राहुल गाँधी की बदली छवि से आयेंगे बिहार कांग्रेस के भी अच्‍छे दिन

0
116
पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव के नतीजों ने राहुल गांधी की छवि को बदल दिया है. उनके खिलाफ दुष्प्रचार करने वाली ब्रांडिंग एजेंसियों के कैंपेन धरे के धरे रह गये. वे अब सीधे प्रधानमंत्री के मुकाबले में आ गये हैं. वे लोगों को यह संदेश देने में सफल रहे हैं कि कांग्रेस की सरकार जनता की सरकार पहले होगी, कांग्रेस की बाद में. अब उनके नेतृत्व पर सवाल करना आसान नहीं होगा. एएन सिन्हा इंस्टीट्यूट आॅफ सोशल स्टडीज पटना के निदेशक रहे समाजशास्त्री प्रो डीएम दिवाकर का कहना है कि…
आचार-विचार और लोक व्यवहार में राहुल गांधी नरेंद्र मोदी से लंबी लकीर खींचने में सफल रहे हैं. नरेंद्र मोदी की वैचारिक पृष्ठभूमि आरएसएस व मानसिकता हिंदू राष्ट्रवाद की है. भारत बहुसंस्कृति का देश है. इसमें अल्पसंख्यक और धर्मनिरपेक्ष लोग मोदी से कटे हुए हैं.
शांतिप्रिय लोग भी छिटक रहे हैं. राहुल सभी के साथ चलने की कोशिश कर रहे हैं. आज भाजपा का मतलब नरेंद्र मोदी हैं, वहीं राहुल गांधी खुद को पार्टी से बड़ा नहीं मानते. वह चाहते तो सीधे राष्ट्रीय अध्यक्ष हो जाते लेकिन ऐसा नहीं किया. मोदी अच्छे प्रचारक हैं. कुछ समय के लिए वे लोगों को भावनात्मक रूप से प्रभावित कर लेते हैं, लेकिन भारतीय समाज में व्यंग्य की एक सीमा के बाद कोई स्थान नहीं है.
मोदी अपने व्यंग्य, भाव-भंगिमा से भाजपा के प्रचारक की भूमिका में ही बंधे हैं. लोकतंत्र को मजबूत रखने के लिए विरोध जरूरी है. मोदी विरोध स्वीकार नहीं करते हैं. वह देश के प्रधानमंत्री की बजाय एक पार्टी के प्रधानमंत्री वाला आचरण अधिक करते हैं. सपने दिखाते हैं, उनको पूरा नहीं करते. देशभर के किसान दिल्ली में जुटते हैं लेकिन एक बयान तक नहीं देते. मंदसौर में किसानों पर गोली चलने पर भी चुप रहते हैं. राहुल गांधी इसके विपरीत हैं. अहंकार व्यक्त नहीं करते. विरोधी को खुलकर विरोध का मौका देते हैं.
हमेशा सीखने की कोशिश करते हैं. लोगों की नजर में वह बेहतर दिख रहे हैं. किसानों और युवाओं की बात करते हैं, उनकी आवाज बनकर उनके बीच जा रहे हैं. भारत में जिसने भी किसान अौर युवा की उपस्थिति को नजरंदाज किया है, वह सत्ता में नहीं रह पाया है. नरेंद्र मोदी पहली बार लोकसभा पहुंचे तो लोकसभा के आगे माथा टेककर संदेश दिया कि वह संवैधानिक संस्थाओं का बहुत सम्मान करते हैं, जबकि सच इसके विपरीत है. देश में पहली बार इतिहास का व्यक्ति आरबीआई का गवर्नर बना है. सीबीआई, सुप्रीम कोर्ट आदि के विवाद भी इसी सरकार में सामने आये हैं. सेंट्रल फॉर द स्टडी आॅफ सोसायटी एंड पॉलिटिक्स कानपुर के निदेशक डॉ एके वर्मा का कहना है कि …
लोग राहुल गांधी को विदूषक के रूप में देखने  लगे थे. अब उस पर विराम लग जायेगा. सभी उनको गंभीरता से लेने लगेंगे. बहुत  सारी चीजों का उनको क्रेडिट नहीं दिया जा रहा है. प्रधानमंत्री से उनकी तुलना करते हुए डॉ वर्मा कहते हैं कि राहुल युवा हैं, अभी सीख रहे हैं. भावी प्रधानमंत्री के रूप में खुद को साबित करने के लिए तो गंभीर उत्तर देने की जरूरत है. नरेंद्र मोदी की व्यक्तिगत छवि परिपक्व है. वह खुद को काम के प्रति प्रतिबद्ध साबित करते हैं. इस चुनाव से उनकी इमेज प्रभावित नहीं होगी.
बिहार में लोकसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस को कब कितनी सीटें मिलीं
वर्ष 2004 के लोकसभा चुनाव में बिहार में कांग्रेस ने राजद सहित अन्य दलों के साथ गठबंधन कर चार सीटों पर चुनाव लड़ी. इसमें से तीन पर विजय मिली. वहीं वर्ष 2009 में कांग्रेस अकेले 10 सीटों पर चुनाव लड़ी. इसमें दो सीटों पर जीत मिली. के लोकसभा चुनाव में राजद के साथ गठबंधन में कांग्रेस को 12 सीटें मिलीं, जिनमें से दो पर जीत मिली.
क्या कहते हैं      
राबड़ी देवी ने कहा है कि 2019 में जनता भाजपा को पूरी तरह उखाड़ फेंकेगी. इसकी शुरुआत हो चुकी है. उन्होंने भाजपा को सत्ता से बाहर करने के लिए राजस्थान, मध्यप्रदेश, तेलंगाना, छत्तीसगढ़ और मिजोरम की जनता को बधाई दी है.
भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता राजीव रंजन ने कहा है कि राज्यों के चुनाव परिणामों का असर 2019 के लोकसभा चुनावों पर नहीं पड़ेगा. देश में मोदी लहर कायम  है. भाजपा पूरी तरह जनादेश का सम्मान करती है और अपनी कमियों को दूर करने का हरसंभव प्रयास करेगी. हार के कारणों की पार्टी समीक्षा कर रही है. भाजपा प्रवक्ता ने कहा कि विधानसभा चुनावों के समीकरण और मुद्दे लोकसभा चुनावों से पूरी तरह अलग होते हैं.
नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने ट्वीट करके मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला बोला है. उन्होंने कहा है कि खेमा बदलने के बाद मुख्यमंत्री ने कहा था कि मोदीजी (प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी) का मुकाबला करने की क्षमता इस देश में किसी में नहीं है. शायद वह अपनी तरह ही सब को समझते हैं. लेकिन, वह विनम्रता से नीतीशजी से पूछना चाहते हैं कि इस बारे में अब उनका क्या विचार है. कहीं फिर से खेमा बदलने के बारे में तो नहीं सोच रहे हैं. उन्होंने अंत में सीएम को चाचाजी कहकर संबोधित करते हुए प्रश्न किया है.
पटना : एक दौर था, जब बीजेपी ने 2014 के लोकसभा चुनाव में एकतरफा जीत हासिल की थी. उस वक्त भाजपा समर्थकों या यूं कहें मोदी भक्तों की एक लंबी फौज ने सोशल मीडिया पर सक्रिय होकर कांग्रेस से लेकर अन्य विरोधी दलों का जमकर मजाक उड़ाया था.
कांग्रेस विरोधियों ने राहुल गांधी को सोशल मीडिया का सबसे फनी कैरेक्टर बना कर छोड़ा दिया था, लेकिन इस बार तीन बड़े राज्यों में भाजपा की हार के बाद स्थिति पलट गयी है. जो कभी सोशल मीडिया के हीरो थे. आज यूजर उनका गिन-गिन कर मजा ले रहे हैं. फेसबुक, व्हाट्सएप और ट्विटर पर मंगलवार के दोपहर से ही ब्रांड मोदी और यूपी के सीएम योगी सहित पूरी भाजपा को लेकर तरह-तरह के फनी जोक्स पोस्ट किये जा रहे हैं.
यहां तक की मध्य प्रदेश के चुनाव परिणाम देर से आने को लेकर चुनाव आयोग पर भी लोग कॉमेंट करने से बाज नहीं आये. सबसे मजाकिया कटाक्ष यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ द्वारा शहरों के नाम बदलने को लेकर किये गये हैं. इसमें पोस्ट किया गया है कि भाजपा के हारने के बाद पीएम मोदी योगी जी को फोन कर पूछते हैं कि अब क्या किया जाये, जवाब में योगी कह रहे हैं कि अब कांग्रेस का नाम बदल कर भाजपा रख देते हैं.
 
आपने हनुमानजी की ‘जात’ बतायी और उन्होंने आपकी ‘औकात’ 
भाजपा के हारने के बाद हनुमान जी से संबंधित कई जोक्स सोशल मीडिया पर सबसे हिट हैं. योगी के हनुमान जी को दलित बताने वाले बयान पर जमकर खिंचाई की जा रही है. एक यूजर ने फेसबुक पर पोस्ट किया कि आपने (भाजपा) हनुमान जी की जात बतायी और उन्होंने आपकी औकात (हराकर) बता दिया. एक पोस्ट ये भी किया गया है कि और ‘बनाओ हनुमानजी का जाति प्रमाणपत्र, मिल गया न मंगलवार को प्रसाद’. वहीं, एक भोजपुरी गाने पर पर भी भाजपा का पोस्टमार्टम किया जा रहा है. ‘ नू रोटी खाएंगे, चौकीदार (मोदी) को भगाएंगे… ठीक है!
इसके अलावा मोदी के स्वच्छता अभियान के आधार पर भी सोशल मीडिया यूजर कह रहे हैं कि पांच राज्यों में स्वच्छ भारत का अभियान सफल रहा. इसके अलावा अमित शाह, शिवराज सिंह चौहान, नरेंद्र मोदी, योगी आदित्यनाथ की फोटों पर कई तरह के फनी काॅमेंट लिख पोस्ट किये जा रहे हैं. इसके अलावा गाय, गोबर, इवीएम से संबंधित कई कॉमेंट पोस्ट सोशल मीडिया पर भरे पड़े हैं.
कई यूजरों ने लिखा है कि हमने एक बोरा आलू खरीद कर रख लिया है
ऐसा नहीं कि हारने के बाद सोशल मीडिया पर केवल भाजपा की खिल्ली उड़ रही है. भाजपा समर्थक सोशल मीडिया यूजरों ने अभी मैदान नहीं छोड़ा है. जीत के बाद भी कांग्रेस और राहुल गांधी पर कॉमेंट व फनी पोस्ट जारी हैं. जीत के बाद कई यूजरों ने लिखा है कि हमने एक बोरा आलू खरीद कर रख लिया है, पता नहीं कब आलू से सोना बनाने वाली मशीन लगा दी जाये. कुछ यूजर कह रहे हैं कि बेरोजगार सड़कों पर ऐसे नहीं घूमें, उन्हें पकड़ कर सरकारी नौकरी दे दी जायेगी.
पांच राज्यों के चुनाव परिणाम के बाद उत्साहित बिहार कांग्रेस के नेताओं ने पोस्टर वार से इसका जवाब दिया है. कांग्रेस के पूर्व सचिव सिद्धार्थ क्षत्रिय और ई वेंकटेश रमण ने एक पोस्टर जारी किया है, जिसमें राम हनुमान मिलाप के फोटो के साथ लिखा है कि प्रभु हमें दलित बताने वाले योगी को भी पांच राज्यों की तरह क्षमा नहीं कीजिए. एक दूसरे वाक्य में रामचरितमानस की ये पंक्तियां लिखी गयी हैं निर्मल जन सो मोहे पावा, मोहि कपट छल छिद्र न भावा.भेद लेन पठवा दससीसा, तबहुं न कछु भय हानि कपीसा.
यह भी पढ़े  मुस्लिम उम्मीदवारों पर नहीं बरसी राजग की कृपा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here