राज्यपाल से मुख्यमंत्री नेे की शिष्टाचार मुलाकात

0
63
Patna-Aug.12,2019-Bihar Chief Minister Nitish Kumar is meeting with Bihar Governor Fagu Chauhan at Raj Bhawan in Patna.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तथा खान एवं भूतत्व मंत्री ब्रज किशोर बिन्द ने आज राजभवन जाकर राज्यपाल फागू चौहान मुलाकात की। दोनों नेताओं की राज्यपाल से अलग-अलग शिष्टाचार मुलाकात की। बिन्द ने राज्यपाल को शुभकामनाएं दीं एवं विास व्यक्त किया कि उनके मार्गदर्शन में बिहार राज्य तेजी से विकास-पथ परआगे बढ़ेगा। राज्यपाल से आज राजभवन में मुलाकात करने वालों में पटना विविद्यालय के कुलपति रास बिहारी प्रसाद सिंह, पूर्व विधायक राजेश्वर राज, भारतीय पुलिस सेवा के वरीय अधिकारी अरविन्द पाण्डेय, अति पिछड़ा वर्ग आयोग के सदस्य प्रमोद कुमार चन्द्रवंशी तथा राजकुमार शुक्ल स्मारक न्यास के कई पदाधिकारीगण आदि शामिल थे।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार 15 को करेंगे जल-जीवन-हरियाली अभियान की शुरुआत

राज्य को पर्यावरण संकट से उबारने और इस विषय पर देश में उदाहरण बनने के उद्देश्य से 15 अगस्त से जल-जीवन-हरियाली अभियान शुरू होगा. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इस अभियान को लांच करेंगे. माना जा रहा है कि ऐतिहासिक गांधी मैदान में स्वतंत्रता दिवस पर झंडा फहराने के बाद इस अभियान को शुरू करने की घोषणा की जायेगी.

यह भी पढ़े  दहेज व बाल विवाह के खिलाफ अभियान में बेहतर योगदान देने वालों को मुख्यमंत्री ने किया सम्मानित

इसके तहत सरकारी  कुआं, तालाब, आहर व पइन का जीर्णोद्धार किया जायेगा. 15 अगस्त से दिसंबर तक इस अभियान को युद्ध स्तर पर चलाया जायेगा. इसके लिए ग्रामीण विकास विभाग को नोडल विभाग बनाया गया है. कृषि, पशु मत्स्य संसाधन, नगर विकास, जल संसाधन, लघु जल संसाधन, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन, पीएचइडी, ऊर्जा और पंचायती राज विभाग को इसमें शामिल किया गया है.

मुख्यमंत्री के निर्देश पर पुलिस की विशेष शाखा ने अवैध कब्जे वाले  कुआें और तालाबाें को खोजकर मुख्य सचिव को उनकी संख्या उपलब्ध करा दी है. माना जा रहा है कि अब तक  करीब दो लाख ऐसे कुआेें की जानकारी मिल पायी है. 11 जिलों से जानकारी अभी आनी बाकी है. सभी जिलों से रिपोर्ट आयी तो अवैध कब्जे वाले कुओं की संख्या तीन लाख को पार कर जायेगी.
इनमें से सरकारी कुओं को जीवित किया जायेगा.  जल-जीवन-हरियाली  मिशन के तहत राज्य व्यापक स्तर पर पर्यावरण संरक्षण के लिए कार्य कराये  जायेंगे. राज्य में सार्वजनिक क्षेत्रों में तालाबों की संख्या 60 से 65 हजार है. नये जल निकायों या स्रोतों का सृजन सरकारी और निजी जमीन पर कराया जायेगा. बाढ़ के समय नदियों के अतिरिक्त पानी को सूखाग्रस्त इलाकों नवादा, गया, राजगीर में पहुंचाया जायेगा. सभी भूगर्भ जल स्रोत चापाकल, कुओं के किनारे सोख्ता बनाया जायेगा.
हर सरकारी और निजी भवन पर रेन वॉटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगेगा. सोलर ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए निजी और सरकारी भवन पर लगेंगे. हरियाली लाने के लिए बड़े स्तर पर  पौधारोपण होगा़  इसमें सभी सरकारी अधिकारी और कर्मी के अलावा जनप्रतिनिधि भी सहभागी होंगे .कुआं, तालाब, आहर व पइन का होगा जीर्णोद्धार.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here