रणक्षेत्र में तब्दील हुआ औरंगाबाद

0
219

बिहार पुलिस का बदनाम चेहरा शुक्रवार को औरंगाबाद में एक बार फिर उजागर हुआ। शहर में दिवा गश्ती पर निकली नगर थाना के गश्ती दल ने महाराजगंज रोड में शहर के एक चिकित्सक डा. मनीष कुमार को महज इसलिए बेरहमी से पीट डाला क्योंकि कहीं जाने की जल्दीबाजी में उन्होंने पुलिस के वाहन को ओवरटेक कर दिया। ओवरटेक करते ही पुलिस के गश्ती दल ने चिकित्सक के वाहन को ओवरटेक कर रूकने पर मजबूर कर दिया। पंजाब नेशनल बैंक के पास वाहन रोककर चिकित्सक के वाहन से उतरते ही पुलिसकर्मियों ने डॉक्टर की बेरहमी से पिटाई कर दी। चिकित्सक की पिटाई के विरोध में स्थानीय नागरिक आक्रोशित हो उठे और उनकी पुलिस से झड़प हो गई। कुछ देर तक महाराजगंज रोड रणक्षेत्र में तब्दील रहा। चिकित्सक को पीटने वाले पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की मांग को लेकर नागरिकों ने महाराजगंज रोड को जाम कर दिया। इस बीच मौके पर पहुंचे नगर कोतवाल ने नागरिकों को समझा-बुझाकर शांत कराया और चिकित्सक को इलाज के लिए सदर अस्पताल लाया गया। नागरिकों का आरोप है कि गश्ती दल में शामिल एएसआई एनामुल हक शराब के नशे में था और नशे में ही उसने चिकित्सक की पिटाई की है। महाराजगंज रोड में मामला शांत होने के बाद चिकित्सक के इलाज के दौरान अस्पताल के चिकित्सक शराब के नशे के आरोपी एएसआई को अस्पताल लाकर मेडिकल जांच कराने की मांग पर अड़ गये। अंततरू एएसआई को सदर अस्पताल लाया गया और चिकित्सकों ने मुंह को सुंघकर उसके शराब पीने की पुष्टि कर दी। एएसआई के चिकित्सकों द्बारा शराब पीने की पुष्टि किये जाने के बाद वहां मौजूद पुलिसकर्मियों ने यह कहते हुए विरोध किया कि ब्रेथ एनालाइजर से एएसआई की जांच करायी जाये। इस मांग पर उत्पाद विभाग की टीम ब्रेथ एनालाइजर लेकर सदर अस्पताल आई और ब्रेथ एनालाइजर से जांच में उनके द्बारा शराब पीने की पुष्टि नहीं की गई। इसी बीच सदर अस्पताल के चिकित्सक एवं पुलिसकर्मी उलझ पड़े और सदर अस्पताल परिसर भी रणक्षेत्र में तब्दील हो गया। इस दौरान पुलिस की पिटाई से चिकित्सक डा. सुजीत मनोहर का हाथ टूट गया जबकि आधा दर्जन चिकित्सकों एवं मुख्यालय डीएसपी नागेन्द्र सिंह को भी चोंटे आई है। इस दौरान पुलिस कर्मियों ने घटना को कवर कर रहे पत्रकारों को भी नहीं बख्शा और तीन पत्रकार भी पुलिस की लाठी के शिकार हुए। पुलिस की लाठी के शिकार होने वालों में पत्रकार केशव कुमार, ओमप्रकाश सिंह उर्फ विपुल एवं आशुतोष मिश्रा शामिल हैं। खैर मामले की जानकारी मिलने पर डीएम कंवल तनुज एवं एसपी डा. सत्यप्रकाश सदर अस्पताल पहुंचे और उनके द्बारा चिकित्सकों को समझा-बुझाकर कार्रवाई का आश्वासन देकर माहौल को शांत कराया गया। चिकित्सक दोषी पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई करने की मांग को लेकर अड़े हुए हैं और फिलहाल डीएम-एसपी की चिकित्सकों के साथ आईएमए हॉल में बैठक चल रही है।

यह भी पढ़े  औरंगाबाद : सूर्य महोत्सव में आज से सजेगी सुरों की महफिल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here