लंबित परीक्षाएं जल्द कराएं विविद्यालय : कुलाधिपति

0
18
PATNA RAJ BHVAN MEIN SABHI V C KE SATH AYOJIT MASIK BAITHAK KO SAMBODHIT KERTE RAJPAL SATYAPAL MALLICK

पटना – आज राजभवन सभागार में राज्यपाल सह कुलाधिपति सत्यपाल मलिक की अध्यक्षता में कुलपतियों की नियमित मासिक बैठक आयोजित हुई, जिसमें विविद्यालयों में शैक्षणिक विकास, आधारभूत संरचना के संवर्धन आदि कई महवपूर्ण विषयों पर विस्तार से विचार किया गया। बैठक में राज्य के सभी विविद्यालयों के कुलपतियों के अतिरिक्त शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव आरके महाजन, राज्यपाल के प्रधान सचिव विवेक कुमार सिंह, शिक्षा विभाग के अपर सचिव मनोज कुमार, राज्यपाल सचिवालय के अपर सचिव विजय कुमार सहित शिक्षा विभाग एवं राज्यपाल सचिवालय के अन्य कई वरीय अधिकारी भी उपस्थित थे।बैठक की शुरुआत में कुलाधिपति सह राज्यपाल ने ‘‘बीएड कॉलेज एप्स’ का भी इलेक्ट्रॉनिक शुभारंभ किया, जिसके जरिये इन महाविद्यालयों में वर्ग संचालन, शिक्षक एवं छात्र उपस्थिति की दैनिक समीक्षा प्रेषित मोबाइल फोटोग्राफ्स के जरिये की जा सकेगी। बैठक में राज्यपाल को प्रधान सचिव विवेक कुमार सिंह ने मासिक पत्रिका ‘‘राज भवन संवाद’ के जुलाई अंक की प्रथम प्रति भी सादर समर्पित की। बैठक को संबोधित करते हुए राज्यपाल राज्यपाल श्री मलिक ने कहा कि हमें विविद्यालयों के लिए निर्धारित एजेन्डों पर तेजी से आगे बढ़ना है। राज्यपाल ने निर्धारित एजेन्डे के आलोक में विभिन्न विविद्यालयों की प्रगति पर संतोष व्यक्त किया। साथ ही, प्रगति में निरन्तरता बनाये रखने के लिए भी प्रेरित किया। राज्यपाल ने आज की बैठक में कुलपतियों से कहा कि एकेडमिक व परीक्षा कैलेण्डर के अनुरूप सत्र संचालन, परीक्षा आयोजन व ससमय परीक्षाफल प्रकाशन हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2018 के दिसम्बर माह तक विविद्यालयों को विभिन्न सत्रों की लंबित परीक्षाएं हर हालत में सम्पन्न कराते हुए ससमय उनका परीक्षाफल प्रकाशित कर देना है। राज्यपाल ने कहा कि कार्यरत शिक्षक एवं शिक्षकेतर कर्मियों को नियमित वेतन तथा हर तरह की बकाया राशि भी शीघ्र भुगतान किया जाना चाहिए तथा हर माह ‘‘ पेंशन अदालतें’ लगाते हुए सेवानिवृत्त कर्मियों के सेवांत लाभ से संबंधित राशि का भी भुगतान समय से हो जाना चाहिए।कुलाधिपति ने विास व्यक्त किया कि राज्य के विविद्यालयों में शिक्षकों की कमी की समस्या शिक्षा विभाग, बिहार लोक सेवा आयोग एवं नये रूप में गठित होने वाले ‘‘विविद्यालय सेवा आयोग’ के माध्यम से यथाशीघ्र दूर कर लेगा। राज्यपाल ने विविद्यालयों में शिक्षा विभाग द्वारा प्रदान किए गये दिशा-निर्देश के आलोक में तात्कालिक रूप से ‘‘गेस्ट फेकल्टी’ नियुक्त करने के काम को यथाशीघ पूरा करने को कहा। कुलाधिपति श्री मलिक ने सुझाव दिया कि सभी कुलपतियों को विविद्यालय में यथासंभव अपने विषय से जुड़ी कक्षाओं में अध्यापन कार्य भी करना चाहिए। इससे छात्रों के बीच उनका निकट का संवाद बना रहेगा तथा अन्य शिक्षक भी अध्यापन के लिए प्रेरित होंगे। बैठक में यह निर्णय लिया गया कि नये विविद्यालयों सहित अन्य विविद्यालयों में भी आवयकतानुरूप नये पदों के सृजन, पद विलोपन एवं पदों के समपरिवर्तन हेतु सभी विवविद्यालय, शिक्षा विभाग को अपने प्रस्ताव आगामी 15 जुलाई, 2018 तक अवश्य उपलब्ध करा देंगे। विभाग प्राप्त प्रस्तावों की समीक्षा करते हुए इनकी मंजूरी आवश्यक प्रक्रिया पूरी करते हुए देगा। बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि विविद्यालयों में शिक्षा विभाग के मार्ग निर्देशों के आलोक में निर्धारित मानदेय राशि पर राज्य सरकार द्वारा निर्धारित आरक्षण नियमों का पालन करते हुए तात्कालिक रूप से ‘‘गेस्ट फेकल्टी’ की अस्थायी नियुक्ति यथाशीघ्र की जाएगी। बैठक में अन्तविविद्यालयीय सांस्कृतिक प्रतियोगिता ‘‘तरंग’ तथा खेलकूद प्रतियोगिता ‘‘एकलव्य’ के सफल आयोजन हेतु विविद्यालयों को अपने आन्तरिक संसाधनों का उपयोग करने को कहा गया। विविद्यालय परिसरों में ‘‘वाई-फाई व्यवस्था’ में और अधिक बेहतरी की अपेक्षा करते हुए कार्यकारी एजेन्सी को लगातार अनुश्रवण के लिए ताकीद किया गया। बैठक में आरटीजीएस पद्धति से वेतन भुगतान करने, शिक्षक व शिक्षकेतरकर्मियों के बैंक खाते ‘‘आधार’ से इंटरलिंक करने, एफ्लिएटेड कॉलेजों को स्वीकृति प्रदान करने, संचालित विभिन्न योजनाओं से संबंधित उपयोगिता प्रमाण पत्र उपलब्ध कराने तथा बीएड प्रवेश परीक्षा के सफल आयोजन के मुद्दे पर भी आवश्यक र्चचा हुई।

यह भी पढ़े  चार सजायाफ्ता पूर्व मुख्यमंत्रियों की पार्टी पर कोर्ट के फैसले का असर होना तय है : मोदी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here