राफेल मामला: लोकसभा में आज फिर चर्चा, राहुल गांधी ने पीएम मोदी को दी बहस की चुनौती

0
26

राफेल मुद्दे पर बुधवार को संसद में जमकर संग्राम हुआ, राहुल गांधी ने अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस को राफेल डील में ऑफसेट पार्टनर बनाने पर सवाल खड़े किए. दूसरी ओर वित्त मंत्री अरूण जेटली ने राहुल के AA (अनिल अंबानी) का जवाब Q (क्वात्रोची) से दिया और बोफोर्स घोटाले वाले क्वात्रोकी से गांधी परिवार के संबंध पर पलटवार किया.

लोकसभा में राफेल पर बुधवार को मचे घमासान के बाद आज एक बार फिर इस मुद्दे पर चर्चा होगी. कांग्रेस ने अपने सभी सांसदों को व्हिप जारी कर सदन में रहने को कहा है, कांग्रेस इस मुद्दे पर सरकार को सदन के बाहर भी छोड़ने के मूड में नहीं है. राफेल मुद्दे पर कल संसद में जमकर संग्राम हुआ, राहुल गांधी ने अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस को राफेल डील में ऑफसेट पार्टनर बनाने पर सवाल खड़े किए. दूसरी ओर वित्त मंत्री अरूण जेटली ने राहुल के AA (अनिल अंबानी) का जवाब Q (क्वात्रोची) से दिया और बोफोर्स घोटाले वाले क्वात्रोकी से गांधी परिवार के संबंध पर पलटवार किया. राफेल पर पूरी चर्चा के दौरान विपक्ष लगातार जेपीसी जांच की मांग दोहराता रहा लेकिन सरकार की ओर से इस मांग को सिरे से खारिज कर दिया गया.

यह भी पढ़े  Patna Local & CM Photo 22.2.18

राहुल गांदी ने पीएम मोदी से पूछे सवाल
लोकसभा के बाहर भी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल मामले को लेकर प्रधानमंत्री मोदी पर हमला जारी रखा. राहुल गांधी ट्वीट कर पीएम से पूछा है, ”मोदी जी, कृपया हमें बताएं कि पर्रिकर जी ने राफेल की फाइल अपने बेडरूम में क्यों रखी है ? इसमें ऐसा क्या है ?”

राहुल ने पीएम मोदी को आज सदन में बहस की चुनौती भी दी और ट्वीट कर 3 सवाल पूछे. राहुल गांधी ने अपने ट्वीट में कहा है, ‘’कल संसद में राफेल डील पर पीएम मोदी का ओपन बुक एग्जाम है. एडवांस में एग्जाम में आने वाले सवाल यहां हैं. पहला, 36 एयरक्राफ्ट क्यों ? जब इंडियन एयरफोर्स को 126 की जरूरत थी. दूसरा, 560 करोड़ की जगह हर एयरक्राफ्ट 1600 करोड़ में क्यों ? और तीसरा, HAL की जगह डील AA (अनिल अबानी) को क्यों?”

कल राहुल गांधी ने लोकसभा में क्या कहा?
राहुल गांधी ने कहा, ‘’यूपीए सरकार के समय वायुसेना के कहने पर 126 राफेल विमान खरीदने की प्रक्रिया आगे बढ़ी थी, लेकिन प्रधानमंत्री ने नए सौदे में 36 विमान कर दी गई.’’ उन्होंने सवाल किया, ‘’प्रधानमंत्री बताएं कि किसके कहने पर यह किया गया, क्या वायुसेना ने यह कहा था?’’ कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ‘’इस मामले में दाल में कुछ काला नहीं, बल्कि पूरी दाल ही काली है. प्रधानमंत्री से अब इस मामले में पूरा देश में सवाल पूछ रहा है. उन्होंने कहा कि बीजेपी के लोग डरे नहीं, जेपीसी की जांच कराएं. दूध का दूध, पानी का पानी हो जाएगा.’’

यह भी पढ़े  बिहार में कोई सुरक्षित नहीं, अब मुझे भी लगता है डर:तेजप्रताप

जेटली ने दिया राहुल गांधी के आरोपों का जवाब
राहुल गांधी के आरोपों पर वित्त मंत्री अरूण जेटली ने कहा, ‘’कुछ लोग ऐसे होते हैं जिन्हें स्वभाविक रूप से सचाई नापसंद होती है. उन्हें सिर्फ पैसे का गणित समझ में आता है, देश की सुरक्षा का नहीं.’’ जेपीसी की मांग को खारिज करते हुए जेटली ने कहा, ‘’इसमें संयुक्त संसदीय समिति नहीं हो सकती है, यह नीतिगत विषय नहीं है. यह मामला सौदे के सही होने के संबंध में है. सुप्रीम कोर्ट में यह सही साबित हुआ है.

जेटली ने कहा, ‘’जेपीसी में दलगत राजनीति का विषय आता है. बोफोर्स मामले में जेपीसी ने कहा था कि इसमें कोई रिश्वत नहीं दी गई. अब वे ही लोग जेपीसी की मांग कर रहे हैं ताकि एक स्वच्छ सरकार के खिलाफ मामला गढ़ने का मौका मिल सके.’’

शिवसेना ने भी कहा- राफेल की जेपीसी जांच हो
बीजेपी की सहयोगी शिवसेना ने राफेल मामले की जांच के लिए बुधवार को लोकसभा में संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) गठित करने की मांग की. शिवसेना ने कहा कि यह पारदर्शी सरकार है इसलिए जेपीसी की जांच से डरना नहीं चाहिए. सदन में राफेल विमान सौदा मुद्दे पर चर्चा के दौरान शिवसेना के अरविंद सावंत ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आरोप लगाए और वित्त मंत्री अरूण जेटली ने इसका खंडन किया, लेकिन अब भी संदेह बने हुए हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here