ विपक्ष पर निशाना साधा। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने आरक्षण की चोरी का आरोप लगाया, वहीं राजद ने नियोजित शिक्षकों के खिलाफ आये फैसले के लिए केन्द्र और राज्य सरकार को कटघरे में खड़ा किया। वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने लालू प्रसाद को समाजसेवी और समाज सुधारक बताते हुए विपक्ष पर अनाप-शनाप बोलने का आरोप लगाया। इधर, लालू के छोटे बेटे व पार्टी की कमान संभालने वाले तेजस्वी यादव ने केन्द्र और राज्य सरकार के बीच अविास गहरा जाने की बात कही है। जानकारी के मुताबिक, राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने शुक्रवार को ट्वीट कर कहा है कि ‘‘चोर चौकीदार ने अब कुर्मी, पटेल, धानुक, कोयरी, कुशवाहा, मौर्य, दांगी व अहीर के आरक्षण की भी चोरी शुरू करवा दी है। इसके बाद अब ये पासवान, रविदास, जाटव, पासी, रजक, मांझी, नोनिया, बिंद, बेलदार, मल्लाह, निषाद, कहार, केवट, चंद्रवंशी, मंडल और आदिवासी का आरक्षण समाप्त करेंगे’। राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने प्रधानमंत्री पर अतीत के बूते जनता को गुमराह करने का आरोप लगाया और कहा कि प्रधानमंत्री ने पांच वर्ष पहले की गई घोषणाओं में एक को भी पूरा नहीं किया और चुनाव प्रचार में भी अगले पांच बरस के लिए कोई नई बात नहीं कही।वहीं, राबड़ी देवी ने ट्वीट कर कहा है कि पांच चरणों के चुनाव में जनता जनार्दन के आपार समर्थन से सत्ता पक्ष के लोगन के नींद हराम हो गईल बा। ई लोग आपन आपा खो देले बा और अनाप-शनाप भाषा के इस्तेमाल कर ता। ई लोग सपना में भी लालू जी जईसन समाज सेवी, समाज सुधारक के गरियावता। बाकी जनता सब जान ता’। पांच चरणों के चुनाव में जनता जनार्दन के आपार समर्थन से सत्ता पक्ष के लोगन के नींद हराम हो गईल बा।

यह भी पढ़े  पटना लोकल फोटो : 26 / 7 / 2018

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here