रोजगारोन्मुखी हो रही उच्च शिक्षा:राज्यपाल

0
132
Patna-Apr.11,2019-Bihar Governor Lalji Tandon is releasing book during workshop on “Digital Initiatives in Higher Education” at Hotel Maurya in Patna. Photo by – Sonu Kishan.

‘‘बिहार में उच्च शिक्षा जगत की चुनौतियों को स्वीकार करते हुए सुधार-प्रयास तेज कर दिये गये हैं। उच्च शिक्षा में गुणात्मक विकास करते हुए इसे शोधपरक और रोजगारोन्मुखी बनाने के लिए हर तरह के आधुनिक और समकालीन प्रयास किये जा रहे हैं।’ उक्त बातें बृहस्पतिवार को राज्यपाल लाल जी टंडन ने स्थानीय होटल मौर्या के सभागार में केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय एवं राजभवन के संयुक्त तत्वावधान में पाटलिपुत्र विविद्यालय द्वारा संयोजित ‘‘उच्च शिक्षा में डिजिटल पहल’ विषयक दो दिवसीय (11-12 अप्रैल) कार्यशाला का उद्घाटन करते हुए कहीं। उन्होंने कहा कि उच्च शिक्षा के विकास के बगैर किसी प्रदेश या राष्ट्र की प्रगति नहीं हो सकती। साथ ही ज्ञान-विज्ञान की आधुनिक प्रगति से जुड़ते हुए हमें अपनी जड़ों से भी जुड़ना होगा। जड़ों से जुड़ने का मतलब अपनी समृद्ध परम्पराओं और विरासतों से जुड़ना है। उन्होंने कहा कि भारतीय वैदिक वांग्मय में भी वैज्ञानिकता की पर्याप्त पुट है। सुश्रुत को ‘‘सर्जरी का जनक’ माना जाता है। उसी तरह कौटिल्य जहां अर्थशास्त्र के प्रकांड विद्वान थे वहीं आर्यभट्ट गणित के उद्भट विद्वान थे। राज्यपाल ने कहा कि प्राचीन भारत की ज्ञान-समृद्धि मूलत: बिहार की दार्शनिक एवं सांस्कृतिक वैभव पर आधारित है। बिहार के नालंदा एवं विक्रमशिला विविद्यालय आदि पूरे विश्व में उच्च शिक्षा के केन्द्र के रूप में विख्यात रहे हैं। राज्यपाल ने कहा कि हमें पुन: अपनी नियंतण्र प्रतिष्ठा हासिल करनी है। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राज्य के विकास आयुक्त सुभाष वर्मा ने कहा कि शिक्षा सिर्फ परीक्षा और क्लासरूम तक सीमित रहनेवाली योग्यता नहीं है। राज्यपाल के प्रधान सचिव विवेक कुमार सिंह ने कहा कि बिहार में यह बेहद जरूरी है कि शिक्षक-छात्र क्लासरूम से अधिकाधिक रूप से जुड़े और परीक्षाएं समय पर हों। कार्यक्रम में अर्चना शुक्ला, प्रो. सत्यकी, नंद गोपाल, प्रो. कवि आर्या, उषा विश्वनाथन, डॉ. शालिनी, जीएस मलिक, डा.ॅ भट्टाचार्या आदि ने तकनीकी सत्रों के दौरान ‘‘डिजिटलीकरण’ के विभिन्न पहलुओं का विस्तार से र्चचा की। कार्यशाला में धन्यवाद-ज्ञापन पाटलिपुत्र विविद्यालय के कुलपति प्रो. गुलाब चन्द राम जायसवाल एवं संचालन डॉ. तनुजा ने किया।

यह भी पढ़े  विधान पार्षद सूरज नंदन कुशवाहा के श्राद्धकर्म में शामिल हुए मुख्यमंत्री

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here