रेलवे स्टेशन पर नक्सली हमला, अगवा दोनों रेल कर्मियों को पुलिस ने किया बरामद

0
155

मसुदन हॉल्ट से अगवा 2 रेल कर्मियों को नक्सलियों ने किया मुक्त..दोनों रेलकर्मियों को पुलिस ने किया बरामद

लखीसराय : बिहार के मसूदन रेलवे स्टेशन पर मंगलवार देर रात नक्सलीयो ने हमला किया. इस हमले के बाद नक्‍सली सहायक स्टेशन मास्टर और एक रेलवे स्टाफ को अगवा करके ले गए जिन्हें पुलिस ने बरामद कर लिया है . देर रात नक्‍सलियों ने सिग्‍नलिंग पैनल को भी फूंक दिया था . इस घटना के बाद से भागलपुर – किऊल रेलखंड पर ट्रेनों की आवाजाही पूरी तरह से ठप हो गई थी जो सुबह 5.30 के करीब किउल जमालपुर रेलखंड पर ट्रेनों का परिचालन शुरू . नक्सलियों ने वहां मौजूद असिस्टेंट स्टेशन मास्टर मुकेश कुमार और पोर्टर निरेंद्र मंडल को अगवा कर लिया था .

घटना के संबंध में पूर्व रेलवे के मुख्य जनसंपर्क पदाधिकारी आर एन महापात्रा ने घटना की विस्तृत जानकारी सिलसिलेवार तरीके से दी. उनके मुताबिक रात करीब 11.30 बजे गया जमालपुर ट्रेन के मसुदन रेलवे स्टेशन पहुंचते ही आधा दर्जन नक्सली स्टेशन के मुख्य भवन में प्रवेश कर गये. नक्सलियों में महिला नक्सली भी शामिल थीं. नक्सलियों ने रेलवे कर्मचारियों को अपने कब्जे में लेकर पैनल और उपकरणों में आग लगा दी. घंटे भर से ज्यादा समय तक वहां उत्पात करने के बाद नक्सलियों ने सहायक स्टेशन मास्टर मुकेश पासवान और पोर्टर योगेन्द्र मंडल का अपहरण कर लिया था .

नक्सलियों ने मंगलवार की मध्य रात्रि से घोषित अपने एक दिवसीय बिहार-झारखंड बंद के घोषणा के दौरान मंगलवार की मध्य रात 11.30 बजे जहां किऊल-जमालपुर रेल खंड के मसुदन रेलवे स्टेशन के एएसएम मुकेश कुमार एवं पोर्टर निलेंद्र मंडल को अगवा करने के साथ ही मसुदन स्टेशन के पैनल केबल में आग लगा दी. वहीं, चानन प्रखंड की संग्रामपुर पंचायत के उपमुखिया वीरेंद्र कोड़ा को घर से अगवा कर हत्या कर दी.

यह भी पढ़े  2019 के लोकसभा चुनाव में BJP को कोई चुनौती नजर नहीं आती: पीएम मोदी

मसुदन स्टेशन पर नक्सलियों ने मंगलवार की देर रात लगभग 11.30 बजे धावा बोल कर स्टेशन के पैनल व केबल में आग लगा दी. वहीं, स्टेशन के दो कर्मियों एएसएम व पोर्टर को अगवा कर अपने साथ जंगल की ओर लेते चले गये. घटना के बाद रात में परिचालन को रोक दिया गया. इसके बाद लखीसराय के एएसपी अभियान पवन कुमार उपाध्याय के नेतृत्व में जिला पुलिस, एसटीएफ एवं सीआरपीएफ जवान रात के ढाई बजे मसुदन रेलवे स्टेशन पहुंच स्टेशन को कब्जे में लिया तथा जमालपुर से एसएम परमानंद प्रसाद एवं पोर्टर भोला कुमार के मसुदन पर पहुंचने के बाद सुबह 5.40 बजे रेल परिचालन को चालू कराया गया़.

बुधवार की सुबह नक्सलियों ने एएसएम के मोबाइल से ही मालदा मंडल के प्रबंधक को फोन दिन भर के लिए रेल परिचालन रोक देने का निर्देश देते हुए कहा कि अगर रेल परिचालन नहीं रोका गया, तो अगवा किये गये रेलकर्मियों की हत्या कर दी जायेगी. इसके बाद सुबह 7.40 बजे से किऊल-जमालपुर रेलखंड पर रेल परिचालन रोक दिया गया़. इस संबंध में जमालपुर स्टेशन के आरपीएफ निरीक्षक परवेज खान ने बताया कि नक्सलियों ने मालदा रेलमंडल के प्रबंधक को अगवा एएसएम के मोबाइल से ट्रेन परिचालन रोकने की चेतावनी दी. साथ ही कहा कि रेल परिचालन नहीं रोके जाने पर अगवा रेलकर्मियों की हत्या कर दी जायेगी. नक्सलियों की धमकी के बाद रेल परिचालन को रोक दिया गया है. इससे किऊल-जमालपुर रेलमार्ग पर से गुजरनेवाली ट्रेनें जमालपुर-भागलपुर एवं किऊल-मोकामा रेलमार्ग पर विभिन्न स्टेशनों पर ट्रेनें खड़ी हैं.

यह भी पढ़े  बिहार के सांसदों ने लोकसभा में एक बार फिर उठाया मुजफ्फरपुर बालिका गृह मामला, कहा- सबूत मिटाने के हो रहे प्रयास, हंगामा

इस संबंध में जिला के अपर पुलिस अधीक्षक अभियान पवन कुमार उपाध्याय ने बताया कि पुलिस, एसटीएफ व सीआरपीएफ जवान अगवा किये गये रेलकर्मियों की खोज में लगे हुए हैं. फिलहाल रेलकर्मियों की सुरक्षा की दृष्टि से रेल परिचालन को रोक दिया गया है.

उधर, चानन में नक्सलियों ने अपने पूर्व सहयोगी रहे प्रखंड के संग्रामपुर पंचायत के उपमुखिया वीरेंद्र कोड़ा पिता रामदेव कोड़ा को मंगलवार की देर रात घर से अगवा करने बाद हत्या कर जंगल में फेंक दिया है. घटना के संबंध में मिली जानकारी के अनुसार, नक्सलियों ने मंगलवार की रात संग्रामपुर पंचायत के कछुआ कोड़ासी निवासी वीरेंद्र कोड़ा को उस वक्त अगवा कर लिया, जब वह घर में सोये हुए थे. अगवा करने के बाद नक्सली वीरेंद्र को अपने साथ जंगल की ओर ले गये थे. बुधवार सुबह ग्रामीणों ने गांव से लगभग दो किलोमीटर दूरी पर वीरेंद्र के शव देखा. इसके बाद सूचना पुलिस को दी. वीरेंद्र के शरीर पर गोलियों के कई निशान बताये जा रहे हैं. वीरेंद्र के संबंध में प्राप्त जानकारी के अनुसार, वीरेंद्र के पिता रामदेव कोड़ा मुंगेर जिला के हवेली खड़गपुर प्रखंड में शिक्षक पद पर कार्यरत हैं. वहीं, वीरेंद्र कुछ वर्ष पूर्व नक्सली संगठन से कुछ समय के लिए जुड़ा था, बाद में वह राजनीति में रूचि लेने लगा और नक्सलियों से नाता तोड़ लिया था. वीरेंद्र उपमुखिया बनने के बाद अपने घर कछुआ कोड़ासी में नहीं रह रहा था. वह मननपुर बाजार में ही किराये पर कमरा लेकर रहता था. विगत कुछ दिन पूर्व ही वह अपने गांव कछुआ गया था़, जिसकी जानकारी मिलने के बाद नक्सलियों ने मंगलवार की रात उसे अगवा करने के बाद हत्या कर दी. एएसपी अभियान पवन कुमार उपाध्याय ने घटना की पुष्टि करते हुए कहा नक्सलियों के द्वारा ही वीरेंद्र कोड़ा की हत्या की गयी है. पुलिस घटनास्थल के लिए रवाना हो चुकी है.

यह भी पढ़े  मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिले भारत में अमेरिका के राजदूत केनिथ जस्टर

वहीं दूसरी ओर, एएसएम मुकेश कुमार मुंगेर जिले के धरहरा थाना क्षेत्र के गांव का रहनेवाला है. जबकि, पोर्टर निलेंद्र मंडल भागलपुर जिले के सुल्तानगंज थाना क्षेत्र के गण धनिया का रहनेवाला है. घटना के बाद दोनों कर्मियों के परिजन मसूदन स्टेशन पहुंच चुके हैं. स्टेशन पर ही दोनों रेलवे कर्मियों के परिजन सुबह से ही उनके लौटने का इंतजार कर रहे हैं. घटना के लगभग आठ घंटे बाद जमालपुर रेल जीआरपी के थानाध्यक्ष कृपाशंकर सुबह 5:00 बजे मसुदन स्टेशन पहुंचे. जानकारी के अनुसार, अब तक रेलवे के बड़े अधिकारी, रेलव सुरक्षा बल या जीआरपी के वरीय अधिकारी सुबह आठ बजे तक घटनास्थल पर नहीं पहुंच सके हैं.

जमालपुर-किउल रेलखंड के मसुदन रेलवे स्टेशन पर माओवादी वारदात के बाद रेलखंड में ट्रेनों का परिचालन बुरी तरह से अस्त-व्यस्त हो गया है. ट्रेन जहां-तहां रुकी हुई है. रेलखंड के यात्री परेशान हैं. भागलपुर-दानापुर इंटरसिटी को जहां रतनपुर रेलवे स्टेशन में रोक दिया गया है. वहीं, जयनगर-हावड़ा ट्रेन सिमरिया स्टेशन में रोक रखा गया है. इधर, हावड़ा-गया एक्सप्रेस जमालपुर में खड़ी है. जबकि, मुजफ्फरपुर-भागलपुर जनसेवा एक्सप्रेस एवं फरक्का एक्सप्रेस प्रातः 7:00 बजे से ही किउल स्टेशन पर रुकी हुई है. राजेंद्रनगर-बांका बड़हिया में खड़ी है. दूसरी तरफ यात्रियों में कोहराम मचा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here