यही रुझान रहा तो विधान सभा चुनाव में राजद का हो जाएगा सफाया

0
66
file photo

17वीं लोकसभा चुनाव में बिहार में सत्ताधारी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के पक्ष में जो लहर चली, अगर यही लहर 2020 में होने वाले बिहार विधान सभा चुनाव में रही तो लगातार चौथी बार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की भारी बहुमत से वापसी होगी। वहीं मुख्य विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) का पूरी तरह सफाया हो जाएगा और 2010 के बिहार विधान सभा चुनाव में राजद को मिली सीटों से भी कम सीटें 2020 में आयेंगी। लोकसभा चुनाव में सत्ताधारी राजग को 224 विधान सभा क्षेत्रों में बढ़ती मिली तो महागठबंधन में शामिल पार्टियां मात्र 17 विधान सभा क्षेत्रों में बढ़त बनाने में कामयाब रहीं जबकि एआईएमआईएम को दो विधान सभा क्षेत्रों में बढ़त मिली। बिहार विधान सभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद के निर्वाचन क्षेत्र राघोपुर में भी हाजीपुर (सु.) से राजद उम्मीदवार शिवचंद्र राम को मामूली बढ़त मिली तो लालू प्रसाद के बड़े पुत्र व पूर्व स्वास्य मंत्री तेज प्रताप यादव के निर्वाचन महुआ में राजद उम्मीदवार को हार मिली।लोकसभा चुनाव में विधानसभा वार चुनाव परिणाम को यदि देखा जाए तो सत्ताधारी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन में शामिल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को 97, जनता दल यूनाइटेट (जदयू) को 92 और लोक जनशक्ति पार्टी को 35 सीटों पर बढ़त मिली है। वहीं महागठबंधन में शामिल राष्ट्रीय जनता दल को नौ, राष्ट्रीय लोक समता पार्टी को एक और हिन्दुस्तानी अवाम मोर्चा(से.) को एक विधान सभा में बढ़त मिली है। हालांकि राजद और महागठबंधन द्वारा भाकपा माले के लिए छोड़ी गई आरा संसदीय सीट के एक विधान सभा क्षेत्र में भाकपा माले को भी बढ़त मिली है।इस तरह 17 वीं लोकसभा चुनाव में मुख्य विपक्षी गठबंधन को मात्र 17 सीटों पर बढ़त मिली तो असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम को दो विधान सभा सीटों पर बढ़त मिली है। अगले साल होने वाले बिहार विधान सभा चुनाव में एआईएमआईएम के भी खाता खोलने के आसार बढ़ गए हैं। बिहार विधान सभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव अपने निर्वाचन क्षेत्र राघोपुर में राजद उम्मीदवार को मात्र 240 वोटों की ही बढ़त दिला सके। राघोपुर विधान सभा क्षेत्र में हाजीपुर (सु.) क्षेत्र से राजद उम्मीदवार शिवचंद्र राम को 74802 वोट मिले जबकि उनके प्रतिद्वंद्वी लोजपा उम्मीदवार पशुपति कुमार पारस को 74,560 वोट मिले। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के बड़े पुत्र व पूर्व स्वास्य मंत्री तेज प्रताप यादव के निर्वाचन क्षेत्र महुआ में राजद उम्मीदवार को 53,876 वोटों से संतोष करना पड़ा वहीं लोजपा उम्मीदवार को 86,992 वोट मिले। आने वाले समय में बिहार की राजनीति में यदि कोई बड़ा बदलाव नहीं होता है तो राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के दोनों पुत्रों तेज प्रताप यादव और तेजस्वी प्रसाद यादव को भी अपनी सीटें निकालने के लिए काफी पसीने बहाने पड़ेंगे।

यह भी पढ़े  मुख्यमंत्री ने आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना का किया शुभारंभ

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here